fear-of-corona-is-so-much-that-the-relatives-are-not-even-reaching-the-bones-from-the-crematorium-lockers-were-filled
राष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश में कोरोना का खौफ, श्मशान से अस्थियां भी नहीं ले जा रहे परिजन,कई जगह लॉकर फुल

Khaskhabar/कोरोना ने हमें अपनों से दूर कर दिया।लोग राख बन चुके शरीर से भी डरने लगे हैं। तभी तो श्मशान घाटों पर अब लोग अपनों की अस्थियां लेने भी नहीं पहुंच रहे।पूरे उत्तर प्रदेश में ऐसे 3 हजार से भी ज्यादा मामले हैं। इसे अंतिम कलश कहें या अस्थि कलश… ये आप तय करें। इतना जरूर है कि ये तस्वीरें डर के आगे इंसानियत और रिश्तों की खत्म होती अहमियत को बयां कर रही हैं। उस सच्चाई से भी रूबरू करा रही है जिसे ‘सिस्टम’ नाम दिया गया है।

Khaskhabar/कोरोना ने हमें अपनों से दूर कर दिया।लोग राख बन चुके शरीर से भी डरने लगे हैं। तभी तो श्मशान घाटों पर अब लोग अपनों की अस्थियां लेने भी नहीं पहुंच रहे।पूरे उत्तर प्रदेश में ऐसे 3 हजार से भी ज्यादा
Posted by khaskhabar

ये तस्वीर देखने के बाद यही लग रहा है कि महामारी से जान गंवाने वालों को अब मोक्ष मिलना भी आसान नहीं। स्वर्गाश्रम विकास समिति के सचिव आंलिक अग्रवाल बताते हैं कि श्मशान घाट में 350 से ज्यादा अस्थि कलश रखे गए हैं जिन्हें कोई लेने नहीं आ रहा है।समिति के कोषाध्यक्ष प्रदीप अग्रवाल बताते हैं कि कई लोगों से संपर्क कर अस्थि कलश ले जाने के लिए कहा गया, लेकिन कोई नहीं आया। कमेटी अब इन अस्थि कलशों को विधि विधान के साथ गंगा में प्रवाहित करा रही है। समिति के अध्यक्ष राकेश गोयल बताते हैं कि कुछ लोगों की अस्थियां इसलिए लेने कोई नहीं आया, क्योंकि उनके घरों में कोई बचा ही नहीं है।

सभी लॉकर फुल, अब घाट के पंडित खुद करेंगे विसर्जन

गौतमबुद्ध नगर यानी नोएडा के शवदाह गृह में भी अंतिम संस्कार के बाद लोग अस्थियां लेने नहीं पहुंच रहे। शवदाह गृह में अस्थियां रखने के लिए बने लॉकर भर गए हैं। अब बाकी लोगों की अस्थियां जहां जगह मिल रही, वहीं रख दी जा रही हैं।सेक्टर 94 ए में स्थित अंतिम निवास का संचालन करने वाले NGO के अधिकारियों ने बताया कि यहां अस्थियां रखने के लिए 200 लॉकर हैं, लेकिन इस वक्त सभी भरे हुए हैं। कई और अस्थि कलश बाहर रखे हुए हैं।

40 लोगों की अस्थियां अपनों के इंतजार में

शहर के नुमाइश मैदान में बने शवदाह गृह में पिछले 1 महीने के अंदर 150 से ज्यादा लोगों का अंतिम संस्कार हुआ। इनमें से 40 से ज्यादा लोगों की अस्थियां अभी भी शवदाह गृह में ही पड़ी हैं। इन्हें लेने कोई नहीं आया।

यह भी पढ़े –टिहरी के देवप्रयाग में बादल फटने से भारी तबाही, मलबे के साथ बह गईं इमारतें, कर्फ्यू ने बचा ली सैकड़ों की जान

बरेली: कोई डर रहा तो किसी के यहां अस्थियां लेने वाला भी नहीं बचा

शहर की सबसे बड़ी सिटी श्मशान भूमि के केयर टेकर पंडित त्रिलोकी नाथ बताते हैं कि इस साल अप्रैल और मई में कोरोना से जान गंवाने वाले 225 लोगों का अंतिम संस्कार कराया गया है। इनमें से 70 से 80 लोगों की अस्थियों को कलश में रखा गया है। बहुत से लोग इन कलश को लेने से डर रहे हैं तो कहीं ऐसी भी नौबत आ गई है कि घरों में अस्थियों को लेने वाला कोई बचा ही नहीं है। अगर कोई अस्थियां कलश लेने नहीं आता है तो समय मिलते ही इनको विधि-विधान से गंगा में प्रवाहित कर दिया जाएगा।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|