राष्ट्रीय

Indian Airforce:भारतीय वायुसेना जल्द खरीदेगी इजरायल से हेरॉन ड्रोन और स्पाइक मिसाइल, जानें क्यों हैं यह खास

Indian Airforce:भारतीय वायुसेना के बेड़े की जरूरतों को पूरा करने के लिए इन ड्रोनों को मौजूदा बेड़ों में जोड़ने के लिए हेरॉन यूएवी को अधिग्रहत करने की आवश्यकता है। हेरॉन मानव रहित ड्रोन भारतीय वायु सेना में पहले से ही है लद्दाख क्षेत्र में सेना की निगरानी और टारगेट अधिग्रहण बैटरी का उपयोग भारतीय सेना द्वारा किया जा रहा है। 

Indian forces to acquire Heron drones, Spike anti-tank guided ...
source-google image

हलाकि, पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ तनाव के बीच भारत अपनी निगरानी क्षमता को और मजबूत करने में लगा हुआ है। भारत इजरायल से हेरॉन ड्रोन और स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों के लिए ऑर्डर देने की योजना बना रहा है। समाचार एजेंसी एएनआइ के सरकारी सूत्रों के अनुसार, ‘भारतीय वायुसेना के बेड़े की जरूरतों को पूरा करने के लिए इन ड्रोनों को मौजूदा बेड़ों में जोड़ने के लिए हेरॉन यूएवी को अधिग्रहण करने की आवश्यकता है। इन यूएवी को प्राप्त करने के लिए इजरायल को ऑर्डर देने की योजना बना रहे हैं।’

India's quest for armed drones | ORF
source-google image

दो दिनों से अधिक समय तक लगातार उड़ान भी भर सकता है

बता दें कि हेरॉन कई वर्षों से भारत के तीनों रक्षा विंगो की सेवा में है और 10 किलोमीटर से अधिक की ऊँचाई से दुर्गम क्षेत्रों में नजर रखता है। यह ड्रोन दो दिनों से अधिक समय तक लगातार उड़ान भी भर सकता है।साथ ही Indian Airforce द्वारा प्रायोजित ‘प्रोजेक्ट चीता’ के तहत मौजूदा बेड़े को मौजूदा यूएवी में अपग्रेड किया जा रहा है।

यह भी पढ़े- बेहद गुणकारी है काला नमक,कर देता है रोगो को दूर जानिए इसके आश्चर्यजनक फायदे

बालाकोट एयर स्ट्राइक हमले में किया गया था इस्तेमाल

दूसरी ओर, सेना अधिक स्पाइक एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइलों के लिए आदेश देने की योजना बना रही है। जो पिछले साल पाकिस्तान के बालाकोट एयर स्ट्राइक हमले में इस्तेमाल किया गया था। पिछली बार भारतीय सेना ने इजरायल से 12 लॉन्चर और 200 स्पाइक मिसाइलें प्राप्त की थी। वही,दुश्मन के किसी भी खतरे से निपटने के लिए इन टैंक रोधी मिसाइलों को हासिल करने की योजना बनाई जा रही है।