New omicron variant BA.2 is spreading quickly
स्वास्थ

देश में ओमिक्रोन के सब-वैरिएंट बीए.2 के बढ़ रहे मामले, वैक्‍सीन नहीं लेने वालों के लिए खतरा ज्‍यादा

khaskhabar/केंद्र सरकार का कहना है कि कोरोना का डेल्‍टा वैरिएंट देश में अभी भी मौजूद है। यही नहीं ओमिक्रोन के सब-वैरिएंट बीए.2 मामले भी बढ़ रहे हैं। समाचार एजेंसी आइएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (National Centre for Disease Control, NCDC) के निदेशक सुजीत कुमार सिंह (Sujeet Kumar Singh) ने गुरुवार को कहा कि देश में ओमिक्रोन के सब वैरिएंट बीए.2 (Omicron sub-variant BA.2) का प्रसार धीरे-धीरे बढ़ रहा है।

khaskhabar/केंद्र सरकार का कहना है कि कोरोना का डेल्‍टा वैरिएंट देश में अभी भी मौजूद है। यही नहीं ओमिक्रोन के  सब-वैरिएंट बीए.2 मामले भी बढ़ रहे हैं। समाचार एजेंसी आइएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रीय रोग
Posted by khaskhabar

ओमिक्रोन सब-वैरिएंट बीए.2 देश में बीए.1 वैरिएंट की तुलना में अधिक प्रचलित

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) की प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (National Centre for Disease Control, NCDC) के निदेशक सुजीत कुमार सिंह (Sujeet Kumar Singh) ने कहा कि ओमिक्रोन सब-वैरिएंट बीए.2 देश में बीए.1 वैरिएंट की तुलना में अधिक प्रचलित है। हालांकि राहत की बात यह है कि देश में अभी बीए.3 सब-वैरिएंट का अभी तक पता नहीं चला है।

देश में यात्रियों से जमा किए गए नमूनों में बीए.1 वैरिएंट प्रमुखता से पाया गया

एनसीडीसी के निदेशक सुजीत कुमार सिंह (Sujeet Kumar Singh) ने कहा कि पहले देश में यात्रियों से जमा किए गए नमूनों में बीए.1 वैरिएंट प्रमुखता से पाया गया था। अब हमने पाया है कि देश में बीए.2 सब-वैरिएंट धीरे-धीरे बढ़ रहा है। अब तक पाए गए जीनोम सीक्वेंसिंग के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल दिसंबर में ओमिक्रोन के 1,292 मामले पाए गए जबकि डेल्टा मामलों की संख्या 17 हजार से ज्‍यादा थी।

डेल्टा वैरिएंट अभी तक देश से नहीं गया

सुजीत कुमार सिंह ने कहा कि इस साल जनवरी महीने में ओमिक्रोन के बढ़ते मामले बढ़ते हुए पाए गए हैं। ऐसा नहीं है कि हर जगह केवल ओमिक्रोन वैरिएंट ही पाया जा रहा है। डेल्टा वैरिएंट अभी तक देश से नहीं गया है। जनवरी में डेल्‍टा वैरिएंट के 4,779 जबकि ओमिक्रोन के 9,672 मामले पाए गए। खास तौर पर महाराष्ट्र, ओडिसा और पश्चिम बंगाल ने जीनोम सीक्वेंसिंग के आधार पर डेल्टा वैरिएंट की सूचना दी है।

टीकाकरण नहीं कराया है और जिन्हें पहले से ही कोई बड़ी बीमारी रही

कोरोना से हो रही मौतों के बारे में बात करते हुए सुजीत कुमार सिंह ने कहा कि ऐसी घटनाएं उनके साथ देखी जा रही हैं जिन लोगों का टीकाकरण नहीं कराया है और जिन्हें पहले से ही कोई बड़ी बीमारी रही है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कोरोना महामारी से मरने वालों में लगभग 64 फीसद लोग ऐसे समूह से थे जिनका टीकाकरण नहीं हुआ था।

यह भी पढ़े —महामारी शुरू होने के बाद दुनिया में पहली बार साप्ताहिक स्तर पर इतने मामले : WHO

आईसीएमआर प्रमुख ने टीकाकरण में पिछड़ रहे राज्यों से अभियान को तेज करने का आग्रह

वहीं आईसीएमआर प्रमुख बलराम भार्गव (ICMR chief Balram Bhargava) ने कहा कि देश में कोविड-19 रोधी वैक्‍सीन अभी तक फायदेमंद रही हैं। आईसीएमआर प्रमुख ने टीकाकरण में पिछड़ रहे राज्यों से अभियान को तेज करने का आग्रह किया। उन्‍होंने कहा कि देश में लगभग 95 फीसद वयस्क आबादी ने कोविड रोधी टीके की पहली खुराक प्राप्त कर ली है जबकि 74 प्रतिशत को पूरी तरह से यानी टीके की दोनों खुराक लगाई जा चुकी है।  

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|