india-and-the-united-states-can-align-the-agenda-for-clean-and-green-technology-pm-modi
दुनिया राष्ट्रीय

अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत केरी ने की पीएम मोदी से मुलाकात,जलवायु मुद्दों और ग्रीन तकनीक पर हुई चर्चा

Khaskhabar/अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बुधवार को जलवायु मुद्दों पर मुलाकात कर चर्चा की है. इस दौरान जॉन केरी ने कहा है कि भारत को ग्रीन तकनीक और जलवायु से संबंधी किसी भी योजना में सहयोग करने के लिए अमेरिका हमेशा उसके साथ खड़ा है.नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि भारत और अमेरिका स्वच्छ और ग्रीन तकनीक के लिए 2030 के एजेंडे पर ‘रचनात्मक सहयोग’ कर सकते हैं. इससे पहले जलवायु मुद्दों पर अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की.

Khaskhabar/अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बुधवार को जलवायु मुद्दों पर मुलाकात कर चर्चा की है. इस दौरान जॉन केरी ने कहा है कि भारत को ग्रीन तकनीक और जलवायु से संबंधी किसी भी योजना में सहयोग करने के लिए अमेरिका हमेशा उसके साथ खड़ा है.नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि भारत और अमेरिका स्वच्छ और

एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि मोदी ने उल्लेख किया कि भारत पेरिस समझौते के तहत योगदान देने को लेकर प्रतिबद्ध है और भारत उन देशों में शामिल है जो इन प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के लिए काम कर रहे हैं. मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी के साथ शानदार बातचीत हुई. पर्यावरण के संबंध में कदम उठाने के लिए उनका जुनून और प्रतिबद्धता सराहनीय है.’’

मोदी ने कहा- जलवायु संबंधी कार्यक्रमों के प्रति अमेरिकी राष्ट्रपति की प्रतिबद्धता सराहनीय

प्रधानमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘अमेरिका और भारत पर्यावरण के संबंध में स्वच्छ और ग्रीन तकनीक के लिए 2030 के एजेंडा पर रचानात्मक सहयोग कर सकते हैं.’’ बयान के मुताबिक, केरी ने कहा कि अमेरिका ग्रीन तकनीक के साथ जलवायु योजना को लेकर भारत की मदद करता रहेगा.फिलहाल जॉन केरी के अनुसार भारत को ग्रीन तकनीक और जलवायु से संबंधी किसी भी योजना में अमेरिका हमेशा सहयोग के लिए साथ खड़ा रहेगा. इसके साथ ही भारतीय प्रधानमंत्री मोदी का कहना है कि ग्रीन तकनीक के क्षेत्र में विकास करने के लिए अमेरिका के सहयोग से विश्व के कई देशों पर इसका काफी अच्छा और सकारात्माक प्रभाव पड़ेगा.

ग्रीन तकनीक हासिल करने के लिए अमेरिका भारत को पूरा सहयोग देगा

बयान के मुताबिक केरी ने आश्वस्त किया कि भारत के जलवायु संबंधी योजनाओं और कार्यक्रमों के साथ ग्रीन तकनीक हासिल करने के लिए अमेरिका पूरा सहयोग देने के साथ वित्तीय मदद भी देगा। पीएम ने कहा कि ग्रीन तकनीक हासिल करने में भारत को अमेरिकी सहयोग से दुनिया के दूसरे देशों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

यह भी पढ़े –रेड लाइन के शहीद स्थल मेट्रो स्टेशन की एंट्री बंद,मेट्रो में कोरोना का खौफ जानें DMRC ने क्या कहा

जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति का खास ध्यान

उल्लेखनीय है जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन खासा ध्यान दे रहे हैं। उन्होंने 20 जनवरी को अपने शपथ ग्रहण के बाद अमेरिका के पेरिस जलवायु समझौते में लौटने की घोषणा की थी।मुलाकात के बाद जारी बयान के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत और अमेरिका 2030 तक पृथ्वी पर क्लीन और ग्रीन तकनीक का एजेंडा लागू करने के लिए रचनात्मक सहयोग के साथ आगे बढ़ सकते हैं।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|