Bhoomi Samadhi given to Mahant Narendra Giri with Vedic chants, Mahant's last journey from Sangam beach
राष्ट्रीय

वैदिक मंत्रोच्‍चार के साथ महंत नरेंद्र गिरि को दी गई भू समाधि,संगम तट से महंत की अंतिम यात्रा

Khaskhabar/हिंदुत्व के पुरोधाओं में शामिल महंत नरेंद्र गिरि को भू समाधि दे दी गई। बुधवार को पोस्‍टमार्टम के बाद उनका पार्थिव शरीर श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी लाया गया। फूलों से सजे वाहन पर पार्थिव शरीर रखकर अंतिम यात्रा शहर के मार्गों से होकर गंगा, यमुना और अदृश्‍य सरस्‍वती के पावन संगम पहुंची। वहां स्‍नान कराने के बाद बांध स्थित लेटे हनुमान मंदिर फिर वापस श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी ले जाया गया। यहां वैदिक मंत्रोच्‍चार के साथ महंत के पार्थिव शरीर को भू समाधि दी गई।

Khaskhabar/हिंदुत्व के पुरोधाओं में शामिल महंत नरेंद्र गिरि को भू समाधि दे दी गई। बुधवार को पोस्‍टमार्टम के बाद उनका पार्थिव शरीर श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी लाया गया। फूलों से सजे वाहन पर पार्थिव शरीर
Posted by khaskhabar

पार्थिव शरीर को गंगाजल से कराया गया स्‍नान

संगम तट पर महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को गंगाजल से स्‍नान कराया गया। पात्रों में गंगाजल भरकर उनके पार्थिव शरीर को स्‍नान कराया गया। इस दौरान वैदिक मंत्रोच्‍चार का पाठ भी किया गया। संगम तट से महंत की अंतिम यात्रा श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी अल्‍लापुर के लिए रवाना हो गई।

मी‍डिया से बातचीत में उन्‍हाेंने कहा कि हमें एसआइटी पर विश्वास रखना चाहिए

उत्‍तर प्रदेश के उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य महंत नरेंद्र गिरि की अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए बुधवार को प्रयागराज में हैं। इस दौरान मी‍डिया से बातचीत में उन्‍हाेंने कहा कि हमें एसआइटी पर विश्वास रखना चाहिए। न्याय होगा, कोई दोषी बचेगा नहीं। केशव बोले कि रही बात अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष की मौत की बात कि तो जितना मैं उन्हें जनता हूं, उसके आधार पर कह सकता हूं कि महंत जी मजबूत इच्छाशक्ति के व्यक्ति थे। वह आत्महत्या नहीं कर सकते।

फूलों से सजे वाहन में प्रयागराज शहर की सड़कों पर घूमते हुए संगम तट पहुंचा

24 घंटे पहले उन्होंने मुझे प्रसाद दिया। पोहा भी खाने को दिया था, तो समय की कमी के कारण मैंने कहा मुझे इजाजत दें इसे साथ लेकर जाने की। उनकी अनुमति पर मैं पोहा अपने साथ ले गया था। उन्होंने मुझे प्रसाद के तौर पर रुद्राक्ष की माला भी दी थी।महंत नरेंद्र गिरि का पार्थिव शरीर फूलों से सजे वाहन में प्रयागराज शहर की सड़कों पर घूमते हुए संगम तट पहुंचा। संगम तट पर गंगा, यमुना और अदृश्‍य सरस्‍वती के पावन जल से पार्थिव शरीर काे स्‍नान कराया जाएगा। इस अवसर पर हजारों की संख्‍या में श्रद्धालुओं की संगम तट पर भीड़ उमड़ पड़ी है। पुलिस की भी यहां पर्याप्‍त व्‍यवस्‍था है।

पार्थिव शरीर को अल्‍लापुर स्थित श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी ले जाया गया

महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर का पोस्‍टमार्टम हो गया है। पोस्‍टमार्टम के बाद स्‍वरूपरानी नेहरू अस्‍पताल के मॉर्चुरी से फूलों से सजे वाहन पर पूरे सम्‍मान के साथ रखा गया। यहां से पार्थिव शरीर को अल्‍लापुर स्थित श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी ले जाया गया। वहां से संगम ले जाया गया। इस दौरान मार्गों पर भीड़ उमड़ने लगी है। अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए उप्र के उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व साध्‍वी निरंजन भी प्रयागराज पहुंच चुकी हैं।

भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बुधवार को अंतिम विदाई

 संगम स्नान कराने के बाद पार्थिव शरीर को बड़े हनुमानजी मंदिर ले जाएंगे। वहां से फिर श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी लाया जाएगा। महंत नरेंद्र गिरि की अंतिम इच्छा के मुताबिक उनकी समाधि मठ के अंदर दी जाएगी। इसके लिए गड्ढा खोदा जा रहा है। जिलाधिकारी वहां निरीक्षण को पहुंचे।अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बुधवार को अंतिम विदाई दी जाएगी। उनका पार्थिव शरीर पोस्टमार्टम के लिए स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय भेजा गया है।

प्रशासन ने की सुरक्षा की पर्याप्‍त व्‍यवस्‍था

पोस्टमार्टम के बाद पार्थिव शरीर श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी लाया जाएगा। जहां पर महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर का श्रृंगार किया जाएगा। फिर फूलों से सजे वाहन में पार्थिव शरीर को विराजमान करके अंतिम यात्रा निकाली जाएगी। दारागंज होते हुए शव को संगम ले जाया जाएगा।आज पार्थिव शरीर के पोस्‍टमार्टम के लिए स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय की मॉर्चुरी में हो रहा है। इसके लिए प्रशासन ने सुरक्षा की पर्याप्‍त व्‍यवस्‍था की है।

पार्थिव शरीर मंगलवार को आम जन के दर्शन के लिए मठ में रखा गया

सभी रास्तों पर पुलिस ने बैरिकेडिंग कर दी है। वाहन से शव स्‍वरूपरानी नेहरू अस्‍पताल ले जाया जा रहा है। वहां मीडिया कर्मियों की भी भीड़ जुटी है।उल्‍लेखनीय है कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्‍यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का प्रयागराज के अल्‍लापुर स्थित श्रीमठ बाघम्‍बरी गद्दी में फांसी पर लटका शव मिला था। महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर मंगलवार को आम जन के दर्शन के लिए मठ में रखा गया था। 

12 बजे मठ बाघम्‍बरी गद्दी में विधि-विधान से संपन्‍न

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्री महंत नरेंद्र गिरि जी महाराज की समाधि पोस्‍टमार्टम के बाद आज दोपहर करीब 12 बजे मठ बाघम्‍बरी गद्दी में विधि-विधान से संपन्‍न होगी। समाधि की जानकारी अखाड़ा परिषद के महामंत्री महंत हरि गिरि महाराज ने दी। इस दौरान विभिन्‍न अखाड़ों के साधु-संतों के साथ वीआइपी भी मौजूद रहेंगे।

यह भी पढ़े —लगभग डेढ़ साल से बंद चल रही भारत नेपाल सीमा को खोलने के निर्णय पर मुहर

सोमवार रात से ही व्यवस्थाओं को किया जाने लगा था दुरुस्त

मुख्यमंत्री समेत कई वीआइपी मंगलवार को श्री मठ बाघम्बरी गद्दी महंत नरेंद्र गिरि को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। इसे लेकर सोमवार रात से ही व्यवस्थाओं को दुरुस्त किया जाने लगा। प्रयागराज के साथ ही प्रतापगढ़, कौशांबी, फतेहपुर, चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर जनपद से पुलिस फोर्स बुला ली गई थी। एयरपोर्ट से लेकर मठ तक पुलिस का सख्त पहरा था। मठ की तरफ जाने वाली सभी सड़कों को बंद कर दिया गया।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|