gorakhpur-city-the-train-was-missing-due-to-curfew-called-the-police-and-reached-the-prv-station-and-reached-home-in-two-minutes
राष्ट्रीय

कर्फ्यू में ट्रेन छूट रही थी,तो शख्स ने 112 डायल कर बुला ली पुलिस, जानिए फिर क्या हुआ?

Khaskhabar/गोरखपुर पुलिस ने रविवार को कर्फ्यू के दौरान एक जरूरतमंद बेटे का दिल भी जीता है। वाराणसी के सिगरा थाना क्षेत्र के महमूरगंज निवासी चेतन उपाध्याय पिछले सात दिनों से गोरखपुर के आरोग्य मंदिर में थे। रविवार को अचानक उनके पिता की तबीयत खराब हो गई। कर्फ्यू के चलते उन्हें शहर में कोई वाहन ही नहीं मिल रहा था। ऐसे में उन्होंने 112 नंबर पर डायल किया।

Khaskhabar/गोरखपुर पुलिस ने रविवार को कर्फ्यू के दौरान एक जरूरतमंद बेटे का दिल भी जीता है। वाराणसी के सिगरा थाना क्षेत्र के महमूरगंज निवासी चेतन उपाध्याय पिछले सात दिनों से गोरखपुर के आरोग्य मंदिर में थे। रविवार को अचानक
Posted by khaskhabar

दो मिनट के भीतर ही उनके पास पीआरवी 0321 पहुंच गई और उन्हें तत्काल रेलवे स्टेशन पहुंचाया। वाराणसी पहुंचते ही चेतन ने इस घटना को ट्वीटर पर भी साझा किया है और उत्तर प्रदेश पुलिस को धन्यवाद दिया।

पिता की खराब तबीयत को लेकर परेशान थे वाराणसी के चेतन

चंदन अपनी संस्था के जरिये ध्वनि प्रदूषण का विरोध करते हैं। कुछ कार्यों को लेकर वह गोरखपुर आये हुए थे। रविवार को कर्फ्यू के दौरान वह यहीं रह गए। ऐसे में उन्हें फोन पर सूचना मिली कि वाराणसी में उनके पिता की तबीयत खराब है।आनन-फानन में उन्होंने वाराणसी के लिए ट्रेन का टिकट लिया। दोपहर 1.40 पर गोरखपुर से उनकी ट्रेन थी। लेकिन आरोग्य मंदिर से 5 किलोमीटर दूर रेलवे स्टेशन पहुंचना कठिन था। स्टेशन जाने के लिए उन्होंने वाहन तलाश किया लेकिन कोई वाहन नहीं मिला तो उन्होंने 112 पर फोन करके अपनी समस्या बताई। 

फोन करने के दो मिनट के भीतर पहुंची पीआरवी, पहुंचाया स्टेशन

मात्र दो मिनट के भीतर उनके पास पीआरवी 0321 की टीम पहुंच गई और उन्हें गोरखपुर रेलवे स्टेशन पहुंचाया। समय से स्टेशन पहुंचने के लिए उन्होंने पीआरवी कर्मियों को बहुत-बहुत धन्यवाद दिया है। उन्होंने कहा है कि यदि समय पर पीआरवी टीम न पहुंचती तो उनकी ट्रेन छूट जाती। उन्होंने पीआरवी कमांडर हेड सुरेंद्र प्रसाद, सब कमांडर यशपाल यादव को इसके लिए धन्यवाद दिया है। एसएसपी दिनेश कुमार पी ने पीआरवी जवानों के इस शानदार प्रदर्शन के लिए उनकी पीठ थपथपाई है। उन्होंने कहा कि हर किसी इनसे प्रेरणा लेना चाहिए।

यह भी पढ़े –प्रयागराज में काेरोना से बिगड़े हालात,संक्रमण की वजह से 8 इलाकों को किया गया सील

नहीं मिल रहा था साधन 

दरअसल, वाराणसी के रहने वाले चेतन उपाध्याय बीते सात दिनों से गोरखपुर के आरोग्य मंदिर में थे. लेकिन रविवार को अचानक उनके पिता की तबीयत बिगड़ गई. उन्होंने वाराणसी के लिए ट्रेन का टिकट लिया. दोपहर 1.40 पर गोरखपुर से उनकी ट्रेन थी.  कर्फ्यू के चलते उन्हें कोई वाहन भी नहीं मिल रहा था. आरोग्य मंदिर से 5 किलोमीटर दूर होने के कारण रेलवे स्टेशन पर समय से पहुंचना मुश्किल लगने लगा. ऐसे में अंत में उन्होंने डायल 112 पर फोन कर अपनी समस्या बताई. 

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|