This big government company was sold in the era of privatization, now in the hands of Ratan Tata
कारोबार

निजीकरण के दौर में बिक गई ये बड़ी सरकारी कंपनी, अब रतन टाटा के हाथों में कमान

Khaskhabar/Privatization News: निजीकरण के दौर में एक और बड़ी कंपनी निजी हाथों में सौंप दी गई है. इस बार इस बड़ी सरकारी की कमान रतन टाटा के हाथों में गई है. दरअसल, यह सरकारी कंपनी भी भारी घाटे में चल रही है और यह प्लांट 30 मार्च, 2020 से बंद है. आइये जानते हैं लेटेस्ट अपडेट.निजीकरण के खिलाफ विरोध के बावजूद सरकार ने एक और बड़ी कंपनी को निजी हाथों में सौंप दिया है.

Khaskhabar/Privatization News: निजीकरण के दौर में एक और बड़ी कंपनी निजी हाथों में सौंप दी गई है. इस बार इस बड़ी सरकारी की कमान रतन टाटा के हाथों में गई है.
Posted by khaskhabar

नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) को टाटा ग्रुप (Tata Group) की एक फर्म को सौंपा जा रहा

इस बदिन सरकारी कोमप्न्य को दिग्गज बिजनेस मैन रतन टाटा ने खरीदा है. दरअसल ये कंपनी घाटे में चली रही थी और यह प्लांट 30 मार्च, 2020 से बंद है. गौरतलब है कि ओडिशा स्थित नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (NINL) को टाटा ग्रुप (Tata Group) की एक फर्म को सौंपा जा रहा है, इसकी पूरी प्रक्रिया जुलाई के मध्य तक पूरी होने की संभावना है.

उद्यम मूल्य पर एनआईएनएल में 93.71 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल करने की बोली जीती

एक अधिकारी ने बताया कि टाटा स्टील की यूनिट टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स (टीएसएलपी) ने इस साल जनवरी में 12,100 करोड़ रुपये के उद्यम मूल्य पर एनआईएनएल में 93.71 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल करने की बोली जीती थी. कंपनी ने जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड, नलवा स्टील एंड पावर लिमिटेड और जेएसडब्ल्यू स्टील लिमिटेड के एक गठजोड़ को पीछे छोड़ते हुए यह सफलता हासिल की थी.

यह भी पढ़े —सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर का निधन, पंजाब के भिखीविंड में किया जाएगा अंतिम संस्कार

ओडिशा में 1.1 मीर्ट‍िक टन क्षमता वाला एक इंटीग्रेटेड स्टील प्लांट

अब जल्दी ही रतन टाटा का फर्म इसे सम्हालेगा.बता दें कि नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड का कलिंगनगर, ओडिशा में 1.1 मीर्ट‍िक टन क्षमता वाला एक इंटीग्रेटेड स्टील प्लांट है। यह सरकारी कंपनी भी भारी घाटे में चल रही है और यह प्लांट 30 मार्च, 2020 से बंद है। कंपनी पर 31 मार्च 2021 को 6,600 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का कर्ज और देनदारियां हैं, इसमें प्रमोटरों का 4,116 करोड़ रुपये, बैंकों का 1,741 करोड़ रुपये अन्य लेनदारों और कर्मचारियों का भारी बकाया शामिल है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |