Indian education sector biggest target of cyber threats,remote learning among key triggers
कारोबार राष्ट्रीय

भारत के शैक्षणिक संस्थान और आनलाइन प्लेटफार्म हुए सबसे ज्यादा साइबर अटैक की धमकी का शिकार 

khaskhabar/पिछले कुछ सालों में भारत के शैक्षणिक संस् इसके बाद अमेरिका, ब्रिटेन, इंडोनेशिया और ब्राजील के संस्थान साइबर अटैक की धमकी के िि यह जानकारी एक रिपोर्ट में सामने आई है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कोरोना महामारी के दौरान डिस्टेंस लर्निंग को अपनाना, शिक्षा का डिजिटलीकरण और आनलाइन शिक्षण प्लेटफार्मों का प्रचलन प्रमुख हैं, जिन्होंने हमले की सतह को और बढ़ा दिया है।

khaskhabar/पिछले कुछ सालों में भारत के शैक्षणिक संस् इसके बाद अमेरिका, ब्रिटेन, इंडोनेशिया और ब्राजील के संस्थान साइबर अटैक की धमकी के िि यह जानकारी एक रिपोर्ट में सामने आई
Posted by khaskhabar

2021 की इसी अवधि की तुलना में 2022 में वैश्विक शिक्षा क्षेत्र के लिए साइबर खतरों में 20 प्रतिशत की वृद्धि

‘साइबर थ्रेट टार्गेटिंग द ग्लोबल एजुकेशन सेक्टर’ शीर्षक वाली इस रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि डेटा 2021 की इसी अवधि की तुलना में 2022 के पहले तीन महीनों में वैश्विक शिक्षा क्षेत्र के लिए साइबर खतरों में 20 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।प्लेटफार्म साइबर खतरों, डेटा लीक, ब्रांड खतरों और पहचान की चोरी का पता लगाने के लिए हजारों स्रोतों को खंगालता है।

अमेरिका दुनियाभर में दूसरा सबसे अधिक प्रभावित देश

रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल एशिया और प्रशांत क्षेत्र में पाए गए खतरों में से 58 प्रतिशत भारतीय या भारत शैारित शैक्षणिक संस्थानों और आनलाइन प्लेटफार्म पर थे। 10ोनेशिया 10 प्रतिशत साइबर खतरों के लक्ष्य के रूप में दूसरे स्थान थर था. इसमें BYJU पर हुए साइबर अटैक भी शामिल है।कुल मिलाकर अमेरिका दुनियाभर में दूसरा सबसे अधिक प्रभावित देश था, जिसमें कुल 19 दर्ज घटनाएं थीं, जो उत्तरी अमेरिका में 86 प्रतिशत खतरों के लिए जिम्मेदार थीं।

यह भी पढ़े —घमासान के बीच योगी सरकार का शानदार काम, तीन दिन में उतरवाये 21963 लाउडस्पीकर

आनलाइन और आफलाइन से बढ़ते वैश्विक शिक्षा और प्रशिक्षण बाजार के 2025 तक 7.3 ट्रिलियन अमेरिकी डालर

इनमें हावर्ड विश्वविद्यालय और कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों पर रैंसमवेयर हमले शामिल हैं।क्लाउडसेक (CloudSEK) के प्रिंसिपल थ्रेट रिसर्चर दर्शीत आशारा के मुताबिक आनलाइन और आफलाइन दोनों तरह से बढ़ते वैश्विक शिक्षा और प्रशिक्षण बाजार के 2025 तक 7.3 ट्रिलियन अमेरिकी डालर तक पहुंचने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि यह आशाजनक दृष्टिकोण शिक्षा प्रौद्योगिकी बाजार के विस्तार, जनसंख्या वृद्धि और विकासशील देशों में बढ़ती डिजिटल पैठ पर आधारित है। इसलिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि साइबर अपराध इस क्षेत्र में संस्थाओं और संस्थानों की ओर बढ़ रहे हैं।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|