स्वास्थ

Coronavirus Vaccine: सिर्फ 6 महीने दूर ,कोरोना वायरस की सुरक्षित और कारगर वैक्सीन!

Coronavirus Vaccine: जहा आज विश्व में कोरोना नामक महामारी अपने पैर पसारती जा रही रही है। विश्वा में आज कुल केश 12,201,303 पहुंच गए ,साथ ही मौत की संख्या की की बात करे तो 552,890 को पार कर गयी। वही अगर भारत की बात करे तो 771,830 को पार कर गयी। वही मौत का अकड़ा 21,174 तक पहुंच गया।

Coronavirus Vaccination: Oxford, Moderna lead vaccine race; check ...
source-google image

हलाकि भारत में जनसँख्या के लिहाज से बात करे तो रिकवरी रेट काफी हाई है। वही एक तरफ पूरी दुनिया के साथ भारत में भी कोरोना वायरस के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। वहीं, दूसरी तरफ पुणे स्थित भारत की प्रमुख वैक्सीन निर्माता कंपनी, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) को उम्मीद है कि कम से कम छह महीने में वैक्सीन लोगों के इस्तेमाल के लिए तैयार हो जाएगी।

सीईओ ने हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस

Coronavirus vaccine news update: Serum Institute to give 50% of ...
source-google image

कंपनी के सीईओ ने हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक बयान जारी किया जिसमें कहा गया है कि जब वैक्सीन बनाने का काम चल रहा था, तो शोधकर्ता किसी जल्दबाज़ी में नहीं थे और एक सुरक्षित और प्रभावी वैक्सीन का उत्पादन करना चाहते थे। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने एक सुरक्षित और सस्ती Coronavirus Vaccine के विकास को गति देने के लिए ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ भागीदारी की है। इस निजी कंपनी ने पहले ही परीक्षण और प्रारंभिक चरण परीक्षण शुरू कर दिया है ताकि “सुरक्षित” वैक्सीन के शुरुआती प्रोटोटाइप जल्द से जल्द उपलब्ध हो सकें। 

यह भी पढ़े-Festive Season:त्योहारों के सीजन में चीन को पटखनी देने को तैयार, कैट

“एक बार हम भारत और दुनिया के लिए एक सुरक्षित और अच्छे वैक्सीन के प्रति आश्वस्त हो जाएंगे और हमें ड्रग कंट्रोलर (DCGI) द्वारा लाइसेंस मिल जाए, तो हम निश्चित रूप से इसकी घोषणा करेंगे, लेकिन इसमें अभी भी कम से कम छह महीने का समय लगेगा।” 

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राज़ेनेका समर्थित वैक्सीन मॉडल इस वक्त ट्रायल के दूसरे-तीसरे चरण के बीच है। पूर्व-क्लीनिकल ​​और इसके प्रोटोटाइप के शुरुआती परीक्षणों में आशाजनक परिणाम दिखाए गए हैं।  यह कहा जा रहा है कि वैक्सीन, मानव नैदानिक ​​परीक्षण चरण में प्रवेश करने वाले पहली वैक्सीन है और अगर इसे समय पर स्वीकृति मिल जाती है, तो बाज़ार में आने वाली कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन होगी।