Chandrayaan-2's orbit in the Moon's orbit completed two years, more than 9,000 orbits completed
राष्ट्रीय

चंद्रमा की कक्षा में चंद्रयान-2 की परिक्रमा शुरू होने के दो साल पूरे,9,000 से ज्यादा परिक्रमा पूरी

Khaskhabar/चंद्रमा की कक्षा में चंद्रयान-2 की परिक्रमा शुरू होने के दो साल पूरे होने पर इसरो सोमवार से दो दिवसीय ‘चंद्र विज्ञान कार्यशाला, 2021’ का आयोजन कर रहा है। अपने उद्घाटन भाषण में इसरो के चेयरमैन के. सिवन ने बताया कि चंद्रयान-2 पर लगे आठ उपकरण चंद्रमा की सतह से करीब 100 किलोमीटर की ऊंचाई से उसका आब्जरवेशन कर रहे हैं। 

Khaskhabar/चंद्रमा की कक्षा में चंद्रयान-2 की परिक्रमा शुरू होने के दो साल पूरे होने पर इसरो सोमवार से दो दिवसीय 'चंद्र विज्ञान कार्यशाला, 2021' का आयोजन
Posted by khaskhabar

वैज्ञानिक डाटा को अकादमियों और संस्थानों द्वारा विश्लेषण के लिए उपलब्ध कराया जा रहा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने सोमवार को बताया कि भारतीय अंतरिक्ष यान ‘चंद्रयान-2’ ने चंद्रमा की 9,000 से ज्यादा परिक्रमा पूरी कर ली हैं और उस पर लगे वैज्ञानिक उपकरणों ने बेहद उत्साहजनक डाटा उपलब्ध कराए हैं।इसरो के मुताबिक, इस मौके पर सिवन ने चंद्रयान-2 पर लगे उपकरणों के डाटा के साथ-साथ डाटा के नतीजे और वैज्ञानिक दस्तावेज जारी किए। संगठन ने कहा, ‘इसके वैज्ञानिक डाटा को अकादमियों और संस्थानों द्वारा विश्लेषण के लिए उपलब्ध कराया जा रहा है ताकि चंद्रयान-2 मिशन में अधिक भागीदारी के जरिये ज्यादा से ज्यादा वैज्ञानिक निष्कर्ष सामने आ सकें।’

कार्यशाला की उसकी वेबसाइट और फेसबुक पेज पर लाइव स्ट्रीमिंग की जा रही

‘चंद्रयान-2 की प्रोजेक्ट डायरेक्टर वनीथा एम. ने कहा कि इसकी सभी उप-प्रणालियां ठीक ढंग से काम कर रही हैं। उम्मीद है कि इससे कई और वर्षो तक अच्छे डाटा मिल सकेंगे। बता दें कि इसरो की इस कार्यशाला की उसकी वेबसाइट और फेसबुक पेज पर लाइव स्ट्रीमिंग की जा रही है।सिवन ने कहा कि उन्होंने वैज्ञानिक परिणामों की समीक्षा की है और उन्हें बेहद उत्साहजनक पाया है।

यह भी पढ़े —तमाम मुल्‍कों में टीकाकरण के बावजूद नहीं हो रही कोरोना के मामले में कमी,अमेरिका में एमयू वैरिएंट

‘चंद्रयान-2 के उपकरणों में वास्तव में कई नए फीचर जोड़े गए

इसरो में एपेक्स साइंस बोर्ड के वर्तमान चेयरमैन और इसरो के पूर्व चेयरमैन एएस किरण कुमार ने कहा कि चंद्रयान-2 पर लगे इमेजिंग एवं वैज्ञानिक उपकरण शानदार डाटा उपलब्ध करा रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘चंद्रयान-2 के उपकरणों में वास्तव में कई नए फीचर जोड़े गए हैं जिसने चंद्रयान-1 द्वारा किए गए आब्जरवेशन को नई और अधिक ऊंचाई पर पहुंचाया है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|