India will grow at the rate of 6.8 percent in this financial year, IMF said – Inflation will come under control in next 2 years
कारोबार

भारत इस वित्त वर्ष 6.8 फीसदी की दर से करेगा वृद्धि, IMF ने कहा- महंगाई अगले 2 सालों में आ जाएगी काबू

चालू वित्त वर्ष और अगले वित्त वर्ष में भारत की आर्थिक वृद्धि दर क्रमशः 6.8 प्रतिशत और 6.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने शुक्रवार को जारी अपनी ताजा रिपोर्ट में यह कहा. IMF के अनुसार, ऐसा बाहरी दबावों जैसे, कच्चे तेल की ऊंची कीमतों, कमजोर बाहरी मांग और मुश्किल होती वित्तीय स्थिति के कारण होगा.

चालू वित्त वर्ष और अगले वित्त वर्ष में भारत की आर्थिक वृद्धि दर क्रमशः 6.8 प्रतिशत और 6.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने शुक्रवार को जारी अपनी ताजा रिपोर्ट

एक निराशाजनक वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में भारत रोशनी के जैसा

आईएमएफ के भारतीय मिशन की प्रमुख शोएरी नाडा ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि एक निराशाजनक वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में भारत रोशनी के जैसा है. आईएमएफ ने भारत के लिए अपनी वार्षिक परामर्श रिपोर्ट जारी करते हुए कहा, ”हम देख रहे हैं कि अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष में काफी मजबूती से आगे बढ़ रही है.” इस रिपोर्ट के अनुसार कम अनुकूल परिदृश्य और सख्त वित्तीय स्थितियों के मद्देनजर वृद्धि दर मध्यम रहने का अनुमान है.

नाडा ने कहा कि ये अनुमान पहले की तुलना में काफी बेहतर

भारत पर आईएमएफ की रिपोर्ट में कहा गया है कि वास्तविक जीडीपी के वित्त वर्ष 2022-23 और 2023-24 में क्रमश: 6.8 प्रतिशत और 6.1 प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान है. नाडा ने कहा कि ये अनुमान पहले की तुलना में काफी बेहतर हैं. उन्होंने कहा, ”हमारे अनुमानों के मुताबिक भारत इस साल और अगले साल वैश्विक वृद्धि में आधा प्रतिशत योगदान देगा.”

2022-23 में इसके 6.9 फीसदी रहने का अनुमान

भारत के संबंध में जोखिम के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि जोखिम ज्यादातर बाहरी कारकों से आ रहे हैं. IMF ने कहा है कि भारत में महंगाई धीरे-धीरे कम होगी. 2022-23 में इसके 6.9 फीसदी रहने का अनुमान है. इसके बाद अगले 5 साल में ये गिरकर 4 फीसदी तक आ जाएगी. हालांकि, इसमें गिरावट अगले साल से दिखने लगेगी. अगले 2 साल में ये आरबीआई के संतोषजनक दायरे में आ जाएगी.

यह भी पढ़े —सऊदी अरब में अबाया पर बड़ा फैसला, लड़कियों को परीक्षा हॉल में पहनकर आने की इजाजत नहीं

नवंबर में भारत में खुदरा महंगाई दर 5.88 फीसदी रही

आईएमएफ ने इसके लिए बेस इफेक्ट, सख्त मौद्रिक नीति और लंबी अवधि के लिए सही दिशा में जा रहे महंगाई के अनुमान को श्रेय दिया है. बता दें कि नवंबर में भारत में खुदरा महंगाई दर 5.88 फीसदी रही थी जो आरबीआई के संतोषजनक दायरे के अंदर है. 2022 में ऐसा पहली बार हुआ था जब खुदरा महंगाई 6 फीसदी से नीचे आ गई थी.

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |