patna-three-young-students-of-patna-invent-special-device-to-stop-urine-in-open-place-bramk
राष्ट्रीय

खुले में पेशाब करेंगे तो बजने लगेगा अलार्म,पटना के तीन छात्रों ने बनाई अनोखी डिवाइस

Khaskhabar/खुले में पेशाब करेंगे तो बजने लगेगा अलार्म.बिहार (Bihar) के पटना (Patna) जिला के रहने वाले तीन छात्रों विवेक (Vivek) , प्रशांत (Prashant) और प्रियांशु राज (Priyanshu Raj) ने स्वच्छता के प्रति अपनी गहरी सोच का उदाहरण पेश किया है। आपको बता दें स्वच्छ भारत (clean India), स्वस्थ्य भारत (Healthy india) का नारा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने देश के नागरिकों के लिए दिया है। पीएम मोदी के इस नारे को मूर्त रूप देने के प्रयासों में वर्तमान में पटना नगर निगम (Patna Municipal Corporation) जुटी हुई है।

Khaskhabar/खुले में पेशाब करेंगे तो बजने लगेगा अलार्म.बिहार (Bihar) के पटना (Patna) जिला के रहने वाले तीन छात्रों विवेक (Vivek) , प्रशांत (Prashant) और प्रियांशु राज (Priyanshu Raj) ने स्वच्छता के प्रति अपनी गहरी सोच का उदाहरण पेश किया है। आपको बता दें स्वच्छ भारत
Posted by khaskhabar

पटना नगर निगम स्वच्छ्ता सर्वेक्षण 2021 (Sanitation Survey 2021) को लेकर स्वच्छता में अपनी रैंकिंग सुधारने की दिशा में लगातार कार्य कर रही है। दूसरी ओर पटना निगम का इस कार्य को करने में तीन छात्रों प्रतिभाशाली प्रशांत, प्रियांशु राज और विवेक ने खास सहयोग कर दिया है। जानकारी के अनुसार, इन तीन छात्रों ने दो गजब की डिवाइस (Amazing device) तैयार की हैं। इनमें से एक खुले में टॉयलेट करने पर टोकेगी तो दूसरी सार्वजनिक शौचालयों की सफाई रख-रखाव के बारे में सूचना देती रहेगी।

महज 2200 का खर्च

मसलन जब कोई व्यक्ति खुले में यूरिन करता है तो यह डिवाइस आवाज करने लगता है. इस डिवाइस को बनाने वाले प्रियांशु राज बताते हैं कि इस डिवाइस को बनाने में महज 2200 रुपये की लागत आती है. प्रियांशु राज के मुताबिक शौचालय का उपयोग करने के बाद प्रत्येक फीडबैक वोटिंग के बाद दो सेकेंड के भीतर मशीन की स्क्रीन पर चार सूचनाएं दिखाई देंगी इनका मतलब यह है कि प्रतिक्रिया सफलतापूर्वक फीड हो गई है इससे यह भी पता चलेगा कि शौचालय साफ है या नहीं.

10 हजार डेटा स्टोर करती है यह मशीन

प्रियांशु के अनुसार स्वच्छता का फीड बैक देने वाली यह मशीन 10 हजार डेटा स्टोर करके रख सकती है. अगर कोई अधिकारी स्वच्छता से जुड़ी जानकारी लेना चाहता है तो इस मशीन से ले सकता है. 10 हजार डाटा एकत्र होने के बाद मशीन खुद फॉर्मेट हो जाती है और फिर जीरो से शुरुआत करने लगती है. इस डिवाइस का आविष्कार करने वाले युवकों में से एक प्रशांत का कहना है कि यह मशीन उनकी खुद की सोच का नतीजा है. पिछले साल जब देश मे जनता कर्फ्यू लागू था तभी इनके दिमाग में ऐसा कुछ करने का विचार आया. इसके बाद इन्होंने इसकी चर्चा अपने साथियों से की और फिर विवेक और प्रियांशु राज के सहियोग से इस डिवाइस का निर्माण कर लिया.

यह भी पढ़े –एसबीआई ने ग्राहकों को दिया झटका,महंगा किया होम लोन,प्रोसेसिंग फीस पर छूट भी खत्म

कस्टमाइज्ड फीडबैक डिवाइस

प्रियांशु राज इस डिवाइस के बारे में विस्तार पूर्वक बताते हैं कि यह एक कस्टमाइज्ड फीडबैक डिवाइस है.  इसमें 3 गुना 1 इंच का डिस्प्ले लगा हुआ है इसके नीचे पांच रंगों के पांच पुश बटन हैं. इनमें हरा रंग बेहतर, नीला रंग अच्छा, सफेद औसत और पीला बेकार और लाल बहुत बेकार की प्रतिक्रिया का विकल्प है. शौचालय का इस्तेमाल करने के बाद उसकी साफ सफाई के अनुसार इनमें से किसी भी बटन को दबाने पर बीप की आवाज आएगी और मिनटों में आपकी प्रतिक्रिया मशीन में कैद हो जाएगी. अगर आपको अपनी प्रतिक्रिया बदलनी हो तो मशीन द्वारा 10 मिनट का समय दिया जाता है इससे आप वापस फीडबैक दे सकते हैं,

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|