Highways Minister Nitin Gadkari assured, toll tax will be levied on national highways only after 60 km
कारोबार राष्ट्रीय

राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने दिया आश्वासन,राष्ट्रीय राजमार्गो पर 60 किलोमीटर के बाद ही लगेगा टोल टैक्स

Khaskhabar/राष्ट्रीय राजमार्गो (एनएच) पर 60 किलोमीटर से पहले कोई टोल टैक्स नहीं लगेगा। सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के लिए बजटीय आवंटन पर लोकसभा में चर्चा का जवाब देते हुए मंत्री नितिन गडकरी ने आश्वस्त किया कि 60 किलोमीटर से कम दूरी के सभी टोक नाके खत्म किए जाएंगे।

Khaskhabar/राष्ट्रीय राजमार्गो (एनएच) पर 60 किलोमीटर से पहले कोई टोल टैक्स नहीं लगेगा। सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के लिए बजटीय आवंटन पर लोकसभा में चर्चा का जवाब देते
Nitin gadari on toll-Posted by khaskhabar

अगले दो साल के भीतर इलेक्टि्रक वाहनों की कीमतें डीजल और पेट्रोल वाहनों के समान हो जाएंगी

इसके साथ ही गडकरी ने 2024 तक देश की सड़कों को अमेरिकी सड़कों के समान बनाने के दावा करते हुए कहा कि अगले दो साल के भीतर इलेक्टि्रक वाहनों की कीमतें डीजल और पेट्रोल वाहनों के समान हो जाएंगी।सोमवार से शुरू हुई चर्चा के दौरान सत्ता पक्ष और विपक्ष के अधिकांश सदस्यों ने सड़क एवं राजमार्ग के क्षेत्र में गडकरी के कार्यकाल में हुए कामों की प्रशंसा की और उसमें सुधार के लिए कई सुझाव दिए।

प्रयासों से बैंकों के तीन लाख करोड़ रुपये एनपीए होने से बच गए

वहीं, सदन में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने सड़क निर्माण को पिछले सरकारों से चली आ रही सतत कोशिशों का हिस्सा बताते हुए सरकारी आकंड़ों पर सवाल उठाए। इसका जवाब देते हुए गडकरी ने कहा कि किस तरह संप्रग सरकार के दौरान तीन लाख 75 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाएं फंसी हुई थीं और उनके प्रयासों से बैंकों के तीन लाख करोड़ रुपये एनपीए होने से बच गए।

सरकार देश में प्रदूषण रहित ईंधन को बढ़ावा देने पर जोर

उन्होंने कहा कि पिछले सात साल में भारत ने सड़क निर्माण में चार व‌र्ल्ड रिकार्ड कायम किए हैं।गडकरी ने सांसदों को बताया कि सरकार देश में प्रदूषण रहित ईंधन को बढ़ावा देने पर जोर रही है और इस संबंध में पिछले दिनों हाइड्रोजन पर आधारित पहली फ्यूल सेल कार को लांच किया गया है। उन्होंने कहा कि देशभर के शहरों में सीवर के पानी से बड़े पैमाने पर ग्रीन हाइड्रोजन तैयार की जा सकती है।

बैटरी उत्पादन बढ़ाने के साथ-साथ नई तकनीक पर आधारित बैटरी के विकास पर भी जोर

गडकरी के अनुसार, आने वाले दो साल के भीतर इलेक्टि्रक वाहनों की कीमत में भारी गिरावट आएगी और यह पेट्रोल-डीजल वाहनों के समान हो जाएगी। लेकिन इलेक्टि्रक वाहनों को चलाने का खर्च 10 प्रतिशत रह जाएगा। उन्होंने कहा कि देश में बैटरी उत्पादन बढ़ाने के साथ-साथ नई तकनीक पर आधारित बैटरी के विकास पर भी जोर दिया जा रहा है।गडकरी ने कहा कि देश में सड़कें अब भी परिवहन का मुख्य जरिया बनी हुई हैं और 90 प्रतिशत सवारी व 70 प्रतिशत सामान की ढुलाई सड़क मार्गो से ही होती है।

यह भी पढ़े —उद्धव ठाकरे के रिश्तेदार पर ईडी की गाज, एजेंसी ने श्रीधर पाटणकर के 11 फ्लैट अस्थायी तौर पर किए सील

 प्रदूषण और जाम की समस्या से निपटने के लिए 62 हजार करोड़ रुपये की परियोजना पर काम कर रही

इससे देश के विकास में सड़कों की अहमियत को समझा जा सकता है। उन्होंने बताया कि सरकार अकेले दिल्ली में ही प्रदूषण और जाम की समस्या से निपटने के लिए 62 हजार करोड़ रुपये की राजमार्ग परियोजना पर काम कर रही है। उन्होंने विस्तार से विभिन्न परियोजनाओं को गिनाते हुए देश के विभिन्न शहरों को सड़क मार्गो से जोड़े जाने और उनके बीच यातायात में लगने वाले समय में गुणात्मक कमी लाए जाने की जानकारी दी।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|