RBI is working on the strategy to bring digital currency, some countries have implemented CBDC
कारोबार राष्ट्रीय

आरबीआइ कर रहा है डिजिटल मुद्रा लाने की रणनीति पर काम,कुछ देशों ने सीबीडीसी को किया लागू

Khaskhabar/भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) के डिप्टी गवर्नर टी. रबी शंकर ने गुरुवार को कहा कि बैंक चरणबद्ध तरीके से खुद की डिजिटल मुद्रा लाने की रणनीति पर काम कर रहा है। बैंक इसे पायलट आधार पर थोक तथा खुदरा क्षेत्रों में पेश करने की प्रक्रिया में है। उन्होंने कहा कि सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBCD) को लेकर सोच-विचार काफी आगे बढ़ चुका है और दुनिया के कई केंद्रीय बैंक इस दिशा में लगातार काम कर रहे हैं।

Khaskhabar/भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) के डिप्टी गवर्नर टी. रबी शंकर ने गुरुवार को कहा कि बैंक चरणबद्ध तरीके से खुद की डिजिटल मुद्रा लाने की रणनीति पर काम कर रहा

डिजिटल करेंसी को इस रूप से किया जा सकता है लागू

केंद्रीय बैंक के डिप्टी गवर्नर ने कहा, ”अन्य केंद्रीय बैंकों की तरह रिजर्व बैंक भी लंबे समय से CBCD से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर गौर कर रहा है।”उन्होंने कहा कि सामान्य तौर पर कुछ देशों ने खास उद्देश्यों के लिए सीबीडीसी को लागू किया है।शंकर ने कहा, ”आरबीआई अपनी खुद की डिजिटल करेंसी चरणबद्ध तरीके से लाने की रणनीति पर काम कर रहा है। केंद्रीय बैंक की डिजिटल करेंसी को इस रूप से लागू किया जा सकता है जिससे बैंकिंग प्रणाली और मौद्रिक नीति पर किसी तरह का प्रभाव देखने को ना मिले।”

क्रियान्वयन के लिए कानूनी बदलाव की दरकार

उन्होंने कहा, ‘‘…निकट भविष्य में रिटेल एवं होलसेल सेक्टरों में पायलट आधार पर इसे लागू किया जा सकता है….।’’डिप्टी गवर्नर के मुताबिक इसके क्रियान्वयन के लिए कानूनी बदलाव की दरकार होगी क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम के तहत मौजूदा प्रावधान करेंसी को भौतिक रूप से ध्यान में रखते हुए बनाए गए हैं।

सीबीडीसी की संभावना तलाशने में लगे

शंकर के अनुसार सीबीडीसी के तहत उपभोक्ताओं को उन डिजिटल मुद्राओं में देखी गई डरावनी अस्थिरता से बचाने की जरूरत है, जिन्हें कोई सरकारी गारंटी हासिल नहीं है। उन्होंने कहा कि विभिन्न देशों के केंद्रीय बैंक सीबीडीसी की संभावना तलाशने में लगे हैं और कुछ देशों में इस दिशा में काम काफी आगे भी बढ़ा है।

यह भी पढ़े —लद्दाख में 750 करोड़ रुपये की लागत से की जाएगी सेंट्रल यूनिवर्सिटी की स्थापना

अंतर-मंत्रालयी समिति ने नीति और कानूनी पहलुओं का परीक्षण किया

विधि सेंटर फॉर लीगल पॉलिसी के आनलाइन कार्यक्रम के दौरान चर्चा के दौरान शंकर का कहना था कि सीबीडीसी को लेकर विचार अब क्रियान्वयन के करीब पहुंच गया है। उल्लेखनीय है कि वित्त मंत्रालय द्वारा गठित एक उच्च स्तरीय अंतर-मंत्रालयी समिति ने नीति और कानूनी पहलुओं का परीक्षण किया है और देश में सीबीडीसी को डिजिटल मुद्रा के रूप में पेश करने की सिफारिश की है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|