north-korean-ruler-kim-jong-un-sister-warns-usa-to-stay-away
राष्ट्रीय

उत्‍तर कोरिया के तानाशाह क‍िम जोंग की बहन ने बाइडेन सरकार को क्यों दी धमकी, जान‍िए किस वजह से हैं नाराज

Khaskhabar/उत्तर कोरिया के तानाशाह नेता किम जोंग-उन की बेहद शक्तिशाली बहन किम यो जोंग ने अमेरिका को सख्त लहजे में चेतावनी दी है। किम यो जोंग ने दक्षिण कोरिया में चल रहे सैन्य अभ्यास की आलोचना की। उन्होंने दक्षिण कोरिया से शांति समझौता तोड़ने की भी धमकी दी। उन्‍होंने नए अमेरिकी प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर शांति चाहते हैं तो बुरे व्‍यवहार से परहेज करें। उत्‍तर कोरिया की राज्‍य मीडिया केसीएनए ने किम यो जोंग का बयान प्रकाशित किया है। किम की अमेरिका के जो बाइडन प्रशासन को लेकर यह पहली प्रतिक्रिया है।

Khaskhabar/उत्तर कोरिया के तानाशाह नेता किम जोंग-उन की बेहद शक्तिशाली बहन किम यो जोंग ने अमेरिका को सख्त लहजे में चेतावनी दी है। किम यो जोंग ने दक्षिण कोरिया में चल रहे सैन्य अभ्यास की आलोचना की। उन्होंने दक्षिण कोरिया से शांति समझौता तोड़ने की भी धमकी दी। उन्‍होंने नए अमेरिकी प्रशासन को चेतावनी देते
Posted by khaskhabar

जिस लहजे में बाइडेन प्रशासन को धमकी दी है, वह काफी आपत्तिनजक

अमेरिका उत्तर कोरिया के साथ बातचीत कर सुलह का कोई रास्ता निकालने की कोशिश कर रहा था लेकिन इसके जवाब में उसे मिली है धमकी. किम जोंग उन की बहन ने बाइडेन प्रशासन को कड़े शब्दों में चेतावनी देकर साफ कर दिया है कि उत्तर कोरिया फिलहाल बातचीत के मूड में नहीं है. तानाशाह किम जोंग उन की बहन ने जिस लहजे में बाइडेन प्रशासन को धमकी दी है, वह काफी आपत्तिनजक है. जाहिर है ऐसे में तनाव और बढ़ेगा. अब तक डिप्लोमेटिक चैनल के जरिए बातचीत शुरू करने की कोशिश करने वाले अमेरिका का रुख अब इस पर क्या रहेगा यह देखना होगा.

हमारे पार्टनर और सहयोगी देश उत्तर कोरिया के बारे में क्या सोचते हैं

किम यो जोंग के बयान के संदर्भ में जब अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन से सवाल पूछा गया तो उन्होंने टोक्यो में कहा कि हमें इस बयान की जानकारी है, लेकिन हमारी प्रतिक्रिया से ज्यादा महत्वपूर्ण ये है कि हमारे पार्टनर और सहयोगी देश उत्तर कोरिया के बारे में क्या सोचते हैं।

संबंधों को मधुर करने के लिए साउथ कोरिया के राष्ट्रपति मून जे उन की ओर से फिर से कदम उठाया गया

ज्ञात हो कि उत्‍तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच संबंधों में काफी लंबे समय से खटास है। दोनों देशों के बीच संबंधों को मधुर बनाए रखने के लिए कई कदम उठाए गए, मगर फायदा नहीं हुआ। आज भी दोनों देशों के बीच तल्खी बनी हुई है। पिछले नवंबर के महीने दोनों देशों के बीच संबंधों को मधुर करने के लिए साउथ कोरिया के राष्ट्रपति मून जे उन की ओर से फिर से कदम उठाया गया था। इसमें दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून-जे-इन ने उत्‍तर कोरिया के साथ सैन्य हॉटलाइन को बहाल करने के लिए कहा था, जिससे अप्रत्याशित घटनाओं पर रोक लगाई जा सके। हॉटलाइन बहाल होने के बाद सीमा पर मौजूद दोनों देशों के प्रतिनिधि आपस में बात कर सकेंगे, जिससे अप्रत्‍याशित घटनाओं पर लगाई जा सके।

यह भी पढ़े—मोदी कैबिनेट ने DFI की स्थापना से जुड़े विधेयक को कैबिनेट की मंजूरी,20 हजार करोड़ रु की राशि दी जाएगी

कई बार उत्‍तर कोरिया से संपर्क करने की कोशिश की

तानाशाह किम यो जोंग ने संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास को हमले की तैयारी बताया है। उत्तर कोरिया में किम जोंग उन के बाद उनकी बहन को सबसे ताकतवर समझा जाता है। विशेषज्ञों ने कहा कि सियोल में अमेरिकी रक्षा और विदेश मंत्री के एजेंडे में उत्‍तर कोरिया सबसे ऊपर होगा। इससे पहले जनवरी में प्रशासन संभालने वाले जो बाइडेन प्रशासन ने कहा था कि हमने कई बार उत्‍तर कोरिया से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका। जो बाइडेन के सत्‍ता संभालने के पूर्व उत्‍तर कोरिया तानाशाह किग जोंग उन ने कहा था कि अमेरिका हमारा सबसे बड़ा दुश्‍मन है। हमें एडवांस परमाणु शस्‍त्रों के विकास के लिए प्रयास तेज करना चाहिए।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|