राष्ट्रीय

कानपुर: सिपाही के पति ने सभासद की पत्नी और बच्चों को जिंदा जलाया,लपटों में दफन हुईं चीखें

Khaskhabar/उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में महिला सिपाही के पति द्वारा मकान मालिक की पत्नी और उनके दो बच्चों की पेट्रोल डालकर आग लगाए जाने के चलते मौत हो गई. रविवार रात किरायेदार महिला सिपाही के पति ने मकान मालिक सभासद की पत्नी व बच्चों पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। उर्सला अस्पताल में उपचार के दौरान दोनों बच्चों की मौत हो गई जबकि मां ने भी सोमवार शाम दम तोड़ दिया। वारदात के बाद भाग रहा आरोपी एक ट्रक से टकरा कर घायल हो गया। सूत्रों के अनुसार हैलट अस्पताल में इलाज के बाद आरोपी को गजनेर थाने में रखा गया है।

Khaskhabar/उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में महिला सिपाही के पति द्वारा मकान मालिक की पत्नी और उनके दो बच्चों की पेट्रोल डालकर आग लगाए जाने के चलते मौत हो गई. रविवार रात किरायेदार महिला सिपाही के पति ने मकान मालिक सभासद की पत्नी व बच्चों पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। उर्सला अस्पताल में उपचार के दौरान
Posted by khaskhabar

पेट्रोल डालकर उनके बच्चों और उनपर पेट्रोल डालकर आग लगा दी

बता दें कि मृतक महिला अर्चना के मकान में महिला सिपाही उषा अपने पति अवनीश के साथ किराए पर रहती थी. रविवार की रात को अर्चना किचन में खाना बना रही थी तभी अवनीश ने अचानक आकर पेट्रोल डालकर उनके बच्चों और उनपर पेट्रोल डालकर आग लगा दी थी.तीनों घायलों को कानपुर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था जहां मंगलवार को तीनों की मौत हो गई.

नौकरी और संतान न होने से अवसाद में भी था

घटना की वजह अभी स्पष्ट नहीं हो सकी है। आरोपी की हरकतें कुछ दिनों से सामान्य नहीं थीं। वह अकेले बैठकर खुद से बातें करता रहता था। नौकरी और संतान न होने से अवसाद में भी था। आरोपी ने मकान में खड़ी सभासद की स्कार्पियो कार को भी जलाने की कोशिश की। अकबरपुर नेहरू नगर के निर्दलीय सभासद जितेंद्र यादव के मकान में फूलपुर प्रयागराज निवासी सिपाही ऊषा पति अवनीश प्रजापति के साथ करीब तीन साल से किराये पर रहती है।

चीख-पुकार सुनकर परिजन और पड़ोसी दौड़े

ऊषा की अकबरपुर कोतवाली में तैनाती है। रविवार रात वह ड्यूटी पर थी। इसी दौरान उसके पति अवनीश ने मकान मालिक जितेंद्र यादव की पत्नी अर्चना (32), बेटी अक्षिता (5) व बेटे हनू (18 माह) पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। चीख-पुकार सुनकर परिजन और पड़ोसी दौड़े और आग बुझाकर तीनों को पास के नर्सिंग होम ले गए। वहां से तीनों को उर्सला अस्पताल रेफर कर दिया गया। वहां दोनों बच्चों की मौत हो गई, मां ने शाम को दम तोड़ दिया। घटना की जानकारी पर डीएम डॉ. दिनेश चंद्र, एसपी केशव कुमार चौधरी पुलिस के साथ पहुंचे और परिजनों से घटना के संबंध में जानकारी ली।

यह भी पढ़े—म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर की गई फायरिंग,18 लोगों की मौत

दोनों परिवारों के बीच कभी कहासुनी तक नहीं हुई

इधर, घटना के बाद भाग रहा आरोपी अवनीश एक ट्रक से टकरा कर घायल हो गया। सभासद की पत्नी अर्चना कस्बे के प्राथमिक विद्यालय तृतीय रामगंज में सहायक शिक्षक हैं। अन्य किरायेदारों ने बताया कि दोनों परिवारों के बीच कभी कहासुनी तक नहीं हुई। अवनीश ने इतना बड़ा कदम क्यों उठा लिया किसी को समझ नहीं आ रहा है। कोतवाल तुलसीराम पांडेय ने बताया कि दोनों बच्चों के शवों का पोस्टमार्टम करा दिया गया है। अभी तक सभासद की तरफ से तहरीर नहीं मिली है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|