Efforts intensified to provide relief in education loan to students returned from Ukraine, Finance Minister clarified the situation
राष्ट्रीय

यूक्रेन से लौटे छात्रों को एजुकेशन लोन में राहत देने की तेज हुई कोशिश,वित्त मंत्री ने की स्थिति साफ

Khaskhabar/यूक्रेन से युद्ध की विभीषिका के बीच सुरक्षित निकाले गए भारतीय छात्र अपने देश वापस तो आ गए है, लेकिन युद्ध को लंबा खिचता देख अब उन्हें अपनी पढ़ाई के प्रभावित होने व पढ़ाई के लिए लिये गए एजुकेशन लोन की चिंता सताने लगी है। वित्त मंत्रालय ने पूरी स्थिति स्पष्ट की और कहा कि भारतीय बैंक संघ को यूक्रेन में पढ़ाई कर रहे छात्रों के एजुकेशन लोन के संबंध में विचार-विमर्श शुरू करने के लिए कहा गया है।

Khaskhabar/यूक्रेन से युद्ध की विभीषिका के बीच सुरक्षित निकाले गए भारतीय छात्र अपने देश वापस तो आ गए है, लेकिन युद्ध को लंबा खिचता देख अब उन्हें अपनी पढ़ाई के प्रभावित होने व पढ़ाई
Posted by khaskhabar

लगभग 22500 छात्रों को यूक्रेन से सुरक्षित निकाला गया

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में इसे लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में बताया कि विदेश मंत्रालय के मुताबिक एक फरवरी 2022 तक लगभग 22500 छात्रों को यूक्रेन से सुरक्षित निकाला गया है। उन्हें आपरेशन गंगा के तहत संचालित उड़ानों के माध्यम से लाया गया।

तहत 31 दिसंबर 2021 तक 1319 भारतीय छात्र ने यूक्रेन में अध्ययन के लिए एजुकेशन लोन लिया

उन्होंने बताया कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों व भारतीय बैंक संघ से जुड़े निजी क्षेत्र के 21 बैंकों से जो सूचना मिली है, उसके तहत 31 दिसंबर 2021 तक 1319 छात्रों ने यूक्रेन में अध्ययन के लिए एजुकेशन लोन लिया है। जिसकी कुल राशि 121.61 करोड़ रुपए है। इनके एजुकेशन लोन के संबंध में अभी कोई फैसला नहीं किया गया है, क्योंकि वहां की मौजूदा स्थिति अभी भी अस्थिर बनी हुई है।

यह भी पढ़े —आतंकी संगठन IS से जुड़ा गोरखनाथ मंदिर का हमलावर अब्बासी,एक टीम मुंबई भी भेजी जा रही

एजुकेशन लोन में ऋण चुकाने की समयावधि बढ़ाने सहित ब्याज की दरों में कमी

सरकार उस पर नजर रखे हुए है। स्थिति के स्थिर होने ही जरूरी सुधारात्मक कदमों पर विचार किया जाएगा।इस बीच बैंकों से इस संघर्ष के चलते लिए गए एजुकेशन लोन पर पड़ने वाले प्रभावों का आकलन करने के लिए भी कहा गया है। सूत्रों की मानें तो स्थिति की गंभीरता को देखते हुए सरकार इन छात्रों को दिए गए एजुकेशन लोन में ऋण चुकाने की समयावधि बढ़ाने सहित ब्याज की दरों में कमी करने आदि को लेकर बैंकों को कह सकती है। वहीं शिक्षा व स्वास्थ्य मंत्रालय संयुक्त रूप से इन सभी छात्रों की ठप पड़ी पढ़ाई की बहाली को लेकर जरूरी विकल्पों का भी अध्ययन कर रहे है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|