Doors of Badrinath temple open with law, huge crowd of devotees for darshan
धर्म

विधिविधान के साथ खुले बदरीनाथ मंदिर के कपाट, दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़

Khaskhabar/बदरीनाथ धाम के कपाट आज सुबह श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोले दिए गए। इसके लिए 15 क्विंटल फूलों से मंदिर की भव्य सजावट की गई है। कपाट खुलने पर अखंड ज्योति के दर्शनों को देश-विदेश से सात हजार से अधिक यात्री धाम पहुंच चुके थे।कपाटोद्घाटन के दौरान कच्छ से मीलों पैदल यात्रा कर आए साधु-संतों ने भी दर्शन किए।

Khaskhabar/बदरीनाथ धाम के कपाट आज सुबह श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोले दिए गए। इसके लिए 15 क्विंटल फूलों से मंदिर की भव्य सजावट की गई है। कपाट खुलने पर अखंड ज्योति के दर्शनों
Posted by khaskhabar

गर्भ गृह से सर्वप्रथम मां लक्ष्मी को परिक्रमा स्थल में लक्ष्मी मंदिर में विराजमान किया गया

इस दौरान श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय, ज्योतिमठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती के प्रतिनिधि स्वामी अवमुक्तेश्वरानंद, पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार सहित कई विशिष्ट व्यक्तियों ने भी दर्शन किए।रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरी द्वारा स्त्री वेश धारण कर गर्भ गृह से सर्वप्रथम मां लक्ष्मी को परिक्रमा स्थल में लक्ष्मी मंदिर में विराजमान किया गया। इसके बाद उद्धव जी व कुबेर जी, गरुड़ जी को गर्भ गृह में स्थापित किया गया।

ठंड के बाद भी श्रद्धालुओं में देखा गया अपार उत्साह

शंकराचार्य जी की गद्दी को मंदिर परिक्रमा स्थल पर विराजमान किया गया।कपाट खुलने के साक्षी बनने के लिए तड़के से ही सिंहद्वार से श्रद्धालुओं की लंबी लाइन लग गई थी। ठंड के बाद भी श्रद्धालुओं में अपार उत्साह देखा गया। बदरीनाथ धाम नारायण के जयकारों से गुंजायमान रहा। मंदिर में कपाट खोलने की प्रक्रिया के दौरान धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल सहित वेदपाठियों ने मंत्रोचारण किया।

अगले छह माह तक भगवान बदरीनाथ यहीं पर भक्‍तों को देंगे दर्शन

आज बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने पर उद्धवजी व कुबेरजी गर्भगृह और शंकराचार्य की गद्दी परिक्रमा पथ में विराजमान हो गई।रविवार सुबह 6 बजकर 15 मिनट पर विधिविधान के साथ भगवान बदरीविशाल के धाम के कपाट खोल दिए गए। अगले छह माह तक भगवान बदरीनाथ यहीं पर भक्‍तों को दर्शन देंगे। कपाटोद्घाटन के समय धाम में हजारों भक्‍त मौजूद रहे और धाम जय बदरीविशाल के जयकारों से गूंज उठा।

धाम में लगभग 20 हजार श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

बदरीनाथ धाम के साथ ही आज सुबह 6:15 बजे सुभांई गांव स्थित भविष्य बदरी धाम के कपाट भी खोले जाएंगे। उधर, केदारपुरी के रक्षक बाबा भुकुंट भैरव मंदिर के कपाट खुलने के साथ शनिवार से केदारनाथ धाम में नित्य पूजाएं व शाम की आरती शुरू हो गई। धाम में लगभग 20 हजार श्रद्धालुओं ने दर्शन किए।भू-वैकुंठ बदरीनाथ धाम के कपाट रविवार सुबह 6:15 बजे श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोले जाएंगे।

यह भी पढ़े —दिल्ली के सुभाषनगर इलाके में बदमाशों ने 20 राउंड की फायरिंग, एक घायल

बदरी विशाल के प्रतिनिधि उद्धवजी व देवताओं के खजांची कुबेरजी की उत्सव डोली बदरीनाथ पहुंची

देश-विदेश से सात हजार से अधिक यात्री धाम पहुंच चुके हैं। इससे पूर्व, शनिवार को पांडुकेश्वर स्थित योग-ध्यान बदरी मंदिर से भगवान बदरी विशाल के जयघोष व गाजे-बाजों की मधुर लहरियों के बीच तेल कलश (गाडूघड़ा) यात्रा के साथ आदि शंकराचार्य की गद्दी और भगवान बदरी विशाल के प्रतिनिधि उद्धवजी व देवताओं के खजांची कुबेरजी की उत्सव डोली बदरीनाथ पहुंची।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |