राष्ट्रीय

Kamika Ekadashi 2020: जाने कामिका एकादशी के व्रत उसके प्रभाव,पूजा विधि, मुहूर्त, महत्व एवं पारण का समय

Kamika Ekadashi 2020: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आज श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी ति​थि है।इस तिथि को कामिका एकादशी के नाम से भी जाना जाता है,साथ ही इसे पवित्रा एकादशी भी कहते है। जैसा की आप जानते है की हिन्दू पंचांग के अनुसार श्रवण मास को बेहद ही हम माना जाता है कुकी यह माह भगवान् संकर को समर्पित होता है जो भगवान् विष्णु को बहुत ही पूज्यनीय मानते है। परन्तु इस बार कामिका एकादशी विशेष है क्योंकि यह भगवान विष्णु के लिए समर्पित दिन गुरुवार को ही है।

Pavitra Ekadashi 2020 : Kamika Ekadashi on 16 july 2020 - shubh ...
source-google image

कामिका एकादशी का मुहूर्त

 एकादशी ति​थि का प्रारंभ कल रात 10 बजकर 19 मिनट पर हो चुका है, जो आज 16 जुलाई दिन गुरुवार को देर रात 11 बजकर 44 मिनट तक है।

व्रत एवं पूजा विधि

Kamika Ekadashi 2020:एकादशी के दिन प्रात:काल में स्नान आदि से निवृत होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करें। उसके बाद भगवान श्रीहरि विष्णु का ध्यान करके कामिका एकादशी व्रत एवं पूजा का संकल्प लें। इसके बाद भगवान विष्णु की अक्षत्, चंदन, पुष्प, धूप, दीप आदि से पूजन करें। फल एवं मिठाई अर्पित करें। विष्णुजी को मक्खन-मिश्री का भोग लगाएं, तुलसी दल अवश्य चढ़ाएं। साथ ही माता लक्ष्मी की भी पूजा करें। इसके पश्चात कामिका एकादशी व्रत की कथा सुनें। पूजा के अंत में भगवान श्री विष्ण जी की आरती कर लें।

कामिका एकादशी 2020 - पाप से भयभीत ...
source-google image

यह भी पढ़े-Covid -19 Symptoms : एक और लक्छण हुआ लिस्ट में शामिल जानिए क्या है वो

कामिका एकादशी का महत्व

कामिका एकादशी का व्रत रखने से व्यक्ति को अश्वमेघ यज्ञ कराने के बराबर पुण्य मिलता है। व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है। भगवान श्रीहरि विष्णु की कृपा प्राप्त होती है।

कामिका एकादशी व्रत से होती हैं ...
source-google image

एकादशी व्रत के पारण का समय

एकादशी व्रत रखने वाले को व्रत का पारण सूर्योदय के बाद तथा द्वादशी तिथि के प्रारंभ से पूर्व कर लेना चाहिए। ऐसे में कामिका एकादशी व्रत के पारण का समय 17 जुलाई दिन शुक्रवार को प्रात:काल 05 बजकर 57 मिनट से 08 बजकर 19 मिनट तक है।