राष्ट्रीय

भारत-बांग्लादेश के बीच 19वीं गृह सचिव वार्ता,आतंकवाद के खिलाफ साझा रणनीति पर बनी सहमति

Khaskhabar/भारत-बांग्लादेश के बीच शनिवार (Saturday) को ‘मुजीबार्सो’ और बांग्लादेश मुक्ति युद्ध के 50 वर्षों होने की पृष्ठभूमि में वर्चुअली बैठक हुई. 19वीं गृह सचिव स्तर की वार्ता में दोनों देशों ने आतंकवाद और उग्रवाद के खिलाफ साझा मिलकर काम करने पर सहमति जताई. वार्ता में दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना पर चर्चा की गई.

Khaskhabar/भारत-बांग्लादेश के बीच शनिवार (Saturday) को ‘मुजीबार्सो’ और बांग्लादेश मुक्ति युद्ध के 50 वर्षों होने की पृष्ठभूमि में वर्चुअली बैठक हुई. 19वीं गृह सचिव स्तर की वार्ता में दोनों देशों ने आतंकवाद और उग्रवाद के खिलाफ साझा मिलकर
Posted by khaskhabar

बांग्लादेश मुक्ति संग्राम और दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंध स्थापित होने के 50 साल ‘मुजीब वर्षों’ के पूरे होने की पृष्ठभूमि में यह 19वीं वार्ता हुई। आधिकारिक बयान के अनुसार, केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने भारतीय पक्ष का और बांग्लादेश के जन सुरक्षा विभाग के वरिष्ठ सचिव मुस्तफा कमाल उद्दीन ने अपने देश के शिष्टमंडल का नेतृत्व किया।

देश के क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति नहीं

गृहमंत्रालय के अनुसार दोनों पक्षों ने सुरक्षा और सीमा से संबंधित मुद्दों में आपसी सहयोग को और अधिक मजबूत करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया है. साथ ही दोनों पक्षों ने एक दूसरे के हितों का ध्यान रखते हुए आतंक व उग्रवाद से जुड़ी किसी भी गतिविधि के लिए किसी भी देश के क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति नहीं देने की पुष्टि की.

इस दौरान दोनों पक्षों ने आतंकवाद और उग्रवाद के खिलाफ प्रभावी तरीके से कार्रवाई करने के लिए दोनों देशों के बीच मौजूदा सहयोग को सराहा और इसे जारी रखने पर सहमति जताई. दोनों पक्षों ने भारत-बांग्लादेश सीमा पर लंबित बाड़ को जल्द पूरा करने पर भी बातचीत की. दोनों देशों के प्रधानमंत्री पहले ही इस पर अपनी सहमति व्यक्त कर चुके हैं.

बहुपक्षीय सहयोग तथा सीमा प्रबंधन और सुरक्षा के मुद्दे पर चर्चा

इसके अलावा कोविड-19 (Covid-19) के बारे में सहयोग, व्यापार, संपर्क, विकास साझेदारी, बिजली, ऊर्जा और जल संसाधन, क्षेत्रीय और बहुपक्षीय सहयोग तथा सीमा प्रबंधन और सुरक्षा के मुद्दे पर चर्चा की गई. भारत-बांग्लादेश ने कोरोना काल में दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग की भी सराहना की.

दोनों पक्षों ने भारत-बांग्लादेश सीमा पर कांटेदार बाड़ लगाने का काम

बयान के मुताबिक, ‘दोनों पक्षों ने अपनी जमीन/सीमा का उपयोग दूसरे पक्ष को नुकसान पहुंचाने वाली गतिविधियों के लिए ना होने देने की बात दोहराई।’  दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच बनी सहमति के आधार पर दोनों पक्षों ने भारत-बांग्लादेश सीमा पर कांटेदार बाड़ लगाने का काम जल्दी पूरा करने पर चर्चा की।

यह भी पढ़े—कोरोना वैक्सीन की कीमत तय करने पर किरण मजूमदार का बड़ा बयान,कहा कंपनियां ‘ठगा’ हुआ कर रही महसूस

जाली भारतीय मुद्रा और मादक पदार्थों की तस्करी रोकने के लिए सहयोग

बयान के अनुसार, सीमा पर गैरकानूनी गतिविधियों पर नियंत्रण के लिए समन्वित सीमा प्रबंधन योजना के प्रभावी क्रियान्वयन पर दोनों पक्ष सहमत हुए। दोनों देश जाली भारतीय मुद्रा और मादक पदार्थों की तस्करी रोकने के लिए सहयोग को और बेहतर बनाने पर भी राजी हुए।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|