The sound of the explosion was heard again in Kiev, Ukraine is ready for ceasefire
दुनिया

कीव में फिर सुनी गईं धमाके की आवाज, सीजफायर के लिए तैयार है यूक्रेन

khaskhabar/यूक्रेन की राजधानी कीव में स्थानीय समयानुसार शुक्रवार शाम को एक बार फिर तोपों की गरज सुनाई दी। यह जानकारी न्यूज एजेंसी रायटर्स ने दी। जंग के दूसरे दिन शुक्रवार को रूस के सैनिक राजधानी कीव के काफी करीब पहुंच चुके हैं। रात दिन हो रहे धमाकों  से देश में दहशत है। हालात को देखते हुए आखिरकार यूक्रेन ने समझौते का मन बना लिया है।

khaskhabar/यूक्रेन की राजधानी कीव में स्थानीय समयानुसार शुक्रवार शाम को एक बार फिर तोपों की गरज सुनाई दी। यह जानकारी न्यूज एजेंसी रायटर्स ने दी। जंग के दूसरे दिन शुक्रवार को रूस
ukrane graph day 2-Posted by khaskhabar

रूस का सामना करने के लिए कीव में डटे हुए

दूसरी ओर UNSC में यूक्रेन में रूस के सैन्य कार्रवाई पर वोटिंग की जानी है। इस बीच राष्ट्रपति जेलेन्सकी ने ट्वीट कर फ्रांस को यूक्रेन का सच्चा मित्र बताया है। राष्ट्रपति जेलेन्सकी ने शुक्रवार को एक वीडियो जारी कर इस बात की पुष्टि की वे रूस का सामना करने के लिए कीव में डटे हुए हैं, देश को अकेला छोड़ कहीं नहीं गए हैं।

आज रात रूस राजधानी कीव को दहलाने की कोशिश कर सकता

राष्ट्रपति ने ट्वीट कर बताया कि उन्हें पिछले कुछ घंटों में विदेशी नागरिकों ने इमेल भेजे हैं और पूछा हे कि यूक्रेन के लिए जंग में वे कैसे मदद कर सकते हैं। साथ ही कुछ सुझाव भी दिए हैं। जेलेन्सकी ने कहा कि मेल भेजने वालों में अधिकांश रिटायर्ड मिलिट्री हैं।यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेन्सकी के प्रवक्ता ने कहा है कि आज रात रूस राजधानी कीव को दहलाने की कोशिश कर सकता है। अब यूक्रेन सीजफायर व शांति के लिए सहमत है।

राजधानी कीव को बचा पाएंगी, क्योंकि कब्जे की लड़ाई उसके नजदीक

शुक्रवार को सोशल मीडिया पर प्रवक्ता सर्गी नाइकाइफोरोव (Sergii Nykyforov) ने कहा कि बातचीत के लिए समय और स्थान के चुनाव को लेकर रूस व यूक्रेन के बीच वार्ता जारी है। उन्होंने कहा, ‘यूक्रेन सीजफायर के बारे में बातचीत के लिए तैयार है।’ राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने तो यहां तक कह दिया कि अब उनकी सेनाएं चार दिन तक ही राजधानी कीव को बचा पाएंगी, क्योंकि कब्जे की लड़ाई उसके नजदीक आ गई है।

राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन और विदेश मंंत्री लावरोव पर अमेरिका ने यात्रा प्रतिबंंध का ऐलान किया

यूक्रेन में रूस द्वारा किए गए सैन्य कार्रवाई को लेकर खफा अमेरिका ने पहले आर्थिक प्रतिबंध लगाए। साथ ही वहां के एलिट वर्ग के लोगों पर रोक लगा दिया था और अब राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन और विदेश मंंत्री लावरोव पर अमेरिका ने यात्रा प्रतिबंंध का ऐलान किया है। कीव का होस्टोमेल हवाई अड्डा रूसी सैनिकों के कब्जे में आ गया है। रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि करीब 200 यूक्रेनी सैनिकों को मारकर इस महत्वपूर्ण हवाई अड्डे पर कब्जा किया गया।

