धर्म

Sarvapitra Amavasya: मंगलकामना के साथ श्रद्धा से करें पितरों को विदा, सर्वपितृ अमावस्या पर करें श्राद्ध

Sarvapitra Amavasya: अमावस्या के दिन विशेषकर उन लोगों का श्राद्ध किया जाता है जिनकी मृत्यु की के दिन का पता नहीं होता है। साथ ही इस दिन किसी भी मृतक का श्राद्ध किया जा सकता है। आश्विन कृष्ण बड़मावस अथवा अमावस्या पर गया स्थित फल्गु नदी में स्नान करने के बाद तर्पण करने का विधान है