Everyone who comes in contact need not get tested, ICMR issued new guidelines
राष्ट्रीय स्वास्थ

संपर्क में आने वाले हर किसी को जांच कराने की जरूरत नहीं, ICMR ने जारी की नई गाइडलाइंस

Khaskhabar/कोरोना संक्रमितों के संपर्क में आने वाले हर किसी व्यक्ति को तब तक जांच कराने की जरूरत नहीं है जब तक कि वह अत्यधिक जोखिम वाले श्रेणी में न हो। सरकारी की तरफ से जारी एक नई एडवाइजरी में यह बात कही गई है। अत्यधिक जोखिम वाले लोगों में उन्हें रखा गया है जिनकी उम्र ज्यादा है या जो पहले से ही गंभीर रोगों से ग्रस्त हैं।

Khaskhabar/कोरोना संक्रमितों के संपर्क में आने वाले हर किसी व्यक्ति को तब तक जांच कराने की जरूरत नहीं है जब तक कि वह अत्यधिक जोखिम वाले श्रेणी में न हो। सरकारी की तरफ से जारी एक नई
Posted by khaskhabar

दूसरे राज्यों में यात्रा करने वालों को भी कोरोना जांच कराने की आवश्यकता नहीं

कोरोना के लिए उद्देश्यपूर्ण परीक्षण रणनीति पर भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) की तरफ से यह एडवाइजरी जारी की गई है। इसमें यह भी कहा गया है कि एक से दूसरे राज्यों में यात्रा करने वालों को भी कोरोना जांच कराने की आवश्यकता नहीं है।

आरएटी और मोलेक्यूलर जांच के नतीजों को सही माना जाएगा

इसमें कहा गया है कि आरटी-पीसीआर, ट्रूनेट, सीबीएनएएटी, सीआरआइएसपीआर, आरटी-एलएएमपी, रैपिड मोलेक्यूलर टेस्टिंग सिस्टम या रैपिड एंटीजन टेस्ट (आरएटी) के जरिये ही जांच कराई जा सकती है।खुद से ही जांच कराने वाले या आरएटी और मोलेक्यूलर जांच के नतीजों को सही माना जाएगा और दोबारा जांच कराने की जरूरत नहीं होगी।

नए दिशानिर्देशों के मुताबिक डिस्चार्ज होने पर कोरोना टेस्ट कराने की आवश्यकता नहीं

परंतु, अगर किसी में संक्रमण के लक्षण नजर आ रहे हैं तो उसे उपरोक्त टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आने पर भी आरटी-पीसीआर जांच करानी होगी।सामुदायिक सुविधाओं में रहने वाले बिना लक्षण वाले लोगों, घर और कोरोना केयर सेंटरों में आइसोलेशन में रहने वाले मरीज को भी नए दिशानिर्देशों के मुताबिक डिस्चार्ज होने पर कोरोना टेस्ट कराने की आवश्यकता नहीं है। अस्पताल में भर्ती मरीजों की भी हफ्ते में सिर्फ एक बार कोरोना जांच की जाएगी।

अस्पतालों में स्वास्थ्य कर्मियों की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया

बता दें कि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को पत्र लिखकर अस्पतालों में स्वास्थ्य कर्मियों की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार आने वाले दिनों में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने के साथ ही अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो सकती है। इसको लेकर केंद्र ने पहले से ही राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को सचेत कर दिया है।

यह भी पढ़े —देश में कोरोना की तेज रफ्तार, दो हफ्ते में नौ गुना बढ़े सक्रिय मामले, जानें राज्‍यों का आंकड़ा

24 घंटों के अंदर 46,569 मरीज कोरोना से रिकवर भी हुए

गौरतलब है कि भारत में सोमवार को 1,79,723 नए कोरोना के मामले दर्ज किए गए हैं। जो मई के अंत के बाद से सबसे अधिक है। पिछले 24 घंटों के अंदर 46,569 मरीज कोरोना से रिकवर भी हुए हैं। कोरोना के चलते पिछले 146 लोगों की मौत हुई है। देश में कोरोना के सक्रिय मामले बढ़कर 7,23,619 हो गए हैं।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|