राष्ट्रीय

इंद्राणी मुखर्जी ने जेल के कपड़े पहनने की मांगी कोर्ट से छूट,अदालत ने खारिज की अर्जी दिया हरी साड़ी पहनने का आदेश

Khaskhabar/शीना बोरा हत्याकांड की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी की उस याचिका को मुंबई की एक विशेष सीबीआई अदालत ने मंगलवार को खारिज कर दिया, जिसमें उसने सजायाफ्ता कैदियों के लिए निर्धारित पोशाक पहनने से छूट देने का इस आधार पर अनुरोध किया था कि वह विचाराधीन कैदी है। 2015 में गिरफ्तारी के बाद से ही इंद्राणी महाराष्ट्र की भायखला महिला जेल में कैद है।

Khaskhabar/शीना बोरा हत्याकांड की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी की उस याचिका को मुंबई की एक विशेष सीबीआई अदालत ने मंगलवार को खारिज कर दिया, जिसमें उसने सजायाफ्ता कैदियों के लिए निर्धारित पोशाक पहनने से छूट देने का इस आधार पर अनुरोध किया था कि वह विचाराधीन कैदी है। 2015 में गिरफ्तारी के बाद से ही इंद्राणी महाराष्ट्र की भायखला महिला जेल में कैद है।
Posted by khaskhabar

इंद्राणी ने पिछले महीने अदालत को बताया कि था कि वह विचाराधीन कैदी है। इसके बावजूद जेल अधिकारी उससे हरे रंग की साड़ी पहनने के लिए कह रहे हैं, जो सजा पाए कैदियों की पोशाक है। इसके साथ ही इंद्राणी ने अपने वकील के जरिये याचिका दायर कर इस वर्दी को पहनने से छूट देने का अनुरोध किया। हालांकि, विशेष न्यायाधीश जेसी जगदले ने उनकी अर्जी खारिज कर दी है।

पिछले साल चौथी बार जमानत हुई रद्द

पिछले साल दिसंबर में इंद्राणी ने जमानत हासिल करने की चौथी कोशिश थी। जमानत के लिए दलीलें देते हुए इंद्राणी के वकील तनवीर अहमद ने कहा था कि उनकी चिकित्सा दशा गंभीर है और लगातार बिगड़ती जा रही है। स्थिति सुधर नहीं रही है, बल्कि बिगड़ती जा रही है।

अहमद ने कहा थाा कि चिकित्सा विशेषज्ञों ने राय दी है कि इन महिला की बीमारी अपरिवर्तनीय दशा में है… ऐसे में (स्वास्थ्य में) और गिरावट निश्चित है। उनकी जमानत अर्जी का विरोध करते हुए सीबीआई ने कहा कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि उसकी तबीयत बिगड़ती जा रही है। सीबीआई के वकील मनोज चलादन ने कहा कि विशेष सीबीआई अदालत से पिछली बार (18 नवंबर को) जमानत अर्जी खारिज होने के बाद परिस्थितयों में कोई बदलाव नहीं आया।

यह भी पढ़े—सूफी धर्मगुरुओं ने केंद्रीय मंत्री नकवी से की मुलाकात,मौजूदा वक्फ कानून में संशोधन की मांग

इंद्राणी को पहननी होगी जेल की पोशाक

शीन बोरा हत्याकांड की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी की उस याचिका को यहां की विशेष सीबीआई अदालत ने मंगलवार को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने जेल में सजा पाए कैदियों के लिए निर्धारित पोशाक पहनने से छूट देने का इस आधार पर अनुरोध किया था क्योंकि वह विचाराधीन कैदी हैं। वर्ष 2015 में गिरफ्तारी के बाद से ही इंद्राणी भायखला महिला जेल में कैद है। इंद्राणी ने पिछले महीने अदालत से कहा कि था कि वह विचाराधीन कैदी हैं, लेकिन जेल अधिकारी उनसे हरी साड़ी पहनने के लिए कह रहे हैं जो सजा पाए कैदियों की पोशाक है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|