फिल्म जगत राष्ट्रीय

Kangana Ranaut के खिलाफ Bandra Court ने दिए FIR के आदेश,धार्मिक भावनाएं भड़काने का है आरोप

Khaskhabar/Kangana Ranaut:बांद्रा मजिस्ट्रेट कोर्ट ने बॉलीवुड (Bollywood) अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) के खिलाफ FIR करने के लिए आदेश दिए हैं। कंगना पर धार्मिक भावनाएं भड़काने, कलाकारों को हिन्दू-मुसलमान में बांटने और सामाजिक द्वेष को बढ़ावा देने का आरोप लगा है। याचिकाकर्ता मुन्ना वराली ने कंगना के पिछले कुछ वक्त में किए गए ट्वीट का हवाला देते हुए उनके खिलाफ जांच की मांग की है।

Khaskhabar/Kangana Ranaut:बांद्रा मजिस्ट्रेट कोर्ट ने बॉलीवुड (Bollywood
Posted by khaskhabar

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुन्ना वराली और साहिल अशरफ सैयद नाम के याचिकाकर्ताओं ने अदालत में एक याचिका दायर की गई थी, जिसमें Actress Kangana Ranaut के ट्वीट को भड़काऊ बताते हुए उनपर एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई थी।इस मामले में कंगना की बहन रंगोली को भी आरोपी बनाया गया है। कंगना के मुंबई के हालात की तुलना पीओके से करने की टिप्पणी का भी शिकायतकर्ता ने उल्लेख किया है।

ट्वीट को लेकर गरमाया है मामला

जानकारी के मुताबिक, एक याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया है किActress Kangana Ranaut लगातार न्यूज चैनल को दिए गए बयानों और अपने ट्वीट्स के जरिए सांप्रदायिक तनाव फैलाने की कोशिश कर रही हैं। याचिकाकर्ता ने यह भी कहा है कि कई बार Actress Kangana Ranaut ने अपने ट्वीट के जरिए हिंदू और मुस्लिम कलाकारों को बांटने और सामाजिक द्वेष बढ़ाने का काम किया है। मुंबई की बांद्रा कोर्ट ने इस याचिका के आधार पर कंगना पर एफआईआर दर्ज किए जाने का आदेश दिया है।

Khaskhabar/Kangana Ranaut:बांद्रा मजिस्ट्रेट कोर्ट ने बॉलीवुड (Bollywood
Posted by khaskhabar

कर्नाटक में भी दर्ज है FIR

इसके पहले 13 अक्टूबर को कनार्टक पुलिस ने हाल में केंद्र सरकार की ओर से पारित कृषि कानूनों का विरोध करने वाले लोगों पर कंगना की टिप्पणी को लेकर उनके खिलाफ एक मामला दर्ज किया था। तुमाकुरु पुलिस ने कोर्ट के आदे पर यह मामला दर्ज किया है।

दरअसल, वकील रमश नायक ने हाल में ट्विटर संदेश में दिये गये Actress Kangana Ranaut के पोस्ट के खिलाफ शिकायत दर्ज कराते हुए कहा है कि इससे उनकी भावनाएं आहत हुई और इसके लिए अभिनेत्री के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। कंगना ने 21 सितंबर को अपने ट्वीट में कहा था कि जिन लोगों ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध किया था वही लोग कृषि कानूनों का विरोध कर देश में आतंक का माहौल कायम करना चाहते हैं।

यह भी पढ़े—StingOpration:घूस लेते रंगे हाथ कैमरे में कैद CMO ऑफिस का कर्मचारी,वीडियो वायरल

भावनाएं भड़काने का काम किया

शिकायतकर्ता के मुताबिक, कंगना ने पालघर में हिन्दू साधुओं की हत्या और बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) को बाबर सेना कहकर भी उन्होंने भावनाएं भड़काने का काम किया। जमातियों पर देश में कोरोना वायरस फैलाने का आरोप लगाकर भी सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ने की कोशिश की। मुन्नावराली ने कंगना के उस ट्वीट का भी हवाला दिया, जिसमें उन्होंने कहा था, “उन लोगों ने मराठा गौरव पर एक भी फिल्म नहीं बनाई। इस्लाम के नियंत्रण वाली इस इंडस्ट्री में मैंने अपनी जिंदगी और करियर खतरे में डाला है. मैंने शिवाजी और लक्ष्मीबाई पर फिल्म बनाई है।” उनके मुताबिक, ऐसे बयान हिन्दू और मुस्लिम कलाकारों के बीच घृणा को बढ़ाने का काम कर रहे हैं. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ कंगना के बयान का भी याचिकाकर्ता ने उल्लेख किया है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |