राष्ट्रीय

Indo-China conflict:भारत के मजबूत इरादों के सामने ठंडा पड़ा चीन,भारत-चीन सैन्य कमांडरों की बैठक आज,जानिये क्या है योजना

India, China corps commanders hold talks for 12 hours - Rediff.com ...
source-google image

Indo-China conflict:भारत-चीन सैन्य कमांडरों की आज दुबारा बैठक बुलाई गयी है। इस मीटिंग में भारत की सीमा में तैनात सैनिकों की पूरी तरह से वापसी के रोडमैप पर बातचीत होगी। दोनो देशों के बीच यह सैन्य स्तरीय चौथी वार्ता होगी। इसके साथ ही विदेश मंत्रालय के स्तर पर भी तीन दौर की बातचीत हो चुकी है।

India-China's 'Commander-level talks' at Moldo conclude after 5 ...
source-google image

यह बहुत ही राहत भरी खबर है कि पूर्वी लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के बीच सैन्य तनाव में काफी तेजी से नरमी आ रही है। कई मोर्चो से दोनों देशों की तरफ सै सैनिकों की वापसी चल रही है।इस बीच दोनो देशों के सैन्य कमांडरों के बीच एक और बैठक आज होग। जिसमें अभी तक सैन्य वापसी के लिए जो कदम उठाये गये हैं उसकी समीक्षा की जाएगी और आगे इसे किस तरह से आगे बढ़ाया जाए, इसको लेकर भी विमर्श होगा। दोनो देशों के बीच यह सैन्य स्तरीय चौथी वार्ता होगी। इसके साथ ही विदेश मंत्रालय के स्तर पर भी तीन दौर की बातचीत हो चुकी है।

India-China talks
source-google image

भारतीय सीमा में चुसूल में होगी बैठक

सैन्य कमांडर स्तरीय पहली वार्ता 6 जून, 2020 को हुई थी जिसमें चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर 5 मई, 2020 से पहले वाली स्थिति बहाली करने पर रजामंदी दिखाई थी लेकिन बाद में उस पर अमल नहीं किया था। 15 जून, 2020 को दोनो सेनाओं के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद सैन्य कमांडरों के बीच 22 जून और 30 जून को भी दिन-दिन भर विमर्श चला है।सूत्रों के मुताबिक इस बार की बैठक भारतीय सीमा में चुसूल में होगी।

यह भी पढ़े-Covid-19:कोरोना का स्रोत जानने चीन पहुंचे WHO विशेषज्ञ, ड्रैगन ने नहीं दिया ब्‍यौरा

अजीत डोभाल की वांग यी से हुई थी बातचीत

Indo-China conflict:इस बीच भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर की चीन के विदेश मंत्री वांग यी से भी अलग से विस्तृत चर्चा हुई है। फिर एनएसए अजीत डोभाल की वांग यी से अलग से बातचीत हुई जिसके बाद तनावपूर्ण हालात को दूर करने में मदद मिली। साथ ही दोनो देशों के विदेश मंत्रालयों के अधिकारियों के बीच भी अलग से तीन दौर की बातचीत हुई है। इन सभी विचार बैठकों के केंद्र में यही रहा है कि चरणबद्ध तरीके से दोनो सेनाओं को एलएसी से वापस पूर्व की स्थिति में लाया जाएगा। जयशंकर ने शनिवार को संकेत दिया था कि सैन्य वापसी का काम जारी है यानी इसमें पूर्ण सामान्य हालात बनाने में अभी वक्त लग सकता है।