राष्ट्रीय

विश्व ने जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने के मामले में भारत के नेतृत्व को किया स्वीकार

Khaskhabar/केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि विश्व ने जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने के मामले में भारत के नेतृत्व को स्वीकार किया है। आज राज्यसभा में उन्होंने बताया कि देश वर्ष 2022 तक एक सौ 75 गीगावॉट सौर ऊर्जा के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Khaskhabar/केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि विश्व ने जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने के मामले में भारत के नेतृत्व को स्वीकार किया है। आज राज्यसभा में उन्होंने बताया कि देश वर्ष 2022 तक एक सौ 75 गीगावॉट
Posted by khaskhabar

पेरिस समझौते के तहत उत्सर्जन में कमी के अपने लक्ष्य से देश पहले ही आगे निकल चुका

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि सरकार नवीकरणीय ऊर्जा के साढ़े चार सौ गीगा वॉट के लक्ष्‍य को प्राप्‍त करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने कहा कि पेरिस समझौते के तहत उत्सर्जन में कमी के अपने लक्ष्य से देश पहले ही आगे निकल चुका है। इस वर्ष चमोली जिले में हुए हिमस्खलन के संबंध में उन्होंने कहा कि सरकार ने हाल के वर्षों में ऊपरी गंगा क्षेत्र में किसी भी नई परियोजना को मंजूरी नहीं दी है।

चमोली जिले में हुई आपदा के लिए केवल ग्लोबल वार्मिंग को ही जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि देश में किसी भी जल विद्युत परियोजना को जल शक्ति, पर्यावरण और बिजली मंत्रालय की संयुक्त समीक्षा के बाद ही मंजूरी दी जाती है। उन्होंने कहा कि चमोली जिले में हुई आपदा के लिए केवल ग्लोबल वार्मिंग को ही जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। पर्यावरण मंत्री ने कहा कि तकनीकी समितियां और कई महत्वपूर्ण संस्थान ग्लेशियरों पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव का लगातार अध्ययन कर रहे हैं।

यह भी पढ़े—मोहनलालगंज से बीजेपी सांसद कौशल किशोर की बहू अंकिता ने की आत्महत्या कोशिश,वीडियो हुआ वायरल

उन्होंने कहा कि अपर गंगा क्षेत्र में पहले से मंजूर जल विद्युत परियोजनाओं के अलावा अब ऐसी किसी अन्य परियोजना को इस क्षेत्र में स्वीकृति नहीं दी जा रही है। उन्होंने कहा कि हिमालय पर्वत श्रंखला में जहां पर्वत तोडऩे के लिए डायनामाइट का उपयोग किया जाता है वहां पर्यावरण संरक्षण के लिए बड़ी संख्या में पेड़ लगाये जाते हैं।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|