Monkeypox Test Kit in India
स्वास्थ

Monkeypox Test Kit in India: देश में मंकीपाक्‍स का कोई केस नहीं लेकिन तैयारियां पुख्‍ता

khaskhabar/दुनिया के 20 से ज्‍यादा मुल्‍कों में फैल चुके मंकीपाक्‍स वायरस को लेकर दहशत का आलम है। राहत की बात यह है कि यह वायरस अभी तक भारत नहीं पहुंचा है। भारत में मंकीपाक्‍स का कोई केस सामने नहीं आया है। फ‍िर भी इससे बचाव को लेकर चिकित्‍सा जगत की तैयारियां तेज हैं।

khaskhabar/दुनिया के 20 से ज्‍यादा मुल्‍कों में फैल चुके मंकीपाक्‍स वायरस को लेकर दहशत का आलम है। राहत की बात यह है कि यह वायरस अभी तक भारत नहीं पहुंचा है। भारत में मंकीपाक्‍स का कोई केस
Posted by khaskhabar

रीयल टाइम पीसीआर-बेस्‍ड किट विकसित की

चिकित्सा उपकरण बनाने वाली कंपनी ट्रिविट्रान हेल्थकेयर ने शुक्रवार को घोषणा की कि उसने भारत में मंकीपाक्स के संक्रमण का पता लगाने के लिए रीयल टाइम पीसीआर-बेस्‍ड किट विकसित की है। गौरतलब है कि दुनिया अभी कोरोना महामारी से उबरी भी नहीं थी कि इस वायरस के बढ़ते संक्रमण ने सनसनी मचा दी है। यह वायरस कभी पश्चिम और मध्य अफ्रीका के देशों तक ही सीमित था लेकिन अब यह विश्व स्तर पर तेजी से फैल रहा है। यह 20 से अधिक देशों में फैल चुका है।

CDC के मुताबिक यह पाक्सविरिडे पर‍िवार (Poxviridae family) का सदस्‍य

दुनियाभर में इसके लगभग 200 मामलों की पुष्टि हो चुकी है जबकि 100 से अधिक संदिग्ध केस भी सामने आए हैं।CDC के मुताबिक यह पाक्सविरिडे पर‍िवार (Poxviridae family) का सदस्‍य है। सनद रहे वेरियोला वायरस जो चेचक का कारण बनता है वह भी आर्थोपाक्स वायरस जीनस का सदस्‍य है।

पीसीआर किट एक चार रंग की प्रतिदीप्ति आधारित जांच किट

आर्थोपाक्स वायरस जीनस (Orthopoxvirus genus) के अन्‍य सदस्‍यों में वैक्सीनिया (चेचक के टीके में प्रयुक्त) वायरस और काउपाक्स भी शामिल है। समाचार एजेंसी आइएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक पीसीआर किट एक चार रंग की प्रतिदीप्ति आधारित जांच किट है जो चेचक और मंकीपाक्स के बीच अंतर करने में सक्षम है।

यह भी पढ़े —Major Accident In Ladakh: जानें कैसे हुआ लद्दाख के टुकटुक में सड़क हादसा, जिसमें सात जवान हुए शहीद

मंकीपाक्‍स वायरस ऑर्थोपाक्स वायरस जीनस (Orthopoxvirus genus) से संबंधित

ट्रिविट्रान हेल्थकेयर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंद्र गंजू (Chandra Ganjoo) ने कहा कि भारत हमेशा ही दुनिया को मदद देने में सबसे आगे रहा है। खासकर कोविड-19 महामारी के दौरान भारत ने दुनिया की बढ़चढ़ कर मदद की। मौजूदा वक्‍त में दुनिया को सहायता की जरूरत है। वहीं यूएस सेंटर फार डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (US Centers for Disease Control and Prevention, CDC) का कहना है कि मंकीपाक्‍स वायरस ऑर्थोपाक्स वायरस जीनस (Orthopoxvirus genus) से संबंधित है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |