National helpline launched by the Union Home Ministry, the victims of cyber fraud started getting their money back
कारोबार

केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से शुरू की राष्ट्रीय हेल्पलाइन ,साइबर ठगी के शिकार लोगों का वापस मिलने लगा पैसा

Khaskhabar/साइबर ठगी के शिकार लोगों को उनका पैसा वापस मिलने लगा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से शुरू किए गए राष्ट्रीय हेल्पलाइन 155260 की मदद से पिछले तीन महीने में 3.13 करोड़ रुपये ठगी के शिकार लोगों को वापस कराए जा चुके हैं।  अभी तक 15 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में यह हेल्पलाइन काम करने लगा है। अन्य राज्यों में भी इसे लागू करने के लिए बातचीत चल रही है।

Khaskhabar/साइबर ठगी के शिकार लोगों को उनका पैसा वापस मिलने लगा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से शुरू किए गए राष्ट्रीय हेल्पलाइन 155260 की मदद से पिछले तीन महीने में 3.13 करोड़ रुपये ठगी के शिकार
Posted by khaskhabar

करोड़ों रुपये का गिफ्ट भेजने का झांसा देकर 59,507 रुपये ठग लिए

यह हेल्पलाइन नंबर एक अप्रैल को सात राज्यों में साफ्ट लांच किया गया था और 16 जून को पूरे देश के लिए इसे खोल दिया गया है। मध्य प्रदेश की एक महिला को एक यूरोपीय व्यक्ति ने पहले आनलाइन दोस्ती का अनुरोध किया और इसे स्वीकार करने के बाद करोड़ों रुपये का गिफ्ट भेजने का झांसा देकर 59,507 रुपये ठग लिए। महिला की शिकायत के बाद एयरटेल पेमेंट बैंक से उसे पूरे पैसे वापस कराए गए। 

तत्काल हेल्पलाइन नंबर 155260 पर काल किया

 इसी तरह से राजस्थान के एक व्यक्ति को एयरटेल के लकी ड्रा में मोबाइल नंबर आने का झांसा देकर 47 हजार रुपये ठग लिए गए। हेल्पलाइन नंबर पर शिकायत के बाद उसके पूरे पैसे वापस कराए गए।से शाहदरा, दिल्ली के वरिष्ठ नागरिक राम प्रकाश चार जून को साइबर ठगी के शिकार हो गए थे। उन्होंने तत्काल हेल्पलाइन नंबर 155260 पर काल किया और चंद दिनों में 3.2 लाख रुपये उनके खाते में वापस आ गए।

हेल्पलाइन की मदद से 3.13 करोड़ रुपये लोगों को वापस कराए जा चुके

हेल्पलाइन नंबर शुरू होने के इतने कम समय में साइबर ठगी के शिकार लोगों को राहत दिलाने में इसकी सफलता की कई कहानियां दर्ज हो गई हैं। ये तो चंद उदाहरण भर हैं। एक अप्रैल को साफ्ट लांच के बाद से अब तक हेल्पलाइन की मदद से 3.13 करोड़ रुपये लोगों को वापस कराए जा चुके हैं। गृह मंत्रालय ने इस हेल्पलाइन की कार्यप्रणाली की जानकारी देते हुए कहा कि ठगी की शिकायत मिलने के तत्काल बाद शिकायत नंबर के साथ विस्तृत जानकारी उस बैंक या वालेट के पास भेज दी जाती है, जिस बैंक में ठगी का पैसा गया होता है।

बैंक के सिस्टम में यह जानकारी फ्लैश करने लगती है

यदि पैसा किसी और बैंक या वालेट में चला गया हो तो वह उसे संबंधित बैंक या वालेट को भेज देगा। यह प्रक्रिया तब तक चलती रहेगी, जब तक उस पैसे की पहचान कर उसे फ्रीज नहीं कर दिया जाता है।बैंक के सिस्टम में यह जानकारी फ्लैश करने लगती है। यदि पैसे संबंधित बैंक या वालेट के पास ही हैं, तो वह उसे तत्काल फ्रीज कर देगा।

यह भी पढ़े —100 देशों में मिले डेल्टा वेरिएंट के मामले, डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा यह महामारी का सबसे ‘खतरनाक दौर’

नेशनल साइबरक्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर ठगी की विस्तृत जानकारी देने का निर्देश

24 घंटे के भीतर नेशनल साइबरक्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर ठगी की विस्तृत जानकारी देने का निर्देश दिया जाएगा।गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि एक अप्रैल को दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, तेलंगाना, उत्तराखंड और छत्तीसगढ़ में साफ्ट लांच किया गया था। 17 अप्रैल को इसे पूरे देश के लिए खोल दिया गया और उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, तमिलनाडु, केरल, महाराष्ट्र, ओडिशा, दमन दीव और दादर नगर हवेली में भी इसे लांच कर दिया गया है।दूसरी ओर शिकायतकर्ता को एसएमएस से शिकायत दर्ज किए जाने की सूचना और इसका एक नंबर दिया जाएगा

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|