Durga Puja 2022: When is Durga Puja, know Navratri date, auspicious time to establish Kalash
धर्म

Durga Puja 2022: कब है दुर्गा पूजा, जानें नवरात्र तारिख, कलश स्‍थापना का शुभ मुहूर्त

इस साल नवरात्र 26 सितंबर से शुरू हो रहा है. पंचांग के अनुसार घटस्थापना का शुभ मुहूर्त 26 सितंबर 2022 की सुबह 05 बजकर 39 मिनट से शुरू होगा और 7 बजकर 13 मिनट तक रहेगा. वहीं, चौघड़िया का शुभ मुहूर्त 9 बजकर 3 मिनट से 10 बजकर 26 मिनट तक रहेगा.

इस साल नवरात्र 26 सितंबर से शुरू हो रहा है. पंचांग के अनुसार घटस्थापना का शुभ मुहूर्त 26 सितंबर 2022 की सुबह 05 बजकर 39 मिनट से शुरू होगा और 7 बजकर 13 मिनट तक रहेगा.
Posted by khaskhabar

शारदीय नवरात्र घटस्थापना मुहूर्त

  • घटस्थापना तिथि: 26 सितंबर 2022 दिन सोमवार
  • घटस्थापना मुहूर्त: 26 सितंबर 2022 सुबह 05 बजकर 39 मिनट से सुबह 07 बजकर 13 मिनट तक
  • कुल अवधि 01 घण्टा 37 मिनट
  • चौघड़िया का शुभ मुहूर्त: 9 बजकर 3 मिनट से 10 बजकर 26 मिनट तक

पूजन सामग्री

श्रीदुर्गा की सुंदर प्रतिमा या चित्र, लाल कपड़ा, कलश, जौ, नारियल, सिंदूर, केसर, कपूर, धूप, वस्त्र, दर्पण, कंघी, कंगन-चूड़ी, सुगंधित तेल, बंदनवार आम के पत्ता, पुष्प, दूर्वा, मेंहदी, बिंदी, सुपारी साबुत, हल्दी की गांठ और पिसी हुई हल्दी, पटरा, आसन, चौकी, रोली, मौली, पुष्पहार, बेलपत्र, कमलगट्टा, दीपक, दीपबत्ती, नैवेद्य, मधु, शक्कर, पंचमेवा, जायफल, नवग्रह पूजन के लिए सभी रंग या फिर चावलों को रंग लें, दूध, वस्त्र, दही, पूजा की थाली, दीपक, घी, अगरबत्ती शामिल है. इन सब सामान को पहले से ही इक्कट्ठा करके रख लें.

हर साल मां किसी न किसी वाहन पर सवार होकर आती है

ऐसे में एक बात आपको बता दें, कि हर साल मां किसी न किसी वाहन पर सवार होकर आती है। तो चलिए जानते हैं कि इस बार मां किस पर सवार होकर आ रही है।सोमवार से शुरू हो रहे शारदीय नवरात्र में मां दुर्गा इस बार हाथी पर सवार होकर आ रही हैं। ऐसी मान्यता है कि रविवार और सोमवार के दिन नवरात्रि की शुरुआत होने पर जब मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आती हैं तो बहुत शुभ संकेत माना जाता है।

यह भी पढ़े —काम में आ रही है रुकावट, तो हो सकता है पितृदोष करे पितृपक्ष में ये उपाय

हाथी ज्ञान और समृद्धि का प्रतीक

पुराणाों में ऐसा बताया गया है कि अगर मां हाथी पर सवार होकर आती हैं, तो वे अपनी साथ खूब सारी खुशियां और सुख-समृद्धि लाती हैं। क्योंकि हाथी ज्ञान और समृद्धि का प्रतीक है। तो इस हिसाब से पूरे देश में जहां मां की खूब धूमधाम से पूजा अर्चना की जाती है तो मां देश में आर्थिक सृमद्धि लाएंगी और ज्ञान का विकास होगा।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |