राष्ट्रीय

Janmashtami 2020:”भये प्रगट कृपाला दीन दयाला “की गूंज के साथ , मथुरा-वृंदावन में कान्हा के जन्म की तैयारियां पूरी,वैष्णव संप्रदाय की जन्माष्टमी आज

Khaskhabar/Janmashtami 2020:सभी मन्दिरों मे “भये प्रगट कृपाला दीन दयाला ” की गूंज के सुनाई पड रही है।श्रीकृष्ण जन्माष्टमी भगवान कृष्ण के भक्तों के लिए बड़ा त्यौहार है। इसे लेकर साल भर इंतजार होता है और जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण के बाल रूप की पूजा की जाती है। खासतौर से मथुरा और द्वारिका नगरी में जन्माष्टमी की रौनक ही अलग होती है।

Happy Janmashtami 2020 Wishes, Quotes, Photos, Images, SMS For ...
Posted by khaskhabar

हालांकि पिछले दो वर्षों से लोगों को इस बात को लेकर असमंजस ज्यादा होता है कि जन्माष्टमी की असल तारीख क्या हो। इस बार भी जन्माष्टमी का त्यौहार कुछ लोगों ने 11 अगस्त को ही मना लिया लेकिन मथुरा-वृंदावन और वैष्णव संप्रदाय के लोग 12 अगस्त यानि आज जन्माष्टमी मना रहे हैं।

Janmashtami 2020मंदिरों में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर प्रतिबंध

ब्रज सहित समूचे देश और विदेश में कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व आज मनाया जाएगा, वहीं नन्दगांव में समेत देश के कई हिस्सों में एक दिन पहले मंगलवार को इसका आयोजन किया गया। कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर मंदिरों में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर प्रतिबंध के बीच आज मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया जाएगा। सभी तीर्थस्थलों के मंदिर 10 अगस्त की दोपहर 12 बजे से 13 अगस्त दोपहर बाद तक श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेंगे।

Bhaye Pragat Kripala Lyrics - Tripti Shakya (Ram Bhajan) | Ram ...
Krishna Arti

कोरोना के लगातार बढ़ रहे संक्रमण ने कृष्ण जन्माष्टमी की रौनक फीकी कर दी है। जन्माष्टमी का मौका है लेकिन कन्हैया की नगरी सुनी है। जहां त्योहार के मौके पर कभी पैर रखने की जगह तक नहीं होती थी वहां कोरोना की वजह से लोगों की कम भीड़ देखने को मिल रही है।

श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव को मनाने के लिए श्रीकृष्ण जन्मस्थान परिसर में बड़ी तैयारियां की गई हैं। परिसर के सभी मंदिरों (भगवान केशवदेव मंदिर, श्रीगर्भगृह, श्रीयोगमाया मंदिर एवं भागवत भवन) को बड़े ही भव्य एवं दिव्य रूप में सजाया गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर सरकार द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों के अनुपालन में श्रद्धालु इस बार दूरदर्शन व अन्य चैनलों द्वारा टीवी पर सीधे प्रसारण के जरिये श्रीकृष्ण जन्मोत्सव में शामिल हो सकेंगे।

यह भी पढ़ेRahat Indori:मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन,जिनकी मशहूर शायरी में से एक है- ‘बुलाती है मगर जाने का नहीं

जान लीजिए पूजा का शुभ मुहूर्त

ज्योतिषाचर्य पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार, 12 अगस्त को पूरे दिन सर्वार्थ सिद्धि योग है। जन्माष्टमी पर राहुकाल दोपहर 12:27 बजे से 02:06 बजे तक रहेगा। जन्माष्टमी पर कृतिका नक्षत्र रहेगा। उसके बाद रोहिणी नक्षत्र रहेगा जो 13 अगस्त तक रहेगा। पूजा का शुभ समय रात 12 बजकर 5 मिनट से लेकर 12 बजकर 47 मिनट तक है। वैदिक या हिन्दू पंचांग के अनुसार, हर वर्ष श्रीकृष्ण जन्माष्टमी भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र में ही मनाई जाती है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar
फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|