Defense Ministry procures military platforms and equipment worth Rs 13,165 crore amid China's aggression
राष्ट्रीय

चीन की आक्रामकता के बीच रक्षा मंत्रालय ने 13,165 करोड़ के सैन्य प्लेटफार्मों और साजो सामान की की खरीद

Khaskhabar/रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) ने बुधवार को 13,165 करोड़ रुपये के सैन्य प्लेटफार्मों और साजो सामान की खरीद को मंजूरी दी। इसमें 25 स्वदेशी रूप से विकसित एएलएच मार्क-III हेलीकाप्टरों की खरीद भी शामिल हैं। रक्षा मंत्रालय ने सैन्य प्लेटफार्मों बताया कि हेलीकाप्टरों की खरीद पर 3,850 करोड़ रुपये आंकी गई है। समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक राकेट गोला बारूद की खरीद पर 4,962 करोड़ रुपये का खर्च होगा।

Khaskhabar/रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) ने बुधवार को 13,165 करोड़ रुपये के सैन्य प्लेटफार्मों और साजो सामान की खरीद को मंजूरी दी। इसमें 25 स्वदेशी रूप से
Posted by khaskhabar

‘बिजनेस प्रोसेस री-इंजीनियरिंग’ के एक हिस्से के रूप में कुछ संशोधनों को भी मंजूरी

मंत्रालय ने अपने आधिकारिक बयान में कहा कि अनुमोदित कुल राशि में से 11,486 करोड़ रुपये की खरीद घरेलू कंपनियों से होगी। इसके अलावा रक्षा अधिग्रहण परिषद (DAC) ने रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया 2020 में ‘बिजनेस प्रोसेस री-इंजीनियरिंग’ के एक हिस्से के रूप में कुछ संशोधनों को भी मंजूरी दी ताकि रक्षा उद्योग क्षेत्र को व्यापार करने में सहूलियत हो। साथ ही खरीद दक्षता बढ़ाने और समयसीमा को कम करने के उपाय भी किए जा सकें।

13,165 करोड़ रुपये के पूंजी अधिग्रहण प्रस्तावों के लिए जरूरी मंजूरी प्रदान की

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में रक्षा अधिग्रहण परिषद (Defence Acquisition Council, DAC) की बैठक में इन खरीद प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। कुल खरीद में से 11,486 करोड़ रुपये के उपकरण और प्लेटफार्म घरेलू कंपनियों से प्राप्त किए जाएंगे। डीएसी ने भारतीय सशस्त्र बलों के आधुनिकीकरण और परिचालन संबंधी जरूरतों के लिए लगभग 13,165 करोड़ रुपये के पूंजी अधिग्रहण प्रस्तावों के लिए जरूरी मंजूरी प्रदान की।

यह भी पढ़े —हर्षवर्धन परमाणु हथियार मुक्त दुनिया के सपने को साकार करने के लिए सभी देशों से करेगा वार्ता

भारत और चीन की ओर से 50 से 60 हजार जवानों की तैनाती

रक्षा उपकरणों की इस खरीद को ऐसे समय मंजूरी दी गई है जब पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन की आक्रामकता कम होने का नाम नहीं ले रही है। हाल ही में रक्षा सूत्रों ने बताया था कि पूर्वी लद्दाख में एलएसी से लगे अपने इलाकों में चीन स्‍थाई सैन्‍य ठिकानों का निर्माण कर रहा है। समाचार एजेंसी पीटीआइ की हाल ही में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक एलएसी पर अभी भी भारत और चीन की ओर से 50 से 60 हजार जवानों की तैनाती बरकरार है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|