The threat of aroma of domestic spices increased in the world market, along with the area under cultivation of these crops also increased.
कारोबार

विश्व बाजार में बढ़ी घरेलू मसालों की खुशबू की धमक,साथ इन फसलों की खेती का रकबा भी बढ़ा

Khaskhabar/विश्व बाजार में घरेलू मसालों की खुशबू की धमक बहुत अधिक बढ़ी है। कोरोना काल के दौरान मसालों की मांग स्वास्थ्य के पूरक के रूप में होने से घरेलू बाजार के साथ निर्यात मांग में जबर्दस्त वृद्धि दर्ज की गई है। मिर्च, अदरक, हल्दी और जीरे वाली फसलों का प्रदर्शन शानदार रहा है। मसालों की बढ़ी मांग के मद्देनजर इन फसलों की खेती का रकबा भी बढ़ा है। 

Khaskhabar/विश्व बाजार में घरेलू मसालों की खुशबू की धमक बहुत अधिक बढ़ी है। कोरोना काल के दौरान मसालों की मांग स्वास्थ्य के पूरक के रूप में होने से घरेलू बाजार के साथ निर्यात मांग
Posted by khaskhabar

मसालों की पैदावार पिछले सात वर्षों में 60 फीसद अधिक एक करोड़ टन से अधिकल हुई

निर्यात बाजार में घरेलू मसालों के प्रतिस्पर्धी मूल्य मिलने से विदेशी मुद्रा में दोगुना से अधिक की वृद्धि दर्ज की गई है। केंद्रीय कृषि मंत्रालय के जारी आंकड़ों के मुताबिक मसालों की पैदावार पिछले सात वर्षों में 60 फीसद अधिक एक करोड़ टन से अधिकल हुई है। इसका श्रेय मंत्रालय की कई प्रमुख योजनाओं को दिया जा सकता है।

मसाला निर्यात से वर्ष 2020-21 में कुल 29,535 करोड़ रुपए मूल्य की विदेशी मुद्रा प्राप्त हुई

मसाले की खेती में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा गया, जिसका असर वैश्विक बाजार में मसालों के निर्यात पर पड़ा है। वर्ष 2014-15 में जहां 67.64 लाख टन मसालों का उत्पादन किया गया था, वह वर्ष 2020-21 में बढ़कर 1.07 करोड़ टन हो गया है। इसमें अदरक, मिर्च, हल्दी और जीरा की हिस्सेदारी सर्वाधिक रही है। मसाला निर्यात से वर्ष 2020-21 में कुल 29,535 करोड़ रुपए मूल्य की विदेशी मुद्रा प्राप्त हुई। जबकि वर्ष 2014-15 में मसाले के निर्यात से मात्र 14,899 करोड़ रुपए की विदेशी मुद्रा मिली थी।

केंद्रीय कृषि आयुक्त डॉक्टर एसके मल्होत्रा ने तैयार किया

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने मसाले की खेती, रकबा, पैदावार और निर्यात आदि के आंकड़ों वाली ‘स्पाइस स्टैटिस्टिक्स एट ए ग्लांस-2021’ नामक पुस्तक का विमोचन करते हुए इसे बहुपयोगी बताया। आंकड़ों का संग्रह कर इसे केंद्रीय कृषि आयुक्त डॉक्टर एसके मल्होत्रा ने तैयार किया है। तोमर ने कहा कि कोरोना की महामारी के दौरान मसालों को स्वास्थ्य पूरक के रुप में मान्यता दी गई, जिससे मसालों की वैश्विक मांग में बढ़ोतरी हुई है।

बागवानी फसलों के कुल निर्यात में मसाले की हिस्सेदारी 41 फीसद पहुंच गई

सात साल पहले जहां 8.94 लाख टन मसाले निर्यात किए जाते थे वह इस समय बढ़कर 16 लाख टन हो गया है। मात्रा के रूप में 9.8 फीसद और मूल्य के रुप में 10.5 फीसद की वृद्धि दर्ज की गई है। बागवानी फसलों के कुल निर्यात में मसाले की हिस्सेदारी 41 फीसद पहुंच गई है। खाद्य उत्पादें के निर्यात में समुद्री उत्पादों, गैर बासमती व बासमती चावल के बाद मसालों का स्थान है। .

यह भी पढ़े —सैनिक स्कूल में टीजीटी के पदों पर निकली है भर्ती, अंग्रेजी, मैथ्स सहित अन्य विषयों में होनी है नियुक्ति

मसाले के कुल उत्पादन में जीरे की हिस्सेदारी 14.8 फीसद

मसाला खेती की वार्षिक वृद्धि दर 7.9 फीसद रही है। मसाले वाली फसलों का रकहबा 32.24 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 45.29 लाख हेक्टेयर पहुंच गया है। मसाले के कुल उत्पादन में जीरे की हिस्सेदारी 14.8 फीसद, लहसुन 14.7 फीसद, अदरक 7.5 फीसद, सौंफ 6.8 फीसद, धनिया 6.2 फीसद, मेथी 5.8 फीसद, लाल मिर्च 4.2 फीसद और हल्दी की हिस्सेदारी 1.3 फीसद है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|