Another alternative national highway to connect Jammu and Kashmir with Ladakh will reduce the distance by 200 km
राष्ट्रीय

जम्मू-कश्मीर को लद्दाख से जोड़ने के लिए एक और वैकल्पिक राष्ट्रीय राजमार्ग बनने से 200 किलोमीटर कम होगी दूरी

Khaskhabar/जम्मू-कश्मीर को लद्दाख से जोड़ने के लिए एक और वैकल्पिक मार्ग सुगम होने के साथ सुरक्षा के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण होगा। नया राष्ट्रीय राजमार्ग बनने से न केवल जम्मू कश्मीर और लद्दाख के बीच दूरी 200 किलोमीटर तक कम हो जाएगी। बल्कि चीन के साथ तनाव के बीच वास्तिवक नियंत्रण रेखा पर सेना का साजो सम्मान भी तुरंत पहुंचाना संभव हो जाएगा।

Khaskhabar/जम्मू-कश्मीर को लद्दाख से जोड़ने के लिए एक और वैकल्पिक मार्ग सुगम होने के साथ सुरक्षा के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण होगा। नया राष्ट्रीय राजमार्ग बनने से न केवल जम्मू
Posted by khaskhabar

यह नया वैकल्पिक हाईवे जम्मू संभाग के किश्तवाड़ से जंस्कार-कारगिल तक करीब 400 किलोमीटर होगा। पहले जम्मू से श्रीनगर होते हुए लद्दाख जाना पड़ता था, जिसकी दूरी 600 किलोमीटर से अधिक पड़ती थी।

किश्तवाड़ व पाडर इलाके के लोगों में खुशी की लहर

गौरतलब है कि 24 नवंबर को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने डोडा में एक जनसभा में किश्तवाड़-मचैल-जंस्कार-कारगिल राजमार्ग को भी मंजूरी दी थी। इस पर किश्तवाड़ व पाडर इलाके के लोगों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी थी। लोग वर्षों से इंतजार कर रहे थे। हालांकि इस सड़क के लिए कई बार सर्वे भी हो चुके हैं। किश्तवाड़ में तैनात सेना की विंग बीकन 118 आरसीसी ने सड़क के लिए पूरी योजना आज से दो-तीन साल पहले ही बना दी थी। केंद्र सरकार से अनुमति नहीं मिल रही थी। 

गुलाबगढ़ मचेल से होते हुए 400 किलोमीटर का सफर तय करना पड़ेगा

पहले प्रदेश के अंदर जो भी सरकारें रही उन्होंने भी किश्तवाड़ की अनदेखी की। लोगों का कहना है कि अगर पहले ही इसे अनुमति मिली होती तो आज यह सड़क बन चुकी होती। पूरी लद्दाख में चीन से चल रहे तनाव के बीच यह सड़क अहम भूमिका निभा सकती है क्योंकि जम्मू से किश्तवाड़ से होते हुए गुलाबगढ़ मचेल से होते हुए 400 किलोमीटर का सफर तय करना पड़ेगा और यह सबसे आसान रास्ता है।

इसका एक हिस्सा कारगिल की तरफ भी जाता है

उमाशीला (जंस्कार) से आगे रास्ता पदम से होते हुए हिमाचल प्रदेश के केलांग से भी मिलता है जिसकी दूरी 200 किलोमीटर है। इसका एक हिस्सा कारगिल की तरफ भी जाता है। अगर यह सड़क तैयार होती है तो चंडीगढ़ से बाया केलांग से होते लेह-कारगिल और उमाशीला के रास्ते किश्तवाड़ में पहुंचा जा सकता है।

हमने मंजूरी दे दी है तो हमारा पूरा इलाका खुशी से फूला नहीं समा रहा

मचैल निवासी संजीव शर्मा और राहुल बताते हैं कि पिछले कई वर्षों से इंतजार था कि गुलाबगढ़ से जंस्कार के लिए सड़क को बनाया जाए, लेकिन सिर्फ आश्वासन मिले। अब केंद्रीय सड़क मंत्री नितिन गडकरी ने हाल ही में डोडा में यह एलान किया है कि हमने मंजूरी दे दी है तो हमारा पूरा इलाका खुशी से फूला नहीं समा रहा है। जश्न का माहौल है। 

पूर्व विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री सुनील शर्मा का शुक्रिया अदा कर रहे

हम अपने सांसद और पूर्व विधायक को का शुक्रिया अदा करते हैं। लोग गडकरी का और सांसद डोडा-कठुआ-उधमपुर और पीएमओ में राज्यमंत्री डॉ जितेंद्र्र सिंह तथा पूर्व विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री सुनील शर्मा का शुक्रिया अदा कर रहे हैं क्योंकि इनकी मेहनत से ही मचेल जंस्कार सड़क की मंजूरी मिल रही है।

किश्तवाड़ से जंस्कार कुल 200 किलोमीटर में कई ग्लेशियर भी आएंगे

किश्तवाड़ से गुलाबगढ़ 63 किलोमीटर, गुलाबगढ़ से मचेल 30 किलोमीटर, मचैल से सुनचाम 9 किलोमीटर सुनचांम से भुजवास 10 किलोमीटर दूर है। किश्तवाड़ से जंस्कार कुल 200 किलोमीटर में कई ग्लेशियर भी आएंगे। भुजवास से होते हुए उमाशीला की पहाड़ियों के आगे जंस्कार वैली शुरू हो जाती है। जंस्कार से एक तरफ पदम और वैकल्पिक दूसरी तरफ लेह कारगिल का इलाका पड़ता है। 

यह भी पढ़े —सरकार ने विदेशी यात्रियों पर बढ़ाया पाबंदियों का दायरा,दक्षिण अफ्रीकी वैरिएंट पर है पैनी नजर

मंत्री जितेंद्र सिंह ने पहले ही हिदायत दी है कि इसके जल्द सर्वे करवाए जाएं

डीसी किश्तवाड़ अशोक शर्मा ने कहा कि इस सड़क के लिए केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने पहले ही हिदायत दी है कि इसके जल्द सर्वे करवाए जाएं और तब से ही इस पर काम चल रहा है। केंद्र सरकार द्वारा इसकी मंजूरी मिलने पर काम में और तेजी आ जाएगी। इस वैकल्पिक सड़क के बनने से पाडर का इलाका ही नहीं आसपास के इलाकों में भी विकास होना लाजमी है क्योंकि इस रास्ते पर बहुत सारा पर्यटक आता है। पर्यटक आने से यहां पर खुशहाली होगी और लोगों का कारोबार भी बढ़ेगा।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|