China Military Drill: China laid siege to Taiwan with these hi-tech weapons
दुनिया

China Military Drill: चीन ने इन हाईटेक हथियारों से की Taiwan की घेराबंदी,लाइव मिलिट्री ड्रिल किया शुरू

khaskhabar/अमेरिकी स्पीकर नैंसी पेलोसी (Nancy Pelosi) के ताइवान पहुंचने से नाराज चीन ने ताइवान की खाड़ी में लाइव मिलिट्री ड्रिल यानी युद्धाभ्यास शुरू कर दिया है . इसमें उसने अपने सबसे बड़े विमानवाहक जंगीपोत, परमाणु हथियार संपन्न सुपरसोनिक बैलिस्टिक मिसाइल, स्टेल्थ फाइटर जेट्स, निगरानी और जासूसी वाले विमानों के साथ एंटी-एयरक्राफ्ट गन्स और हमलावर युद्धक पोत का प्रदर्शन किया है.

khaskhabar/अमेरिकी स्पीकर नैंसी पेलोसी (Nancy Pelosi) के ताइवान पहुंचने से नाराज चीन ने ताइवान की खाड़ी में लाइव मिलिट्री ड्रिल यानी युद्धाभ्यास शुरू कर दिया है .
Military vehicles carrying DF-17 missiles participate in a military parade at Tiananmen Square in Beijing on October 1, 2019, to mark the 70th anniversary of the founding of the People’s Republic of China. (Photo by GREG BAKER / AFP)

चीन का DF-17 मिसाइल में कम ऊंचाई में उड़ने की क्षमता

आइए जानते हैं कि चीन इसमिलिट्री ड्रिल में कौन-कौन से हथियारों का उपयोग कर रहा है. चीन का DF-17 मिसाइल में कम ऊंचाई में उड़ने की क्षमता है. वैसे तो यह बैलिस्टिक मिसाइल है पर हाइपरसोनिक हथियार की तरह भी काम कर सकता है, क्योंकि उसका अगला हिस्सा ग्लाइडर की तरह बनाया गया है. उसके अगले हिस्से में विंग्स है, जो उसे कम ऊंचाई पर ग्लाइड करने की ताकत प्रदान करते हैं.

1800-2500 किलोमीटर की रेंज में आने वाले टारगेट को बर्बाद कर सकता

यह 1800-2500 किलोमीटर की रेंज में आने वाले टारगेट को बर्बाद कर सकता है. इसकी लंबाई 36 फीट है. वैसे चीन ने इसकी गति का खुलासा नहीं किया है लेकिन यह 6000 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से उड़ सकता है.

चीन ने इसे अमेरिकी एफ-22 और सू-57 से टक्कर लेने के लिए बनाया

चीन का पहला पांचवीं पीढ़ी का फाइटर जेट. इसे जे-20 माइटी ड्रैगन भी बुलाते हैं. यह बेहद भारी और ताकतवर लड़ाकू विमान है. चीन ने इसे अमेरिकी एफ-22 और सू-57 से टक्कर लेने के लिए बनाया है. इसे एक ही पायलट उड़ाता है. लंबाई 69.7 फीट, विंगस्पैन 42.8 फीट और ऊंचाई 15.5 फीट है.

कॉम्बैट रेंज 2000 KM है. ऑपरेशनल रेंज 5500 KM

बिना हथियार और ईंधन के इसका वजन 17 हजार KG है. अधिकतम गति 2450 KM/घंटा है. कॉम्बैट रेंज 2000 KM है. ऑपरेशनल रेंज 5500 KM है. अधिकतम 66 हजार फीट की ऊंचाई तक जा सकता है. इसमें छह तरीके की मिसाइलें अंदर की तरफ लगाई जा सकती हैं. चार हार्डप्वाइंट्स विंग्स पाइलॉन्स में हैं. 

इसके अलावा 6 तरीके के गाइडेड बम लगाए जा सकते हैं

रूस में बनी सुखोई सू-30, सू-35, सू-37 और चीनी शेनयांग जे-16, ये सभी सू-27 के प्लेटफॉर्म पर बने हैं. ये 4.5 पीढ़ी का फाइटर जेट है. इसे 1 पायलट उड़ाता लंबाई 71.10 फीट, विंगस्पैन 50.2 फीट और ऊंचाई 19.4 फीट है. इसकी गति 2400 KM/घंटा है. इसकी रेंज 3600 KM है. जबकि कॉम्बैट रेंज 1600 KM है. यह अधिकतम 59 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है. इसमें 30 मिमी की ऑटोकैनन लगी है, जो 150 राउंड प्रति मिनट फायर करती है. इसमें 12 हार्डप्वाइंट्स होते हैं, जिसमें एयर-टू-एयर, एयर-टू-सरफेस, एंटी-शिप, एंटी-रेडिएशन मिसाइल लगाई जा सकती है. इसके अलावा 6 तरीके के गाइडेड बम लगाए जा सकते हैं. यानी दुश्मन की मौत पक्की.

मिलिट्री ड्रिल अधिकतम 44 लड़ाकू विमान अपने ऊपर लेकर चल सकता है

चीन का दूसरा स्वदेशी एयरक्राफ्ट करियर जो STOBAR यानी शॉर्ट टेकऑफ बट अरेस्टेड रिकवरी सिस्टम पर काम करता है. यह बेहद अत्याधुनिक है. यह 305 मीटर लंबा है. इसकी बीम 75 मीटर की है. इसका डिस्प्लेसमेंट 70 हजार टन है. यह अधिकतम 44 लड़ाकू विमान अपने ऊपर लेकर चल सकता है. कहा जाता है कि इस विमानवाहक पोत वर्तमान दुनिया के सबसे घातक हथियार लगाए गए हैं. लेकिन चीन ने इसकी जानकारी साझा नहीं की है.

यह भी पढ़े —‘हिंदी सिनेमा खत्म…’, साउथ सिनेमा के सामने क्यों फीका पड़ा बॉलीवुड? आलिया भट्ट ने बताया

पीपुल्स लिबरेशन ऑर्मी नेवी का यह टाइप 001 एयरक्राफ्ट करियर दुनिया का चौथा सबसे बड़ा पोत

चीन की पीपुल्स लिबरेशन ऑर्मी नेवी का यह टाइप 001 एयरक्राफ्ट करियर दुनिया का चौथा सबसे बड़ा पोत है. पहले इसे कुजनेतसोव क्लास एयरक्राफ्ट के रूप में विकसित करने की योजना थी लेकिन बाद में इसे चीन ने अपने हिसाब से बनाया. यह 304.5 मीटर लंबा है. इसकी बीम 75 मीटर की है. इसका मिलिट्री ड्रिल डिस्प्लेसमेंट 58 हजार टन है.यह अपने ऊपर 50 एयरक्राफ्ट और हेलिकॉप्टर्स लेकर समुद्र में चल सकता है.

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |