RBI reschedules MPC meet by a day to February 8
कारोबार

रिजर्व बैंक के गवर्नर डा. शक्तिकांत दास की अगुआई में मौद्रिक नीति समिति की बैठक आज

Khaskhabar/रिजर्व बैंक के गवर्नर डा. शक्तिकांत दास की अगुआई में मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक मंगलवार से शुरू होगी और आम बजट 2022-23 के बाद पहली बार मौद्रिक नीति समीक्षा में लिए फैसलों का एलान गुरुवार को किया जाएगा। सोमवार को कई बैंकों की तरफ से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि ढाई वर्ष के अंतराल के बाद केंद्रीय बैंक सस्ते कर्ज की दरों पर पर्दा गिराने का सिलसिला शुरू कर देगा।

Khaskhabar/रिजर्व बैंक के गवर्नर डा. शक्तिकांत दास की अगुआई में मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक मंगलवार से शुरू होगी और आम बजट 2022-23 के बाद पहली बार मौद्रिक नीति समीक्षा
Posted by khaskhabar

बैंक जो भी फैसला करेगा उस पर क्रूड की कीमतों का बड़ा असर होगा

हालांकि जिस तरह से हाल के दिनों में कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि हो रही है उसे देखते हुए यह भी संकेत है कि केंद्रीय बैंक जो भी फैसला करेगा उस पर क्रूड की कीमतों का बड़ा असर होगा। दिसंबर, 2021 से जनवरी, 2022 के दौरान क्रूड 24 प्रतिशत तक महंगा हुआ है।क्रूड की बढ़ती कीमतों को लेकर केंद्र सरकार की ¨चता भी सामने आ रही है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड महंगा होता है उसी हिसाब से पेट्रोल व डीजल भी महंगे होते हैं

सोमवार को राज्यसभा में पेट्रोलियम मंत्री हरदीप ¨सह पुरी ने एक लिखित सवाल के जवाब में बताया कि भारत जिन बाजारों से क्रूड खरीदता है वहां क्रूड एक दिसंबर, 2021 को 71.32 डालर प्रति बैरल थी जो 31 दिसंबर, 2022 को बढ़कर 89.41 डालर प्रति बैरल हो गई है। बता दें कि जिस हिसाब से अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड महंगा होता है उसी हिसाब से पेट्रोल व डीजल भी महंगे होते हैं।

मंहगे क्रूड से होने वाली परेशानियों के बारे में बताया

सरकार की तरफ से यह भी बताया गया है कि क्रूड की महंगाई को लेकर वो तेल उत्पादक देशों के साथ संपर्क में है और उन्हें मंहगे क्रूड से होने वाली परेशानियों के बारे में बताया गया है।खुदरा कीमतों में वृद्धि का सिलसिला हो सकता है शुरू आंकड़ों के हिसाब से देखें तो तकरीबन नौ वर्षों बाद ऐसी स्थिति आ रही है कि क्रूड बहुत तेजी से महंगा हो रहा है।

पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतों में वृद्धि का सिलसिला शुरू

सिर्फ जनवरी, 2022 में क्रूड की कीमतों में 19 प्रतिशत का इजाफा हुआ है जो वर्ष 1997 के बाद किसी एक महीने में दर्ज सबसे बड़ी वृद्धि है।सरकारी तेल कंपनियों की तरफ से मार्च, 2022 के शुरुआत से पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतों में वृद्धि का सिलसिला शुरू करना पड़ सकता है। इसका असर महंगाई पर पड़ेगा जिसको लेकर रिजर्व बैंक पहले ही चिंता जता चुका है।

दोनों हालातों का घरेलू बाजार पर व्यापक असर

हालांकि महंगे क्रूड से रुपये की कमजोरी और चालू खाते में घाटे पर (देश में आने वाली विदेशी मुद्रा व देश से बाहर जाने वाली विदेशी मुद्रा का अंतर) भी विपरीत असर होगा। इन दोनों हालातों का घरेलू बाजार पर व्यापक असर हो सकता है जिससे निपटने के लिए आरबीआइ को अभी से लामबंदी करनी होगी।

यह भी पढ़े —मैक्रों पहुंचे मास्को, पुतिन से करेंगे यूक्रेन शांति की अपील,वार्ता के परिणामों पर पूरी दुनिया की नजरें

2021 में भारत ने औसतन 78.7 डालर की दर से 30.9 अरब डालर का क्रूड खरीदा

जुलाई से सितंबर, 2021 तक भारत ने 72 डालर प्रति बैरल की दर से क्रूड आयात किया था और इस पर मौद्रिक नीति कुल 26.3 अरब डालर खर्च किए गए थे। इसके बाद अक्टूबर-दिसंबर, 2021 में भारत ने औसतन 78.7 डालर की दर से 30.9 अरब डालर का क्रूड खरीदा। इस वजह से उक्त अवधि में व्यापार घाटा (आयात व निर्यात का अंतर) 44.4 अरब डालर से बढ़कर 64.3 अरब डालर का हो गया है। यह जितना बढ़ेगा, आरबीआइ के लिए चुनौती उतनी ही बढ़ेगी।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|