Two vaccine doses gave 95% protection from death against Covid-19's Delta variant: Centre
स्वास्थ

वैक्सीन की दोनों खुराकों ने कोविड-19 के डेल्टा संस्करण के खिलाफ मौत से दी 95% सुरक्षा: ICMR

Khaskhabar/कोरोना की दूसरी लहर में बड़ी संख्या में वे लोग भी संक्रमित हो गए, जिन्होंने वैक्सीन की दोनों या एक डोज ली थी। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के अध्ययन से साफ हुआ है कि इसके लिए मुख्यतौर पर कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट जिम्मेदार है। हालांकि, वैक्सीन लेने वालों को अस्पताल में भर्ती होने की नौबत बहुत कम आई और मौतें भी न के बराबर हुईं।

Khaskhabar/कोरोना की दूसरी लहर में बड़ी संख्या में वे लोग भी संक्रमित हो गए, जिन्होंने वैक्सीन की दोनों या एक डोज ली थी। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के अध्ययन से साफ हुआ है कि इसके लिए
Posted by khaskhabar

वैक्सीन लेने वालों में से 86 फीसद से अधिक संक्रमण डेल्टा वैरिएंट के कारण

आइसीएमआर के एक वरिष्ठ विज्ञानी ने बताया कि अध्ययन में महाराष्ट्र, केरल, गुजरात, उत्तराखंड, कर्नाटक, मणिपुर, असम, जम्मू-कश्मीर, छत्तीसगढ़, राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब, पुडुचेरी, दिल्ली, बंगाल और तमिलनाडु से कुल 677 ऐसे केस लिए गए, जिन्होंने वैक्सीन की कोई न कोई डोज ले रखी थी। इनमें से 71 ने कोवैक्सीन, 604 ने कोविशील्ड और दो ने चीनी वैक्सीन सिनोफार्म लगवाई थीं। अध्ययन में पाया गया कि वैक्सीन लेने वालों में से 86 फीसद से अधिक संक्रमण डेल्टा वैरिएंट के कारण हुआ है, जिसे भारत में दूसरी लहर के लिए मुख्यतौर पर जिम्मेदार माना जाता है। इसके अलावा कप्पा और अल्फा वैरिएंट भी कुछ मामलों में पाए गए।

अध्ययन में शामिल 677 मामले में सिर्फ तीन की मौत

ICMR के अनुसार अध्ययन से एक बार फिर साबित हुआ है कि वैक्सीन भले ही संक्रमण रोकने में पूरी तरह से सफल नहीं हो, लेकिन उसकी गंभीरता को कम करने में कारगर है। अध्ययन में शामिल 677 मामले में सिर्फ तीन की मौत हुई, जो कुल संक्रमितों का 0.04 फीसद है। जबकि कोरोना के कारण मृत्युदर अब भी 1.33 फीसद बनी हुई है। इसी तरह से 677 संक्रमितों में से केवल 67 को अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत पड़ी, जो कुल संक्रमितों का 9.9 फीसद है।

वैक्सीन लेने वालों में से सिर्फ छह फीसद में ही सांस लेने की तकलीफ

यह निष्कर्ष इसीलिए भी अहम है कि दूसरी लहर में अधिकांश संक्रमितों में सांस लेने की शिकायत देखी गई थी और इसी कारण आक्सीजन की किल्लत खड़ी हो गई थी, जबकि वैक्सीन लेने वालों में से सिर्फ छह फीसद में ही सांस लेने की तकलीफ देखने को मिली।

यह भी पढ़े —जलगांव में हेलीकॉप्टर दुर्घटना में प्रशिक्षक की मौत,एक प्रशिक्षु गंभीर रूप से घायल

आंख में जलन व लाली की शिकायत देखने मिली

ICMR ने अध्ययन में यह भी जानने की कोशिश की कि वैक्सीन लेने के बाद संक्रमित होने वालों में कौन-कौन से लक्षण देखे गए। इसमें पाया गया कि सबसे अधिक 69 फीसद में बुखार, 56 फीसद में सिरदर्द व जी-मिचलाना, 45 फीसद में खांसी, 37 फीसद में गले में दर्द, 22 फीसद में स्वाद और गंध का चले जाना, छह फीसद ने दस्त, छह फीसद ने सांस लेने में तकलीफ और एक फीसद में आंख में जलन व लाली की शिकायत देखने मिली है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|