राष्ट्रीय

Delhi Crackers Ban:दीवाली पर पटाखे चलेंगे या नहीं ,केजरीवाल सरकार गुरुवार को लेगी फैसला

Khaskhabar/Delhi Crackers Ban:दिल्ली (Delhi) में बढ़ते वायु प्रदूषण (Air Pollution) को रोकने के लिए दिल्ली की सरकार कुछ और कदम उठा सकती है। इसी के चलते 5 नवंबर को रिव्यू मीटिंग है।मीटिंग में सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) भी मौजूद रहेंगे। हालांकि इस मीटिंग में कोरोना को लेकर भी चर्चा होगी। लेकिन दीवाली के मौके दिल्ली में पटाखे (Firecrackers) चलेंगे या नहीं इस बारे में बड़ा फैसला लिया जाएगा। यह कहना है सीएम अरविंद केजरीवाल का.

Khaskhabar/Delhi Crackers Ban:दिल्ली (Delhi) में बढ़ते वायु प्रदूषण (Air
Posted by khaskhabar

सीएम अरविंद केजरीवाल बोले- दिल्ली में कोरोना वायरस की तीसरी लहर

कोविड-19 महामारी के एक्सपर्ट और नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल और एम्स के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने चेतावनी भरे अंदाज में कहा है कि लोगों ने मास्क पहनने के सुझाव को गंभीरता से नहीं लिया तो आने वाले दिनों में महामारी और भयंकर रूप में सामने आ सकती है। आशंका यह जताई जा रही है कि हवा में नमी और प्रदूषण की मात्रा बढ़ने के कारण कोरोना वायरस काफी घातक साबित हो रहा है।

पटाखों के कारण हवा में प्रदूषण की मात्रा और बढ़ सकती है

Khaskhabar/Delhi Crackers Ban:दिल्ली (Delhi) में बढ़ते वायु प्रदूषण (Air
Posted by khaskhabar

ऐसे में पटाखों के कारण हवा में प्रदूषण की मात्रा और बढ़ सकती है। इसी कारण दिल्ली सरकार पटाखों पर बैन लगाने पर विचार कर सकती है। प्रदूषित हवा के कारण सांस लेने में तकलीफ बढ़ती है और ऐसी समस्या कोरोना वायरस के लिए काफी अनुकूल साबित होती है। इन परिस्थितियों में संभव है कि दिल्ली सरकार गुरुवार को पटाखों पर बैन लगाने का फैसला ले ले।

दिल्ली में था 2 हज़ार करोड़ का कारोबार

जानकारों की मानें तो साल 2018 तक दिल्ली में पटाखा कारोबार करीब 2 हज़ार करोड़ रुपये का था। इसके बाद वायु प्रदूषण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट की ओर से ग्रीन पटाखे बेचने और चलाने का आदेश आ गया। लेकिन 2019 में ग्रीन पटाखे बनाने और बेचने के उतने लाइसेंस ही नहीं बन पाए कि दीवाली पर पब्लिक की डिमांड पूरी हो सके। 2020 की दीवाली आई तो लॉकडाउन और कोरोना के चलते ग्रीन पटाखे ही नहीं बन पाए, जबकि 93 फैक्ट्रियों के पास ग्रीन पटाखे बनाने के लाइसेंस थे।अब यह करोबार सिमटकर 2 से 3 करोड़ रुपये का ही रह गया है।

Delhi Crackers Ban:पटाखों को बेचने और चलाने पर 10 हज़ार रुपये का जुर्माना

राजस्थान में वायु प्रदूषण के चलते ही अशोक गहलौत सरकार ने पटाखे चलाने और बेचने पर बैन लगा दिया है। बेचने और चलाने पर 10 हज़ार रुपये का जुर्माना लगाया गया है। इसी के साथ ही एक याचिका पर सुनवाई करते हुए एनजीटी ने कहा है कि 7 से 30 नवंबर तक पटाखों को जनता के स्वास्थ को ध्यान में रखते हुए बैन कर देना चाहिए या नहीं?

यह भी पढ़े—ऑनलाइन पढ़ाई:सीबीएसई स्कूलाें में बोर्ड कक्षाओं की ऑनलाइन पढ़ाई बंद, प्राइवेट स्कूल भी ले सकते हैं इसपर फैशला

इस संबंध में एनजीटी ने मिनिस्ट्री ऑफ एनवायरमेंट फारेस्ट एंड क्लाइमेट, दिल्ली (Delhi), उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान सरकार, दिल्ली पुलिस कमिस्नर, सेंट्रल पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड, दिल्ली पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड (DPCB) को नोटिस जारी किया है।अब इस मामले पर 5 नवंबर को सुनवाई होनी है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |