Ukraine Ambassador Igor Polikha seeks India's support to normalize the situation
दुनिया

यूक्रेन राजदूत इगोर पोलिखा ने हालात को सामान्‍य बनाने के लिए भारत से मांगा समर्थन

Khaskhabar/यूक्रेन राजदूत:यूक्रेन पर रूसी सेना के हमले को देखते हुए दुनियाभर में अफरातफरी का आलम है। इस संकट के बीच यूक्रेन में पढ़ने गए हजारों छात्र वहां फंस गए हैं जिन्‍हें निकालने की कोशिशें की जा रही हैं। यूक्रेन संकट पर गुरुवार को सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी (CCS) की उच्‍च स्‍तरीय बैठक हुई। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने इस बैठक की अध्यक्षता की। इसमें विभिन्‍न मुद्दों पर चर्चा की गई।

Khaskhabar/यूक्रेन राजदूत:यूक्रेन पर रूसी सेना के हमले को देखते हुए दुनियाभर में अफरातफरी का आलम है। इस संकट के बीच यूक्रेन में पढ़ने गए हजारों छात्र वहां फंस गए हैं
Posted by khaskhabar

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी आज रात रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात कर सकते हैं

 इस बीच समाचार एजेंसी एएनआइ ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी आज रात रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात कर सकते हैं।सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी (CCS) की उच्‍च स्‍तरीय बैठकमें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, एनएसए अजित डोभाल, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी भी मौजूद हैं।

भारत बातचीत के जरिए गतिरोध को हल करने की बात कह चुका

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का भी कहना है कि भारत चाहता है कि शांति कायम होनी चाहिये। सनद रहे अब तक इस मसले पर भारत तटस्‍थ रहा है। सुरक्षा परिषद की बैठक में भी भारत बातचीत के जरिए गतिरोध को हल करने की बात कह चुका है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने यूक्रेन में हालात को गंभीर और विषम बताया है। उन्‍होंने गुरुवार को कहा कि यूक्रेन में फंसे भारतीयों को लेकर सरकार चिंतित है।

भारत सरकार की ओर से इस बारे में काफी पहले एडवाइजरी जारी की थी

अपने नागरिकों को निकालने की हमारी कोशिशें जारी हैं। हमारी पूरी कोशिश है कि हमारे जो बच्चे वहां हैं उन्हें निकाला जाए। उन्‍होंने कहा कि भारत सरकार की ओर से इस बारे में काफी पहले एडवाइजरी जारी की थी। यही नहीं सरकार की ओर से यूक्रेन में विमान भी भेजे गए थे लेकिन किन्‍ही वजहों के चलते विमान को नहीं उतारा जा सका था।

भारतीय दूतावास कीव में काम जारी रखेगा

इस बीच यूक्रेन में भारत के राजदूत पार्थ सत्पथी ने कहा है कि जब तक यूक्रेन में फंसा हर भारतीय सुरक्षित तरीके से स्‍वदेश वापस नहीं पहुंच जाता तब तक भारतीय दूतावास कीव में काम जारी रखेगा। उन्‍होंने कहा कि भारतीय दूतावास यहां प्रशासन के संपर्क में है। भारत सरकार, विदेश मंत्रालय और भारतीय दूतावास की हालात पर बारीक नजर है।

भारत की यूक्रेन में तेजी से बदल रहे हालात पर करीबी नजर

भारतीय दूतावास पूरी तरह सतर्क है और अपने नागरिकों को यूक्रेन से निकालने के उपायों पर मंथन कर रहा है।समाचार एजेंसी पीटीआइ ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से बताया है कि भारत की यूक्रेन में तेजी से बदल रहे हालात पर करीबी नजर है। विदेश मंत्रालय की ओर से स्थापित नियंत्रण कक्ष 24 घंटे काम कर सके इसको लेकर कोशिशें की जा रही हैं।

नई दिल्‍ली में यूक्रेन के राजदूत इगोर पोलिखा ने हालात को सामान्‍य बनाने के लिए भारत से समर्थन मांगा

वहीं विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी गुरुवार को यूरोपीय संघ के विदेश मामलों प्रतिनिधि जोसेफ बोरेल के साथ यूक्रेन संकट पर बातचीत की। समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक यूक्रेन की स्थिति को सामान्य बनाने में भारत किस प्रकार से योगदान कर सकता है… इस बारे में भी चर्चा हुई।  इससे पहले नई दिल्‍ली में यूक्रेन के राजदूत इगोर पोलिखा ने हालात को सामान्‍य बनाने के लिए भारत से समर्थन मांगा।

यह भी पढ़े —UNSC में फिर होगी यूक्रेन पर चर्चा, एक सप्ताह में दूसरी बार बुलाई गई है बैठक

भारत यूक्रेन में हालात को सामान्‍य बनाने के लिए अधिक सक्रिय भूमिका निभा सकता

उनका कहना था कि रूस के साथ भारत के विशेष नजदीकी संबंध हैं। भारत यूक्रेन में हालात को सामान्‍य बनाने के लिए अधिक सक्रिय भूमिका निभा सकता है। इगोर पोलिखा ने यह भी कहा कि प्रधनमंत्री मोदी उन चुनिंदा नेताओं में शुमार हैं जिनकी बात पुतिन ध्‍यान से सुनते हैं। भारत इस निकटता का इस्‍तेमाल हालात को नियंत्रण में लाने के लिए कर सकता है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|