States can give permission to teach Shrimad Bhagwat Geeta in schools, some material will be included in seven and eight
राष्ट्रीय

राज्य दे सकते हैं स्कूलों में श्रीमद्भगवत गीता को पढ़ाने की अनुमति, सात व आठ में कुछ सामग्री शामिल

Khaskhabar/केंद्र सरकार ने सोमवार को लोकसभा में कहा कि राज्य सरकारें चाहें तो स्कूलों में श्रीमद्भगवत गीता पढ़ाने की व्यवस्था कर सकती हैं। स्कूलों की इच्छा के अनुरूप वहां भोजपुरी भाषा भी पढ़ाई जा सकती है।  केंद्रीय शिक्षा राज्यमंत्री अन्नपूर्णा देवी ने कहा, ‘शिक्षा राज्य का विषय है। अगर राज्य सरकार चाहे तो श्रीमद्भगवत गीता को पाठ्यक्रम में शामिल कर सकती है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के अंतर्गत कक्षा छह, सात व आठ में श्रीमद्भगवत गीता की कुछ सामग्री को पढ़ाया भी जा रहा है।’

Khaskhabar/केंद्र सरकार ने सोमवार को लोकसभा में कहा कि राज्य सरकारें चाहें तो स्कूलों में श्रीमद्भगवत गीता पढ़ाने की व्यवस्था कर सकती हैं। स्कूलों की इच्छा के अनुरूप वहां भोजपुरी भाषा
Posted by khaskhabar

देशभर के स्कूली छात्रों को श्रीमद्भगवत गीता पढ़ाने पर विचार कर रही

 उत्तर मुंबई से भाजपा सांसद गोपाल शेट्टी ने प्रश्नकाल के दौरान पूछा था कि क्या सरकार देशभर के स्कूली छात्रों को श्रीमद्भगवत गीता पढ़ाने पर विचार कर रही है। उन्होंने लखीमपुर खीरी प्रकरण को लेकर प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस सदस्यों को श्रीमद्भगवत गीता पढ़ने की सलाह भी दी।

गीता को यूजीसी-नेट परीक्षा में भी शामिल कर लिया गया

एक लिखित सवाल के जवाब में केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने बताया कि योग विषय के अंतर्गत श्रीमद्भगवत गीता को यूजीसी-नेट परीक्षा में भी शामिल कर लिया गया है। उन्होंने कहा, ‘अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआइसीटीई) ने वर्ष 2018 में यूजी इंजीनियरिंग में भारतीय पारंपरिक शिक्षा प्रणाली कोर्स की शुरुआत की है, जिसमें श्रीमद्भगवत गीता का कुछ हिस्सा शामिल है।’

कक्षा एक से 12 तक के लिए भोजपुरी में पाठ्य सामग्री विकसित की गई

राज्य भोजपुरी भाषा को लागू कर सकते हैं।’ केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा, ‘राज्य से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बिहार में भोजपुरी पढ़ाई जा रही है। बिहार राज्य पाठ्यक्रम 2008 के तहत कक्षा एक से 12 तक के लिए भोजपुरी में पाठ्य सामग्री विकसित की गई है और उसे दीक्षा प्लेटफार्म पर अपलोड किया गया है।’

यह भी पढ़े —युवाओं को मुफ्त स्मार्ट फोन और टैबलेट के इंतजार की घड़ी खत्म,25 दिसंबर को योजना का शुभारंभ

प्रदेश के लोग काफी समय से इसकी मांग कर रहे

भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने पूछा कि क्या सरकार भोजपुरी को मान्यता देने अथवा कक्षा एक से 12 तक व उच्च शिक्षा के पाठ्यक्रम में इसे शामिल करने पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि झारखंड, बिहार व उत्तर प्रदेश के लोग काफी समय से इसकी मांग कर रहे हैं। मंत्री ने कहा, ‘नई शिक्षा नीति के तहत बच्चों की भारतीय व क्षेत्रीय भाषा में पढ़ाई अनिवार्य कर दी गई है। 

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|