Russia suspended from UN Human Rights Council, India maintains neutral stand
राष्ट्रीय

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से रूस सस्पेंड, भारत ने कायम रखा तटस्थ रुख

Khaskhabar/अमेरिका और उसके सहयोगी देशों के प्रस्ताव पर गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) से रूस को निलंबित कर दिया गया। अमेरिका और रूस के दबाव को दरकिनार करते हुए भारत ने यूक्रेन मसले पर अपना तटस्थ रुख बरकरार रखा। भारत समेत 58 देश संयुक्त राष्ट्र महासभा में हुए मतदान से अनुपस्थित रहे। जबकि निलंबन के प्रस्ताव के समर्थन में 93 वोट पड़े और 24 वोट विरोध में पड़े।

Khaskhabar/अमेरिका और उसके सहयोगी देशों के प्रस्ताव पर गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) से रूस को निलंबित कर दिया गया।
Posted by khaskhabar

93 देशों ने अमेरिका का साथ दिया और 24 देश रूस के साथ खड़े हुए

अर्थात 93 देशों ने अमेरिका का साथ दिया और 24 देश रूस के साथ खड़े हुए।47 सदस्यों वाली परिषद से रूस के निलंबन वाले प्रस्ताव पर मतदान को लेकर अमेरिका और रूस ने सदस्य देशों पर लगातार दबाव बनाया हुआ था। अमेरिका जहां अपने प्रस्ताव के समर्थन में भारत का साथ चाहता था, वहीं रूस ने बुधवार को कहा था कि प्रस्ताव के समर्थन और मतदान से अनुपस्थित रहने वाले देशों को वह एक नजर से देखेगा।

भारत ने किसी का पक्ष नहीं लिया है और उसकी भूमिका तटस्थ वाली रही

ऐसे देशों को रूस गैर मित्र देश की श्रेणी में रखेगा और भविष्य में उनके खिलाफ कार्रवाई करेगा।संयुक्त राष्ट्र में यूक्रेन मसले पर हुए मतदान में भारत ने किसी का पक्ष नहीं लिया है और उसकी भूमिका तटस्थ वाली रही। हां, भारत ने रूस के साथ अपनी पुरानी मित्रता कायम रखते हुए यूक्रेन पर रूसी हमले की कभी निंदा नहीं की लेकिन वहां पर शांति कायम रखने की इच्छा लगातार जताई।

संयुक्त राष्ट्र निकायों में युद्ध अपराधियों के लिए कोई जगह नहीं

यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) की ओर से संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से रूस को निलंबित करने के फैसले का स्वागत किया। उन्‍होंने कहा कि हम सभी सदस्य देशों के आभारी हैं जिन्होंने इस प्रस्ताव का समर्थन किया और इतिहास के सही पक्ष को चुना। संयुक्त राष्ट्र निकायों में युद्ध अपराधियों के लिए कोई जगह नहीं है।बूचा में 400 से ज्यादा नागरिकों की हत्या पर भारत ने कड़ा रुख दिखाते हुए उसकी निंदा की और स्वतंत्र जांच की मांग की।

यह भी पढ़े —योगी सरकार 100 दिनों में उत्तर प्रदेश के 9.74 लाख युवाओं को देगी टैबलेट और स्मार्ट फोन

रूस के हमले के विरोध में संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रस्ताव लाया

अमेरिका यूक्रेन पर रूस के हमले के विरोध में संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रस्ताव लाया था। इसी महासभा के सदस्य गोपनीय मतदान के जरिये मानवाधिकार परिषद के 47 सदस्यों का चुनाव करते हैं। यूक्रेन मसले पर भारत के तटस्थ रुख से अमेरिका और ब्रिटेन को जहां बौखलाहट हुई है, वहीं अमेरिकी दबाव न मानने के लिए रूस ने प्रसन्नता जाहिर की और तटस्थ रुख के लिए भारत का शुक्रिया अदा किया।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|