दुनिया

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन पर कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो का बयान- ‘स्थिति चिंताजनक, हम हमेशा साथ खड़े हैं’

Khaskhabar/कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन पर कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की ओर से चिंता जताए जाने के बाद भारत सरकार ने प्रतिक्रिया दी है। विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि भारतीय किसानों पर कनाडा के पीएम का बयान ‘गैर-जरूरी’ है और यह देश का आंतरिक मामला है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि राजनीतिक फायदे के लिए राजनयिक संबंधों का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। बता दें कि कनाडा के पीएम ने मंगलवार को कहा कि उनके देश ने किसानों के प्रदर्शन पर अपनी चिंता नई दिल्ली के साथ साझा की है।

Khaskhabar/षि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन पर कनाडा के प्रधानमंत्री
Posted by khaskhabar

व् र्चुअल कार्यक्रम में शरीक हुए ट्रूडो

गुरुपर्व के मौके पर कनाडा के सांसद बर्दीश चागर की ओर से आयोजित एक वर्चुअल कार्यक्रम में शरीक होते हुए ट्रूडो ने भारतीय किसानों के प्रदर्शन पर बयान दिया। इस कार्यक्रम में कनाडा सरकार के मंत्री नवदीप बैंस, हरजीत सज्जन सहित सिख समुदाय के लोग शामिल हुए।

उन्होंने कहा, ‘मैं जानता हूं कि किसानों का प्रदर्शन आपके लिए काफी मायने रखता है। मैं आपको याद दिलाता हूं कि कनाडा शांतिपूर्ण प्रदर्शनों के साथ हमेशा खड़ा रहेगा। हम बातचीत में विश्वास करते हैं और इसीलिए हमने अपनी चिंताओं से नई दिल्ली को अवगत कराया है।’

अपने शुरुआती बयान में कनाडा के पीएम ने कहा, ‘भारत से आ रही किसानों के प्रदर्शन की खबरों पर यदि मैं प्रतिक्रिया नहीं देता हूं तो यह मेरी बेअदबी होगी। भारत में हालात चिंताजनक हैं और हम आपके परिवार एवं दोस्तों को लेकर काफी चिंतित हैं।’इसके कुछ घंटे बाद भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने इस मसले पर बयान दिया।

यह भी पढ़े—Farmer Protest:ऑल इंडिया टैक्सी यूनियन की चेतावनी, किसानों की मांगें दो दिन में पूरी न हुई तो जाएंगे हड़ताल पर

कृषि कानूनों:विदेश मंत्रालय ने दी प्रतिक्रिया

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘हमने भारतीय किसानों से जुड़े कनाडा के नेताओं के बयान देखे हैं। ये बयान आधी-अधूरी जानकारी पर आधारित हैं। कनाडा के नेताओं की तरफ से इस तरह के बयान गैर-जरूरी हैं, खासकर तब जब यह मसला एक लोकतांत्रिक देश के आंतरिक मसले से जुड़ा है।’ प्रवक्ता ने कहा, ‘यह और भी बेहतर होगा कि राजनयिक संबंधों का इस्तेमाल राजनीतिक फायदे के लिए न किया जाए।’

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |