राष्ट्रीय

Rishi Panchami Vrat 2020:जानिए इस बार कब है ऋषि पंचमी, सही तारीख़ और मुहूर्त,महिलाओं के लिए कैसे और क्यों जरूरी यह व्रत

Rishi Panchami Vrat 2020:ऋषि पंचमी का व्रत काफी महत्वपूर्ण व्रत होता है। यह व्रत जाने-अनजाने में हुए पाप से मुक्ति दिलाता है। इस दिन महिलाएं और कुंवारी कन्याएं व्रत रखकर सप्तऋषि के प्रति श्रद्धा-भाव को प्रकट करती है।ऋषि पंचमी का व्रत या विशेष अवसर भादो माह की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि के दिन आता है। इस दिन महिलाएं व्रत रखकर सप्तऋषि का पूजन करती है।

Rishi Panchami Vrat: ऋषि पंचमी व्रत की कथा और महत्व | Katha and  Significance | Boldsky - YouTube
Posted by khaskhabar

हमारे देश में साधु-संतों, ऋषि-मुनियों आदि को बहुत सम्मान दिया जाता है। हमारा देश त्यौहारों का देश है और ऋषि पंचमी नाम का त्यौहार तो पूर्णतः ऋषियों को ही समर्पित होता है।इस दिन किसी देवी-देवता का पूजन नहीं होता है। जिन सात ऋषियों का पूजन होता है, उन्हें ऋषि वशिष्ठ जी, ऋषि जमदग्नि जी, ऋषि अत्रि जी, ऋषि विश्वामित्र जी, ऋषि कण्व जी, ऋषि भारद्वाज जी और ऋषि वामदेव के नाम से जाना जाता है।

photo gallery of Significance of Rishi Panchami
Posted by khaskhabar

इस बार यह त्यौहार कब आ रहा है और इससे जुड़ा पूजा का शुभ मुहूर्त क्या है ?

ऋषि पंचमी की तारीख़ या तिथि की बात की जाए तो इस बार यह त्यौहार 23 अगस्त को आ रहा है। 22 अगस्त को शाम 7 बजकर 57 मिनट से पंचमी तिथि की शुरुआत होगी जबकि इसका समापन 23 अगस्त को शाम 5 बजकर 4 मिनट पर होगा। आपको जानकरी के लिए बता दें कि भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को ऋषि पंचमी के रूप में मनाया जाता है।

3 सितंबर को इस विधि से करें ऋषि पंचमी का व्रत और पूजा
Posted by khaskhabar

ऋषि पंचमी का शुभ मुहूर्त…

व्रत के पूजन की बात की जाए तो इसके लिए शुभ मुहूर्त 23 अगस्त को सुबह 11 बजकर 6 मिनट से दोपहर 1 बजकर 41 मिनट तक का है। पूजन का समय इस बार कुल 2 घंटे 36 मिनट का है।

व्रत रखने से क्या लाभ होता है ?

इस व्रत काफी महत्वपूर्ण व्रत होता है। यह व्रत जाने-अनजाने में हुए पाप से मुक्ति दिलाता है। इस दिन महिलाएं और कुंवारी कन्याएं व्रत रखकर सप्तऋषि के प्रति श्रद्धा-भाव को प्रकट करती है। वहीं व्रत की कथा की बात की जाए तो व्रत की कथा यदि महिलाओं से मासिक धर्म के दौरान किसी भी तरह की ऐसी गलती हुई है जो कि धार्मिक दृष्टि से उचित नहीं हैं तो महिलाओं को इसका दोष लगता है और दोष से मुक्ति के लिए महिलाएं ये व्रत रखती है या महिलाओं के गलती से मुक्ति के लिए यह व्रत रखना चाहिए।

यह भी पढ़े —Hartalika Teej: महिलाएं सुहाग के लिए और कन्याएं सुयोग्य वर के लिए रखती हैं व्रत, जानिए व्रत के नियम, मुहूर्त और पूजा विधि

Rishi Panchami Vrat 2020:जाने-अनजाने में हुए पाप से मुक्ति दिलाता है

जब महिलाएं मासिक धर्म से गुजर रही होती है, तो उन्हें अपवित्र माना जाता है। ऐसे में महिलाओं को कई तरह के नियमों से गुजरना होता है, हालांकि कभी-कभी जाने-अनजाने में महिलाओं से इस दौरान गलती हो जाती है।ऐसे में महिलाएं ऋषि पंचमी का व्रत रखकर इस दोष से निजात पा सकती है।महिलाओं के मासिक धर्म से संबंधित है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar
फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|