Decision after the meeting of the government, edible oil will be so cheap!
कारोबार

सरकार की बैठक के बाद फैसला, खाद्य तेल होंगे इतने सस्ते!

khaskhabar/तेल बनाने वाली कंपनियों ने वैश्विक बाजार में आई कीमतों में नरमी के बाद घरेलू बाजार में खाद्य तेल की कीमतें कम करने पर सहमति जताई है. जुलाई में खाद्य प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी अडानी विल्मर (Adani Wilmar) ने खाने वाले तेल (Edible Oil) की कीमतों में 30 रुपये प्रति लीटर की कटौती का ऐलान किया था.

khaskhabar/तेल बनाने वाली कंपनियों ने वैश्विक बाजार में आई कीमतों में नरमी के बाद घरेलू बाजार में खाद्य तेल की कीमतें कम करने पर सहमति जताई है. जुलाई में खाद्य प्रोडक्ट
Posted by khaskhabar

खाद्य तेल प्रोसेसर और निर्माताओं ने तेल की कीमतों में कटौती करने पर सहमति जताई

महंगाई (Inflation) से परेशान लोगों को आने वाले दिनों में थोड़ी राहत मिलने वाली है. अगले कुछ दिनों में खाने वाले तेल की खुदरा कीमतों (Edible Oil Price) में गिरावट सकती है. खाद्य और उपभोक्ता मंत्रालय के साथ हुई बैठक के बाद खाद्य तेल प्रोसेसर और निर्माताओं ने तेल की कीमतों में कटौती करने पर सहमति जताई है.

सरकार की कोशिश है कि गिरी हुई कीमतों लाभ घरेलू उपभोक्ताओं को भी मिले

विदेशी मार्केट में खाने वाले तेल की कीमतों में आई गिरावट के बाद घरेलू कीमतों में कटौती की जा सकती है. सरकार की कोशिश है कि गिरी हुई कीमतों लाभ घरेलू उपभोक्ताओं को भी मिले. खबरों की मानें तो तेल बनाने वाली कंपनियों ने वैश्विक बाजार में आई कीमतों में नरमी के बाद घरेलू बाजार में खाद्य तेल की कीमतें कम करने पर सहमति जताई है .

तेल (Edible Oil) की कीमतों में 30 रुपये प्रति लीटर की कटौती का ऐलान किया

आने वाले दिनों में खाने वाले तेल की खुदरा कीमतों में 10-12 रुपये की गिरावट आ सकती है. हालांकि, पिछले महीने भी तेल निर्माताओं ने कीमतों में कटौती की गुंजाइश है. जुलाई में खाद्य प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी अडानी विल्मर (Adani Wilmar) ने खाने वाले तेल (Edible Oil) की कीमतों में 30 रुपये प्रति लीटर की कटौती का ऐलान किया था.

कम रेट पर उपभोक्ताओं तक खाद्य तेल को पहुंचाने के क्रम में कंपनी ये कटौती की

तब अडानी विल्मर ने एक बयान में कहा था कि वैश्विक कीमतों में आई गिरावट को देखते हुए कम रेट पर उपभोक्ताओं तक खाद्य तेल को पहुंचाने के क्रम में कंपनी ये कटौती की है. भारत अपने खाना पकाने के तेल का दो-तिहाई हिस्सा आयात करता है.

इंडोनेशिया ने पाम ऑयल के एक्सपोर्ट पर से प्रतिबंध हटाया

हाल के महीनों में रूस-यूक्रेन युद्ध और इंडोनेशिया द्वारा पाम ऑयल के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने की वजह से खाने वाले तेल की कीमतों में इजाफा हुआ था. हालांकि, हाल के महीनों में इंडोनेशिया ने पाम ऑयल के एक्सपोर्ट पर से प्रतिबंध हटाया है. इस वजह से वैश्विक बाजार में तेल की कीमतों में गिरावट आई है.

यह भी पढ़े —कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में ब्रॉन्ज मेडल जीतने के बाद दिव्या काकरान ने बयां किया अपना दर्द

सूरजमुखी के तेल और सोयाबीन के तेल के लिए यूक्रेन, अर्जेंटीना, ब्राजील और रूस पर निर्भर

कीमतों और उपलब्धता की समीक्षा के लिए केंद्र ने तेल बनाने वाली कंपनियों के साथ मई से अब तक तीन बैठकें की हैं. भारत पाम तेल के आयात के लिए इंडोनेशिया और मलेशिया पर और सूरजमुखी के तेल और सोयाबीन के तेल के लिए यूक्रेन, अर्जेंटीना, ब्राजील और रूस पर निर्भर है.

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |