Famine threatens many countries, Russia-Ukraine war becomes cause of global food crisis; UN warns
कारोबार राष्ट्रीय

कई देशों पर अकाल का खतरा,रूस-यूक्रेन युद्ध बना वैश्विक खाद्य संकट का कारण;UN ने दी चेतावनी

Khaskhabar/संयुक्त राष्ट्र (United Nation) ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि रूस-यूक्रेन युद्ध से जल्द ही वैश्विक खाद्य संकट पैदा हो सकता है, जो वर्षों तक बना रह सकता है। बीबीसी ने बताया कि खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों के कारण आने वाले समय में कुछ देशों को दीर्घकालिक अकाल का सामना करना पड़ सकता है। यदि यूक्रेन के निर्यात को युद्ध से पहले बहाल नहीं किया गया है तो वैश्विक खाद्य संकट पैदा हो सकता है।

khaskhabar/संयुक्त राष्ट्र (United Nation) ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि रूस-यूक्रेन युद्ध से जल्द ही वैश्विक खाद्य संकट पैदा हो सकता है, जो वर्षों तक बना रह सकता है। बीबीसी ने बताया कि खाद्य
Posted by khaskhabar

वैश्विक खाद्य कीमतें पिछले साल की समान अवधि की तुलना में लगभग 30 प्रतिशत अधिक

रूस-यूक्रेन युद्ध ने यूक्रेन के बंदरगाहों से आपूर्ति में कटौती की है, जो पहले बड़ी मात्रा में खाना पकाने के तेल का निर्यात करता था। दुनिया में मक्का और गेहूं जैसे अनाज के निर्यात पर भी इसका बहुत बुरा प्रभाव पड़ा है। इससे वैश्विक खाद्य आपूर्ति कम हो गई है और विकल्पों की कीमतें बढ़ गई हैं।संयुक्त राष्ट्र (UN)के अनुसार, वैश्विक खाद्य कीमतें पिछले साल की समान अवधि की तुलना में लगभग 30 प्रतिशत अधिक हुई है।

महामारी के प्रभावों के साथ दसियों लाखों लोगों को संकट में डालने का खतरा बना हुआ

संयुक्त राष्ट्र (UN)के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि रूस -यूक्रेन युद्ध, जलवायु परिवर्तन और महामारी के प्रभावों के साथ दसियों लाखों लोगों को संकट में डालने का खतरा बना हुआ है। दुनिया के कई हिस्‍सों में खाद्य असुरक्षा बढ़ने के बाद कुपोषण, सामूहिक भूख और अकाल का सामना करना पड़ सकता है।

युद्ध से भारतीय अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई

रूस-यूक्रेन युद्ध जारी रहने पर आने वाले महीनों में हमें वैश्विक खाद्य कमी के खतरे का सामना करना पड़ सकता है। उन्होंने चेतावनी दी कि संकट का एकमात्र प्रभावी समाधान यूक्रेन के खाद्य उत्पादन के साथ ही रूस और बेलारूस दोनों द्वारा उत्पादित उर्वरक को वैश्विक बाजार में वापस लाना है।रूस-यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध से भारतीय अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है, खास तौर पर तब जब भारतीय बाजार कोरोना महामारी से उबरने का प्रयास कर रहा है।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कमजोर होने के कारण भारत का आयात-निर्यात भी बुरी तरह प्रभावित

युद्ध के कारण कच्चे तेल में अपेक्षित वृद्धि महंगाई को बढ़ावा दे रही है। इस कारण पेट्रोल, डीजल और अन्य पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत आसमान छू रही हैं। दूसरी ओर, इस मौजूदा परिस्थितियों में रुपये के अंतरराष्ट्रीय बाजार में कमजोर होने के कारण भारत का आयात-निर्यात भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है।दिसंबर 2021 के आंकड़ों के अनुसार, भारत ने रूस से करीब 72.47 अरब रुपये का आयात किया।

यह भी पढ़े —पैंगोंग झील के पास चीन बना रहा नया पुल,उपग्रह की तस्वीरों में दिखी ड्रैगन की करतूत

भारत यूक्रेन से दवा बनाने के लिए कच्चा माल, सूरजमुखी, जैविक रसायन पदार्थ आयात करता है

रूस मुख्य तौर पर कच्चे तेल, उर्वरक, प्राकृतिक गैस और रक्षा सामानों का निर्यात भारत को करता है। तो वही भारत यूक्रेन से दवा बनाने के लिए कच्चा माल, सूरजमुखी, जैविक रसायन पदार्थ, प्लास्टिक, लोहा और इस्पात का आयात करता है। इस कारण भारतीय बाजारों में इन सभी चीजों की कीमतों पर बुरा प्रभाव पड़ा हैं।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |