राष्ट्रीय

Janmashtami: आमतौर पर दो दिन मनायी जाती जन्माष्टमी,जानिये जन्माष्टमी कब है, शुभ मुहूर्त एवं व्रत का महत्व

Janmashtami:भगवान कृष्ण का जन्मदिन, पूरे भारत में बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है। जन्माष्टमी, जिसे गोकुलाष्टमी के नाम से भी जाना जाता है, 11 अगस्त को है।इस बार यह पर्व 11 और 12 अगस्त को मनाया जाएगा।इस दिन दही हांडी, त्योहारों में से एक है, जन्माष्टमी पर गोकुलाष्टमी पर मुंबई में बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाता है। लेकिन इस महामारी की वजह से इस साल दही हांडी प्रोग्राम मुंबई या अन्य जगह पर नहीं मनाया जाएगा।

Krishna Janmashtami 2020 Upay: भगवान श्री कृष्ण की ...
Posted by khaskhabar

भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को हुआ था। उनका जन्म मथुरा नगर में वहां के राजा कंस के कारागार में हुआ था। उनका जन्म देवी देवकी के गर्भ से रात 12 बजे हुआ था। भगवान का यह अवतार सोलह कलाओं से परिपूर्ण था।

यह पर्व आमतौर पर दो दिन ही मनाया जाता है। पहले दिन गृहस्थ और दूसरे दिन साधु भगवान का जन्मदिवस मनाते हैं। यह उत्सव मुख्य रूप से उपवास, रात्रि जागरण और भगवान की सेवा व श्रंगार का पर्व है।
इस तिथि में देश में सभी कृष्ण मंदिरों में भगवान का विशिष्ट श्रंगार किया जाता है। गृहस्थ अपने घरों में भगवान श्रीकृष्ण की लीलाओं की झाकियां सजाते हैं। कान्हा की प्रतिमा का श्रंगार कर उसे हिडोला में झुलाते हैं। रात के 12 बजते ही भगवान का जन्मोंत्सव मनाया जाता है। लोग शंख -घंटा बजाकर भगवान का उत्सव मनाते हैं उत्सव के अंत में आरती करते हैं।

Janmashtami 2020 date| Shri Krishna Janmashtami date and timings ...
Posted by khaskhabar

Janmashtami-जन्माष्टमी – दिन,मुहूर्त, और पूजा का समय

  • जन्माष्टमी तीथि – अगस्त, 11
  • पूजा का समय – 12:21 सुबह 01:06 बजे, 12 अगस्त
  • 12 अगस्त को दही हांडी
  • अष्टमी तिथि 11 अगस्त को सुबह 09:06 बजे से शुरू होगी तथा 12 अगस्त को सुबह 11:16 बजे समाप्त होगी

Janmashtami-जन्माष्टमी व्रत और पूजा विधि –

कृष्ण के भक्त, जो उपवास करते हैं, जन्माष्टमी से एक दिन पहले केवल एक बार खाना खाते हैं। उस दिन, कई भक्त जन्माष्टमी पर व्रत रखने और अगले दिन रोहिणी नक्षत्र और अष्टमी तिथि दोनों समाप्त होने पर इसे तोड़ने का वादा करते हैं। सुबह की पूजा पूरी करने के बाद ये संकल्प किया जाता है। जन्माष्टमी व्रत के दौरान किसी भी तरह के आहार को खाने की अनुमति नहीं होती है, जो कि एकादशी व्रत के नियमों की तरह है।

पूजा का समय निशिता काल के दौरान है। जन्माष्टमी कृष्ण पक्ष या श्रावण या भाद्रपद की अमावस्या के चरण में मनाई जाती है। कई घरों में, बच्चे कृष्ण के बचपन की कहानियों को रचते हैं। घरों को सजाया जाता है और सुंदर ‘झाँकी’ रखी जाती हैं। परिवार और दोस्तों के साथ भक्ति गीत गाये जाते हैं।

Janmashtami 2020: Know Right Date And Time For Vrat And Krishna ...
Posted by khaskhabar

जन्माष्टमी व्रत और प्रसाद तैयार करने का महत्व –

कई भक्त इस विशेष दिन पर व्रत का पालन करते हैं। जबकि कुछ ‘निर्जला’ उपवास का विकल्प चुनते हैं, कुछ ‘फलार’ उपवास का सहारा लेते हैं जहां वे केवल फल, दूध और हल्के सात्विक खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं। कृष्ण के लिए मालपुआ, पंजिरी, खीर, पेड़ा आदि विभिन्न प्रकार के स्वादिष्ट प्रसाद बनाए जाते हैं।

यह भी पढ़े-Kanpur:कानपुर की महापौर ने शुरू किया जनता सौगंध अभियान ,पीएम् मोदी को भेजी चिट्ठी

Janmashtami-जन्माष्टमी कथा –

पौराणिक कथा के अनुसार, कृष्ण देवकी और वासुदेव के आठवें पुत्र थे। देवकी मथुरा के क्रूर राजा कंस की बहन थी। जब देवकी की शादी हुई, तो भविष्यवाणी की गई कि उसका आठवां बेटा कंस को मार देगा। कंस को यह पता चलने के तुरंत बाद, उसने देवकी और वासुदेव दोनों को कैद कर लिया और उनके बेटों को मार डाला।

जिस रात कृष्ण का जन्म हुआ, उस समय एक तेज प्रकाश हुआ, और एक दिव्य आवाज ने वासुदेव को निर्देशित किया कि वे कृष्ण को यमुना के पार ले जाएं और उन्हें उनके दोस्त नंदराज के पास छोड़ दें, जो गोप जनजाति के प्रमुख थे। उस रात, नंदराज और उनकी पत्नी यशोदा के घर बच्ची ने जन्म लिया था।

वासुदेव ने चुपके से यशोदा की बच्ची की जगह पर अपने बेटे को रख दिया। शास्त्र कहते हैं, भगवान विष्णु के शीश नाग या आठ सिर वाले नाग ने वासुदेव को कृष्ण को नदी के पार सुरक्षित ले जाने में मदद की। कृष्ण यशोदा और नंदराज के साथ बड़े हुए।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar
फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|