जेलेंस्की ने दुनिया से मदद की गुहार लगाई

जबकि यूक्रेन के अनुसार अभी तक की लड़ाई में यूक्रेन के कुल 137 लोग मारे गए हैं और करीब 300 घायल हुए हैं, इनमें सैनिक भी शामिल हैं। जेलेंस्की ने दुनिया से मदद की गुहार लगाई है। जवाब में अमेरिका, यूरोपीय यूनियन और नाटो रूस की निंदा कर रहे हैं।आज रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन पर सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्यों के साथ बैठक की अध्यक्षता की।

पुतिन ने यूक्रेन की सेना को तख्तापलट करने को कह दिया

यूक्रेनी सैनिक पूरे साहस और हिम्मत के साथ रूसी दुश्मनों का सामना कर रहे हैं। मास्को से राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने यूक्रेन की सेना को तख्तापलट करने को कह दिया है। वहीं अमेरिका समेत दुनिया के अधिकांश देशों ने पुतिन व लावरोव के साथ रूस पर कड़े प्रतिबंध का ऐलान कर ही दिया।राजधानी कीव के मेयर के अनुसार, कीव स्थित पावर स्टेशन के पास 3-5 मिनट के भीतर ही पांच धमाकों की आवाज सुनाई दी। 

संयुक्त राष्ट्र की ओर से यूक्रेन की सहायता के लिए आह्वान किया

मसले पर पोप फ्रांसिस ने रूसी व अंग्रेजी भाषा में ट्वीट कर कहा, ‘राजनीति और मानवता की विफलता जंग है।’ वहीं संयुक्त राष्ट्र की ओर से यूक्रेन की सहायता के लिए आह्वान किया है। रायटर्स के अनुसार अमेरिका की एक प्राइवेट कंपनी ने सैटेलाइट इमेज के जरिए यूक्रेन की सीमा से 20 मील दूर दक्षिण बेलारूस में करीब 150 ट्रांसपोर्ट हेलीकाप्टर और बड़ी संख्या में तैनात सैन्य बल को देखने की पुष्टि की है।

NATO द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि यह हालात पर करीब से नजर रख रहा

NATO प्रमुख जेन्स स्टोल्टनबर्ग ने कहा, ‘मास्को का मकसद यूक्रेन की सरकार बदलना है। मैं यूक्रेन की सशस्त्र सेना को सम्मान देना चाहूंगा जो रूस की सेना का सामना हिम्मत से करते हुए वाकई में अपने साहस और हिम्मत का परिचय दे रहे हैं।’NATO द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि यह हालात पर करीब से नजर रख रहा है और यूरोपीयन यूनियन समेत अन्य अंतरराष्ट्रीय संस्थानों के साथ सहयोग करेगा। NATO ने कहा, ‘हमने पूर्वी हिस्से में बचाव के लिए आवश्यक उपाय किए हैं।

रूस के हमले के सामने यूक्रेन अकेला पड़ गया

इस बीच यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने एक बयान में कहा है कि, ‘इटली रूस को तत्परता से प्रतिबंधित करने का समर्थन करेगा।’बता दें कि रूस के हमले के सामने यूक्रेन अकेला पड़ गया है। कोई नहीं जानता कि रूस की ताकत के सामने यूक्रेन कितनी देर टिकेगा। इस संकट के बीच सबकी निगाह यूक्रेन के अनुभवहीन राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की पर टिकी है। नाटो और अमेरिका के रुख को देखने के बाद संभव है कि वह रूस की उस मांग को लेकर खुद ही कोई फैसला लें, जिसमें यूक्रेन को नाटो सदस्य नहीं बनाने की बात है।

यह भी पढ़े —कर्नाटक कोर्ट में हिजाब विवाद पर 11दिनों से सुनवाई जारी,प्रतिबंध को लेकर याचिकाएं दायर

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से यूरोप में पहला बड़ा हमला

पश्चिमी देशों की ओर से दी गई चेतावनी के बावजूद रूस ने गुरुवार शाम को यूक्रेन पर उत्तर, पूर्व और दक्षिण से हमला कर दिया जो द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से यूरोप में पहला बड़ा हमला है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदीमिर जेलेन्सकी ने ट्वीट कर देश के हालात को बयां किया। उन्होंने लिखा कि चेरनीनहिव व मेलिटोपोल के पूर्वी शहरों के प्रवेश पर भारी संघर्ष हुआ लोग मारे गए हैं।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|