European Space Agency claims, land surface temperature above 60 degrees in parts of North India
राष्ट्रीय स्वास्थ

European Space Agency का दावा,उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में लैंड सरफेस का तापमान 60 डिग्री से ऊपर

khaskhabar/यूरोपियन स्‍पेस एजेंसी ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि 29 April (शनिवार) को सेटेलाइट से ली गई तस्‍वीरों के अनुसार उत्तर पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में भूमि की सतह का तापमान ( Land Surface Temperature) 60 डिग्री सेल्सियस से अधिक हो गया है। इनसैट 3डी, कॉपरनिकस सेंटिनल 3 और नासा के एक सेटेलाइट से ली गई लैंड सरफेस की छवियों ने उत्तर पश्चिम भारत के इलाकों में भूमि की सतह के बढ़ते तापमान का संकेत दिया है।

khaskhabar/यूरोपियन स्‍पेस एजेंसी ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि 29 April (शनिवार) को सेटेलाइट से ली गई तस्‍वीरों के अनुसार उत्तर पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में भूमि की सतह का तापमान
Posted by khaskhabar

विभिन्न सेटेलाइट सेंसर से भूमि की सतह का तापमान नोट किया गया

वहीं कई वैज्ञानिकों ने एक रिपोर्ट को सत्‍यापित करने की बात की और साथ ही हीटवेव के गंभीर प्रभावों को लेकर चिंता जताई है।भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के वैज्ञानिक आशिम मित्रा जो उपग्रहों के डाटा डिकोडिंग में माहिर हैं ने ट्वीट किया कि विभिन्न सेटेलाइट सेंसर से भूमि की सतह का तापमान नोट किया गया, जो एक सामान्य अवलोकन में भूमि की सतह का सटीक तापमान प्राप्त करने में सक्षम है।

पाकिस्तान और भारत में आज चौथे दिन तीव्र गर्म हवा को देखा गया

आज कई क्षेत्रों में 60 डिग्री सेल्सियस से अधिक हो गया है।एक Advanced Geospatial Data Management Platform (ADAM) ने April 29 को ट्वीट किया कि पाकिस्तान और भारत में आज चौथे दिन तीव्र गर्म हवा को देखा गया। 29 अप्रैल को कॉपरनिकस और सेंटिनल 3 सेटेलाइट पर एकत्र किया गया एलसटी (भूमि की सतह का तापमान, हवा का नहीं!) का अधिकतम मूल्य 62°C/143°F से अधिक दर्शाता है।

सेटेलाइट अवलोकन सतह से 36,000 किमी दूर से लिए जाते हैं

उधर, आईएमडी के महानिदेशक एम महापात्रा ने कहा कि जमीनी सत्यापन करने से पहले इस डेटा पर भरोसा नहीं किया जाना चाहिए। सेटेलाइट अवलोकन सतह से 36,000 किमी दूर से लिए जाते हैं। सत्यापित नहीं होने पर वे भ्रामक हो सकते हैं। राजस्थान में रिकार्ड उच्चतम भूमि का तापमान 52.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। यह डेटा भय और दहशत पैदा कर सकता है, इसलिए हमें जिम्मेदारी से काम करना चाहिए।

कई इलाकों में 60 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी की वेबसाइट ने यह दावा किया गया कि उत्तर पश्चिम भारत के कई हिस्सों में लैंड सरफेस का तापमान 55 डिग्री सेल्सियस के करीब है। यह कई इलाकों में 60 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया है।वहीं एक अन्य वैज्ञानिक ने कहा कि क्या आप जानते हैं कि 60 डिग्री सेल्सियस का क्या मतलब होता है? सड़कें और अन्य बुनियादी ढांचा पिघल जाएगा।

कोपरनिकस सेंटिनल -3 मिशन के डेटा का उपयोग कर यह फोटो तैयार किया गया

मैंने राजस्थान में 50 डिग्री सेल्सियस पर सड़कों को पिघलते देखा है। हमें बहुत सावधान रहना चाहिए और पहले जमीनी आकलन करना चाहिए।ईएसए ने अपनी वेबसाइट पर कहा कि कोपरनिकस सेंटिनल -3 मिशन के डेटा का उपयोग कर यह फोटो तैयार किया गया।देश के अधिकांश हिस्सों में भूमि की सतह के तापमान को दर्शाती है। सेंटिनल -3 मिशन सतह के तापमान का सटीक माप प्राप्त करने में सक्षम है।

अधिकतम 65 डिग्री सेल्सियस की भूमि की सतह के तापमान के साथ सबसे गर्म तापमान

29 अप्रैल (स्थानीय समयानुसार 10:30) को बादल के कवर की अनुपस्थिति के कारण कई क्षेत्रों में 60 डिग्री सेल्सियस से अधिक था।डेटा से पता चलता है कि जयपुर और अहमदाबाद में सतह का तापमान 47 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है, जबकि अधिकतम 65 डिग्री सेल्सियस की भूमि की सतह के तापमान के साथ सबसे गर्म तापमान अहमदाबाद के दक्षिण-पूर्व और दक्षिण-पश्चिम में रहा। (गहरे लाल रंग में दिखाई देता है)।

यह भी पढ़े —भारत के शैक्षणिक संस्थान और आनलाइन प्लेटफार्म हुए सबसे ज्यादा साइबर अटैक की धमकी का शिकार

भारत और पाकिस्तान में अत्यधिक गर्मी के लिए केवल जलवायु परिवर्तन को जिम्मेदार ठहराना जल्दबाजी

विशेषज्ञों ने सुझाव दिया है कि इस मार्च और अप्रैल में असामान्य रूप से उच्च तापमान जलवायु संकट से जुड़े हैं। भारत और पाकिस्तान में अत्यधिक गर्मी के लिए केवल जलवायु परिवर्तन को जिम्मेदार ठहराना जल्दबाजी होगी। हालांकि, यह बदलती जलवायु में हम जो अपेक्षा करते हैं, उसके अनुरूप है। हीटवेव लगातार अधिक और अधिक तीव्र होती हैं और पहले की तुलना में पहले शुरू होती है। इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज ने अपने छठे आकलन की रिपोर्ट में कहा कि विश्व मौसम विज्ञान संगठन के अनुसार, इस सदी में दक्षिण एशिया में हीटवेव और आर्द्र गर्मी का तनाव अधिक तीव्र और लगातार होगा।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|