chamoli-indo-china-border-news-of-glacier-burst-in-chamolis-sumna
राष्ट्रीय

चीन सीमा से सटे चमोली की मलारी घाटी में टूटा हिमखंड,टीम मौके के लिए रवाना; अलर्ट जारी

Khaskhabar/उत्तराखंड के चमोली जिले की मलारी घाटी में चीन सीमा के पास हिमखंड टूटने की सूचना है। क्षेत्र में सड़क निर्माण का कार्य चल रहा है। फिलहाल नुकसान के बारे में कुछ पता नहीं चल पाया है। जोशीमठ से सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की एक टीम मौके के लिए रवाना हो गई है। लगातार हो रही बारिश और बर्फबारी के कारण टीम को यहां पहुंचने में वक्त लग सकता है। इस इलाके में आबादी नहीं है और सिर्फ सेना की ही आवाजाही रहती है। 

Khaskhabar/उत्तराखंड के चमोली जिले की मलारी घाटी में चीन सीमा के पास हिमखंड टूटने की सूचना है। क्षेत्र में सड़क निर्माण का कार्य चल रहा है। फिलहाल नुकसान के बारे में कुछ पता नहीं चल पाया है। जोशीमठ से सीमा सड़क संगठन
Posted by khaskhabar

बीआरओ के कमांडर मनीष कपिल के नेतृत्व में टीम मौके के लिए गई

 घटना जोशीमठ से करीब 90 किलोमीटर दूर सुमना नामक स्थान की है। सीमा पर अंतिम चौकी बाड़ाहोती तक यहीं से होकर पहुंचा जाता है। दूरस्थ क्षेत्र होने के कारण यहां संचार नेटवर्क भी नहीं है। चमोली के जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदकिशोर जोशी ने बताया कि बीआरओ के कमांडर मनीष कपिल के नेतृत्व में टीम मौके के लिए गई है। उन्होंने बताया कि उस क्षेत्र में सड़क निर्माण का कार्य चल रहा है।

मुख्यमंत्री तीरथ ने शुक्रवार देर रात खुद ट्वीट कर यह जानकारी दी

 मुख्यमंत्री के निर्देश पर इस मामले को लेकर अलर्ट जारी कर दिया गया। मुख्यमंत्री के मुताबिक वह स्वयं जिला प्रशासन और सीमा सड़क संगठन से लगातार संपर्क बनाए हुए हैं। मुख्यमंत्री तीरथ ने शुक्रवार देर रात खुद ट्वीट कर यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन को हिमखंड टूटने की घटना की पूरी जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। एनटीपीसी और अन्य परियोजनाओं में रात के समय काम रोकने के आदेश दिए गए हैं, ताकि कोई अप्रिय घटना न हो।

गृह मंत्री अमित शाह ने दिया मदद का भरोसा

नीति घाटी में हिमखंड टूटने की जानकारी मिलने के बाद केंद्र सरकार भी सतर्क हो गई है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्य सरकार को पूरी मदद उपलब्ध कराने का भरोसा दिया है।मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के अनुसार उन्होंने शुक्रवार देर रात्रि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को घटना की जानकारी दी। मुख्यमंत्री कार्यालय के मुताबिक गृह मंत्री ने इस घटना का तत्काल संज्ञान लिया और आइटीबीपी को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं ।

तपोवन में रोका गया मलबा हटाने का काम

पिछले दो दिन से चल रही बारिश और बर्फबारी से ऋषिगंगा और धौलीगंगा का जलस्तर बढ़ रहा है। इससे तपोवन और रैणी के साथ छह गांवों के लोग सहमे हुए हैं। बारिश के दौरान तपोवन मे मलबा हटाने का कार्य रोका गया है। ऐसे में आशंका है कि कुछ श्रमिक वहां फंसे हो सकते हैं। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में एक सप्ताह से रुक-रुककर बर्फबारी हो रही है, जबकि दो दिन से यहां लगातार बर्फ गिर रही है। ऐसे में समय लगाना स्वाभाविक है।

यह भी पढ़े –शुरू हुई शनि की उल्टी चाल,23 मई से 11 अक्टूबर तक जानिए आपके जीवन पर क्या होगा असर

बारिश और बर्फबारी से ऋषिगंगा और धौलीगंगा का जलस्तर बढ़ रहा

तपोवन में रोका गया मलबा हटाने का काम पिछले दो दिन से चल रही बारिश और बर्फबारी से ऋषिगंगा और धौलीगंगा का जलस्तर बढ़ रहा है। इससे तपोवन और रैणी के साथ छह गांवों के लोग सहमे हुए हैं। बारिश के दौरान तपोवन मे मलबा हटाने का कार्य रोका गया है। गौरतलब है कि सात फरवरी को ऋषिगंगा में आए उफान में 205 लोग लापता हो गए थे। इनमें से अब तक 79 शव मिल पाए हैं।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|