The health system in some parts of the US is in serious trouble due to the delta variant
दुनिया स्वास्थ

डेल्टा वैरिएंट के कारण देश अमेरिका के कुछ हिस्सों में स्वास्थ्य प्रणाली गंभीर संकट में

khaskhabar/कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले स्थान पर अमेरिका ही है। यहां सबसे अधिक संक्रमण के मामलों के साथ सबसे अधिक मौतें भी हो रही हैं। कोरोना के  डेल्टा वैरिएंट के कारण अमेरिका के कुछ हिस्सों में स्वास्थ्य प्रणाली गंभीर संकट में है। इस क्रम में यहां कोरोना वैक्सीन फाइजर के बूस्टर डोज की शुरुआत हो गई है। 

khaskhabar/कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले स्थान पर अमेरिका ही है। यहां सबसे अधिक
Posted by khaskhabar

कुछ राज्यों को राशन आधारित चिकित्सा इंतजाम करना पड़ रहा

यूएस सेंटर फार डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की प्रमुख रोशेल वालेंस्की ने कहा कि कुछ राज्यों को राशन आधारित चिकित्सा इंतजाम करना पड़ रहा है। इसका मतलब है कि हम इस बारे में चर्चा कर रहे हैं कौन वेंटिलेटर पर जा रहा है या किसे आइसीयू बेड की जरूरत है? सीबीसी के ‘फेस टू नेशन’ कार्यक्रम में वालेंस्की ने कहा, इन मुद्दों पर चर्चा करना कोई आसान काम नहीं है। हम यह नहीं चाहते कि हमारे स्वास्थ्य क्षेत्र को इन स्थितियों का सामना करना पड़े।

दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों को जारी किया गया

देश अमेरिका की जान्स हापकिन्स यूनिवर्सिटी की ओर से दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों को जारी किया गया। अब तक दुनिया भर में संक्रमण के कुल 231,808,663 मामले आ चुके हैं और 4,747,726 संक्रमितों की मौत हो गई। हालांकि दुनिया भर में इससे बचाव के लिए वैक्सीनेशन जारी है और अब तक कुल 6,088,716,731 डोज लगाए जा चुके हैं। वहीं अमेरिका कोरोना संक्रमण की चपेट में है और यहां अब तक 42,931,259 मामले आ चुके हैं और 688,032 संक्रमितों की मौत भी हो चुकी है।

यह भी पढ़े —दुश्‍मनों के हमले को हवा में मार गिराने में सक्षम,आकाश प्राइम का किया गया सफल परीक्षण

मोंटाना में भी एक बड़े अस्पताल ने संकटकालीन देखभाल मानक लागू किया

इदाहो और अलास्का जैसे राज्यों ने कहा है कि यदि जरूरत पड़ी तो अस्पतालों में राशन आधारित स्वास्थ्य व्यवस्था लागू की जा सकती है। मोंटाना में भी एक बड़े अस्पताल ने संकटकालीन देखभाल मानक लागू किया है, जिसके तहत इस बात पर विचार किया जाता है कि इलाज करने में किसे प्राथमिकता दी जाए। स्वास्थ्य अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि ये उपाय पूरे राज्य में लागू किए जा सकते हैं।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|