Sarabjit Singh's sister Dalbir dies, last rites will be performed in Bhikhiwind, Punjab
राष्ट्रीय

सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर का निधन, पंजाब के भिखीविंड में किया जाएगा अंतिम संस्कार

khaskhabar/पंजाब के सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर का शनिवार देर रात निधन हो गया है. बता दें कि सरबजीत सिंह को को साल 1991 में पाकिस्तान की एक अदालत ने जासूसी के लिए मौत की सजा सुनाई थी और 2013 में उनकी मृत्यु हो गई थी.

khaskhabar/पंजाब के सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर का शनिवार देर रात निधन हो गया है. बता दें कि सरबजीत सिंह को को साल 1991 में पाकिस्तान की एक अदालत ने जासूसी के लिए मौत
Posted by khaskhabar

60 साल की दलबीर कौर की निधन का कारण कार्डियक अरेस्ट (cardiac arrest) बताया जा रहा

दलबीर कौर का अंतिम संस्कार आज पंजाब के भिखीविंड में किया जाएगा.जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में मारे गए सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर का शनिवार देर रात निधन हो गया. 60 साल की दलबीर कौर की निधन का कारण कार्डियक अरेस्ट (cardiac arrest) बताया जा रहा है. बता दें कि पंजाब के रहने वाले सरबजीत सिंह को पाकिस्तान से भारत वापस लाने के लिए उनकी बहन ने मुहिम छेड़ी थी.

सरबजीत को पाकिस्तान की एक अदालत ने आतंकवाद एवं जासूसी के लिए दोषी ठहराया

जानकारी के मुताबिक, दलबीर कौर का अंतिम संस्कार आज पंजाब के भिखीविंड में किया जाएगा. बता दें कि सरबजीत को पाकिस्तान की एक अदालत ने आतंकवाद एवं जासूसी के लिए दोषी ठहराया था और 1991 में मौत की सजा सुनायी थी.

सरकार ने 2008 में सरबजीत को फांसी देने पर अनिश्चितकाल के लिए रोक लगा दी

हालांकि सरकार ने 2008 में सरबजीत को फांसी देने पर अनिश्चितकाल के लिए रोक लगा दी थी. इसके बाद अप्रैल 2013 में लाहौर में कैदियों के हमले के बाद सरबजीत की मौत हो गई थी. बता दें कि सरबजीत ने पाकिस्तान में दावा किया था कि वह एक किसान है और सीमा के निकट उसका घर है. वह भटक कर पाकिस्तान की सीमा में चला आया है, लेकिन उसे गिरफ्तार कर लिया गया. इसके बाद उसे फांसी की सजा सुना दी गई.

यह भी पढ़े —PM Modi Hyderabad Visit: तीन जुलाई को राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल होंगे PM मोदी

कौर 2005 में बीजेपी के तब नजदीक आयीं

सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर दिसंबर 2016 में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हुई थीं. कौर 2005 में बीजेपी के तब नजदीक आयीं थीं जब वह अपने भाई को जेल के बाहर निकालने के लिए संघर्ष कर रही थीं.

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |